Breaking News :

काबुल, अमेरिकी सेना ने अफगानिस्तान में चीन विरोधी आतंकवादियों के खिलाफ हमले किये हैं।अफगानिस्तान में नाटो के नेतृत्व वाले मिशन ने एक बयान जारी कर कल कहा है कि उत्तरी अफगानिस्तान के बदख्शां प्रांत में हमले किये गए जिसमें तालिबान के प्रशिक्षण शिविरों को ध्वस्त किया गया। इन आतंवादियों के द्वारा अफगानिस्तान के अलावा चीन की सीमा क्षेत्र तथा तजाकिस्तान में पूर्वी तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट (ईटीआईएम) को समर्थन किया जाता है। सेना की ओर से हालांकि हमले या हताहतों के बारे में विस्तृत जानकारी नहीं दी गयी है। उन्होंने यह जरूर कहा कि ईटीआईएम के आतंकवादी चीन के अंदर और बाहर हमलों में शामिल रहे हैं। इसके अलावा इस संगठन के आतंकवादियों ने ही किर्गिस्तान में स्थित अमेरिकी दूतावास पर भी 2002 में हमले की साजिश रची थी। गौरतलब है कि हाल ही में चीन ने कहा था कि पश्चिमी देशों को उसके शिनजियांग प्रांत में आतंकवाद की समस्या से निपटाने में मदद करनी चाहिए। माना जा रहा है कि अमेरिका ने चीन के साथ संबंध सुधारने के लिहाज से यह पहल की है।"/> काबुल, अमेरिकी सेना ने अफगानिस्तान में चीन विरोधी आतंकवादियों के खिलाफ हमले किये हैं।अफगानिस्तान में नाटो के नेतृत्व वाले मिशन ने एक बयान जारी कर कल कहा है कि उत्तरी अफगानिस्तान के बदख्शां प्रांत में हमले किये गए जिसमें तालिबान के प्रशिक्षण शिविरों को ध्वस्त किया गया। इन आतंवादियों के द्वारा अफगानिस्तान के अलावा चीन की सीमा क्षेत्र तथा तजाकिस्तान में पूर्वी तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट (ईटीआईएम) को समर्थन किया जाता है। सेना की ओर से हालांकि हमले या हताहतों के बारे में विस्तृत जानकारी नहीं दी गयी है। उन्होंने यह जरूर कहा कि ईटीआईएम के आतंकवादी चीन के अंदर और बाहर हमलों में शामिल रहे हैं। इसके अलावा इस संगठन के आतंकवादियों ने ही किर्गिस्तान में स्थित अमेरिकी दूतावास पर भी 2002 में हमले की साजिश रची थी। गौरतलब है कि हाल ही में चीन ने कहा था कि पश्चिमी देशों को उसके शिनजियांग प्रांत में आतंकवाद की समस्या से निपटाने में मदद करनी चाहिए। माना जा रहा है कि अमेरिका ने चीन के साथ संबंध सुधारने के लिहाज से यह पहल की है।"/> काबुल, अमेरिकी सेना ने अफगानिस्तान में चीन विरोधी आतंकवादियों के खिलाफ हमले किये हैं।अफगानिस्तान में नाटो के नेतृत्व वाले मिशन ने एक बयान जारी कर कल कहा है कि उत्तरी अफगानिस्तान के बदख्शां प्रांत में हमले किये गए जिसमें तालिबान के प्रशिक्षण शिविरों को ध्वस्त किया गया। इन आतंवादियों के द्वारा अफगानिस्तान के अलावा चीन की सीमा क्षेत्र तथा तजाकिस्तान में पूर्वी तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट (ईटीआईएम) को समर्थन किया जाता है। सेना की ओर से हालांकि हमले या हताहतों के बारे में विस्तृत जानकारी नहीं दी गयी है। उन्होंने यह जरूर कहा कि ईटीआईएम के आतंकवादी चीन के अंदर और बाहर हमलों में शामिल रहे हैं। इसके अलावा इस संगठन के आतंकवादियों ने ही किर्गिस्तान में स्थित अमेरिकी दूतावास पर भी 2002 में हमले की साजिश रची थी। गौरतलब है कि हाल ही में चीन ने कहा था कि पश्चिमी देशों को उसके शिनजियांग प्रांत में आतंकवाद की समस्या से निपटाने में मदद करनी चाहिए। माना जा रहा है कि अमेरिका ने चीन के साथ संबंध सुधारने के लिहाज से यह पहल की है।">

अमेरिका ने अफगानिस्तान में हमला किया

2018/02/09



काबुल, अमेरिकी सेना ने अफगानिस्तान में चीन विरोधी आतंकवादियों के खिलाफ हमले किये हैं।अफगानिस्तान में नाटो के नेतृत्व वाले मिशन ने एक बयान जारी कर कल कहा है कि उत्तरी अफगानिस्तान के बदख्शां प्रांत में हमले किये गए जिसमें तालिबान के प्रशिक्षण शिविरों को ध्वस्त किया गया। इन आतंवादियों के द्वारा अफगानिस्तान के अलावा चीन की सीमा क्षेत्र तथा तजाकिस्तान में पूर्वी तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट (ईटीआईएम) को समर्थन किया जाता है। सेना की ओर से हालांकि हमले या हताहतों के बारे में विस्तृत जानकारी नहीं दी गयी है। उन्होंने यह जरूर कहा कि ईटीआईएम के आतंकवादी चीन के अंदर और बाहर हमलों में शामिल रहे हैं। इसके अलावा इस संगठन के आतंकवादियों ने ही किर्गिस्तान में स्थित अमेरिकी दूतावास पर भी 2002 में हमले की साजिश रची थी। गौरतलब है कि हाल ही में चीन ने कहा था कि पश्चिमी देशों को उसके शिनजियांग प्रांत में आतंकवाद की समस्या से निपटाने में मदद करनी चाहिए। माना जा रहा है कि अमेरिका ने चीन के साथ संबंध सुधारने के लिहाज से यह पहल की है।


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts