Breaking News :

दुबई, भारतीय सीनियर टीम के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन का मानना है कि अंडर 19 क्रिकेट विश्वकप का महत्व काफी बढ़ गया है क्योंकि इसमें खेलने वाले अधिकतर खिलाड़ी अपनी सीनियर टीमों का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। अंडर 19 का क्रिकेट विश्वकप अगले वर्ष 13 जनवरी से न्यूजीलैंड में खेला जाएगा।भारत पांच बार इस टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचा है अाैर तीन बार उसने खिताब अपने नाम किया है।आईसीसी ने शिखर के हवाले से कहा,“ अंडर 19 क्रिकेट विश्वकप युवाओं के लिए एक शानदार मंच है जहां उन्हें अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का अनुभव मिलता है। खिलाड़ियों को टूर्नामेंट के माध्यम से न सिर्फ अपनी कमियों को जानना का मौका मिलता है बल्कि उन्हें यह भी पता चलता है कि इसमें कुछ बड़ी चीजें कैसे होती है।” शिखर 2004 के अंडर 19 क्रिकेट विश्वकप में मैन आफ द टूर्नामेंट रहे थे।उन्होंने कहा, “ मुझे लगता है कि टूर्नामेंट का महत्व बढ़ा है क्योंकि इसमें अच्छा प्रदर्शन के बाद ही इतने सारे खिलाड़ी सीनियर टीम में है और कुछ ताे अपनी टीमाें का प्रतिनिधित्व भी कर रहे हैं।अगर हम इसके इतिहास को देखें तो हमें पता चलेगा कि टूर्नामेंट में खेल चुके बहुत से खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय टीम की ओर से खेल रहे हैं। ”"/> दुबई, भारतीय सीनियर टीम के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन का मानना है कि अंडर 19 क्रिकेट विश्वकप का महत्व काफी बढ़ गया है क्योंकि इसमें खेलने वाले अधिकतर खिलाड़ी अपनी सीनियर टीमों का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। अंडर 19 का क्रिकेट विश्वकप अगले वर्ष 13 जनवरी से न्यूजीलैंड में खेला जाएगा।भारत पांच बार इस टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचा है अाैर तीन बार उसने खिताब अपने नाम किया है।आईसीसी ने शिखर के हवाले से कहा,“ अंडर 19 क्रिकेट विश्वकप युवाओं के लिए एक शानदार मंच है जहां उन्हें अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का अनुभव मिलता है। खिलाड़ियों को टूर्नामेंट के माध्यम से न सिर्फ अपनी कमियों को जानना का मौका मिलता है बल्कि उन्हें यह भी पता चलता है कि इसमें कुछ बड़ी चीजें कैसे होती है।” शिखर 2004 के अंडर 19 क्रिकेट विश्वकप में मैन आफ द टूर्नामेंट रहे थे।उन्होंने कहा, “ मुझे लगता है कि टूर्नामेंट का महत्व बढ़ा है क्योंकि इसमें अच्छा प्रदर्शन के बाद ही इतने सारे खिलाड़ी सीनियर टीम में है और कुछ ताे अपनी टीमाें का प्रतिनिधित्व भी कर रहे हैं।अगर हम इसके इतिहास को देखें तो हमें पता चलेगा कि टूर्नामेंट में खेल चुके बहुत से खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय टीम की ओर से खेल रहे हैं। ”"/> दुबई, भारतीय सीनियर टीम के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन का मानना है कि अंडर 19 क्रिकेट विश्वकप का महत्व काफी बढ़ गया है क्योंकि इसमें खेलने वाले अधिकतर खिलाड़ी अपनी सीनियर टीमों का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। अंडर 19 का क्रिकेट विश्वकप अगले वर्ष 13 जनवरी से न्यूजीलैंड में खेला जाएगा।भारत पांच बार इस टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचा है अाैर तीन बार उसने खिताब अपने नाम किया है।आईसीसी ने शिखर के हवाले से कहा,“ अंडर 19 क्रिकेट विश्वकप युवाओं के लिए एक शानदार मंच है जहां उन्हें अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का अनुभव मिलता है। खिलाड़ियों को टूर्नामेंट के माध्यम से न सिर्फ अपनी कमियों को जानना का मौका मिलता है बल्कि उन्हें यह भी पता चलता है कि इसमें कुछ बड़ी चीजें कैसे होती है।” शिखर 2004 के अंडर 19 क्रिकेट विश्वकप में मैन आफ द टूर्नामेंट रहे थे।उन्होंने कहा, “ मुझे लगता है कि टूर्नामेंट का महत्व बढ़ा है क्योंकि इसमें अच्छा प्रदर्शन के बाद ही इतने सारे खिलाड़ी सीनियर टीम में है और कुछ ताे अपनी टीमाें का प्रतिनिधित्व भी कर रहे हैं।अगर हम इसके इतिहास को देखें तो हमें पता चलेगा कि टूर्नामेंट में खेल चुके बहुत से खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय टीम की ओर से खेल रहे हैं। ”">

अंडर-19 विश्वकप की अहमियत बढ़ी: शिखर

2017/12/27



दुबई, भारतीय सीनियर टीम के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन का मानना है कि अंडर 19 क्रिकेट विश्वकप का महत्व काफी बढ़ गया है क्योंकि इसमें खेलने वाले अधिकतर खिलाड़ी अपनी सीनियर टीमों का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। अंडर 19 का क्रिकेट विश्वकप अगले वर्ष 13 जनवरी से न्यूजीलैंड में खेला जाएगा।भारत पांच बार इस टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचा है अाैर तीन बार उसने खिताब अपने नाम किया है।आईसीसी ने शिखर के हवाले से कहा,“ अंडर 19 क्रिकेट विश्वकप युवाओं के लिए एक शानदार मंच है जहां उन्हें अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का अनुभव मिलता है। खिलाड़ियों को टूर्नामेंट के माध्यम से न सिर्फ अपनी कमियों को जानना का मौका मिलता है बल्कि उन्हें यह भी पता चलता है कि इसमें कुछ बड़ी चीजें कैसे होती है।” शिखर 2004 के अंडर 19 क्रिकेट विश्वकप में मैन आफ द टूर्नामेंट रहे थे।उन्होंने कहा, “ मुझे लगता है कि टूर्नामेंट का महत्व बढ़ा है क्योंकि इसमें अच्छा प्रदर्शन के बाद ही इतने सारे खिलाड़ी सीनियर टीम में है और कुछ ताे अपनी टीमाें का प्रतिनिधित्व भी कर रहे हैं।अगर हम इसके इतिहास को देखें तो हमें पता चलेगा कि टूर्नामेंट में खेल चुके बहुत से खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय टीम की ओर से खेल रहे हैं। ”


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts