Breaking News :

कोलंबो, टीम इंडिया से बाहर चल रहे धुरंधर बल्लेबाज युवराज सिंह ने कहा है कि वह अब भी असफल हो रहे हैं लेकिन यही असफलता उन्हें एक दिन सफलता दिलाएगी। वर्ष 2011 के विश्वकप में मैन आफ द टूर्नामेंट रहे युवराज पिछले कुछ समय से भारतीय टीम से बाहर चल रहे हैं।युवराज ने अपना पिछला वनडे इस वर्ष जून में वेस्टइंडीज के खिलाफ और पिछला ट्वंटी-20 मैच इस वर्ष फरवरी में इंग्लैंड के खिलाफ बेंगलुरु में खेला था।तब से वह भारतीय टीम से बाहर चल रहे हैं। युवराज ने यहां यूनिसेफ के कार्यक्रम में सोमवार को कहा,“ एक सफल सफल इंसान बनने के लिए आपका असफल होना जरूरी है।मैं असफलता से नहीं डरता।मैंने अपने करियर में ऐसे कई उतार चढ़ाव देखें हैं।मैंने असफलता देखी हैं और यह सफलता का स्तंभ है।”"/> कोलंबो, टीम इंडिया से बाहर चल रहे धुरंधर बल्लेबाज युवराज सिंह ने कहा है कि वह अब भी असफल हो रहे हैं लेकिन यही असफलता उन्हें एक दिन सफलता दिलाएगी। वर्ष 2011 के विश्वकप में मैन आफ द टूर्नामेंट रहे युवराज पिछले कुछ समय से भारतीय टीम से बाहर चल रहे हैं।युवराज ने अपना पिछला वनडे इस वर्ष जून में वेस्टइंडीज के खिलाफ और पिछला ट्वंटी-20 मैच इस वर्ष फरवरी में इंग्लैंड के खिलाफ बेंगलुरु में खेला था।तब से वह भारतीय टीम से बाहर चल रहे हैं। युवराज ने यहां यूनिसेफ के कार्यक्रम में सोमवार को कहा,“ एक सफल सफल इंसान बनने के लिए आपका असफल होना जरूरी है।मैं असफलता से नहीं डरता।मैंने अपने करियर में ऐसे कई उतार चढ़ाव देखें हैं।मैंने असफलता देखी हैं और यह सफलता का स्तंभ है।”"/> कोलंबो, टीम इंडिया से बाहर चल रहे धुरंधर बल्लेबाज युवराज सिंह ने कहा है कि वह अब भी असफल हो रहे हैं लेकिन यही असफलता उन्हें एक दिन सफलता दिलाएगी। वर्ष 2011 के विश्वकप में मैन आफ द टूर्नामेंट रहे युवराज पिछले कुछ समय से भारतीय टीम से बाहर चल रहे हैं।युवराज ने अपना पिछला वनडे इस वर्ष जून में वेस्टइंडीज के खिलाफ और पिछला ट्वंटी-20 मैच इस वर्ष फरवरी में इंग्लैंड के खिलाफ बेंगलुरु में खेला था।तब से वह भारतीय टीम से बाहर चल रहे हैं। युवराज ने यहां यूनिसेफ के कार्यक्रम में सोमवार को कहा,“ एक सफल सफल इंसान बनने के लिए आपका असफल होना जरूरी है।मैं असफलता से नहीं डरता।मैंने अपने करियर में ऐसे कई उतार चढ़ाव देखें हैं।मैंने असफलता देखी हैं और यह सफलता का स्तंभ है।”">

असफलता ही सफलता की सीढ़ी है: युवराज

2017/12/05



कोलंबो, टीम इंडिया से बाहर चल रहे धुरंधर बल्लेबाज युवराज सिंह ने कहा है कि वह अब भी असफल हो रहे हैं लेकिन यही असफलता उन्हें एक दिन सफलता दिलाएगी। वर्ष 2011 के विश्वकप में मैन आफ द टूर्नामेंट रहे युवराज पिछले कुछ समय से भारतीय टीम से बाहर चल रहे हैं।युवराज ने अपना पिछला वनडे इस वर्ष जून में वेस्टइंडीज के खिलाफ और पिछला ट्वंटी-20 मैच इस वर्ष फरवरी में इंग्लैंड के खिलाफ बेंगलुरु में खेला था।तब से वह भारतीय टीम से बाहर चल रहे हैं। युवराज ने यहां यूनिसेफ के कार्यक्रम में सोमवार को कहा,“ एक सफल सफल इंसान बनने के लिए आपका असफल होना जरूरी है।मैं असफलता से नहीं डरता।मैंने अपने करियर में ऐसे कई उतार चढ़ाव देखें हैं।मैंने असफलता देखी हैं और यह सफलता का स्तंभ है।”


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts