अभ्यारण्य बगदरा अंचल का पुन: सर्वे कराने सांसद ने पर्यावरण मंत्री को भेजा पत्र


अभ्यारण्य से प्रभावित जो गांव नहीं हैं उन्हें मुक्त कराने के लिए सांसद रीती पाठक का प्रयास शुरू

सिंगरौली: चितरंगी क्षेत्र के दुर्गम व बगदरा अभ्यारण्य क्षेत्र का पुन: सर्वे कराने के लिए सांसद रीती पाठक ने पर्यावरण मंत्री भारत सरकार को एक पत्र लिखी हैं। जिसमें उन्होंने कहा है कि अभ्यारण्य से जो क्षेत्र प्रभावित नहीं हैं उन्हें मुक्त किया जाय।गौरतलब हो कि अभ्यारण्य क्षेत्र के दर्जनों ऐसे गांव हैं जहां दूर-दूर तक वन,पहाड़ नजर नहीं आते और जंगली जानवर भी नहीं दिखाई देते। फिर भी इन गांवों को अभ्यारण्य में शामिल किया गया है। इसी के चलते इन क्षेत्रों का समुचित विकास नहीं हो पा रहा है।

विकास कार्यों में बगदरा अभ्यारण्य रोड़ा बन रहा है। ग्रामीणों की मांग के अनुसार सांसद रीती पाठक ने भारत सरकार के पर्यावरण मंत्री को पत्र लिखते हुए अवगत कराया है कि संसदीय क्षेत्र-11 सीधी के चितरंगी विधानसभा अंतर्गत बगदरा के आस-पास के क्षेत्र अभ्यारण्य में आते हैं कुछ ऐसे ग्राम एवं पंचायतों को इसमें शामिल किया गया है जो अभ्यारण्य से प्रभावित नहीं हैं और अभ्यारण्य से जुड़े होने के कारण इन पंचायतों में मूल भूत सुविधाएं सड़क,बिजली, पानी एवं केन्द्र सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ यहां के ग्रामीणों को नहीं मिल पाता। जहां अभ्यारण्य होना चाहिए वहां होना स्वाभाविक है। सांसद ने इसके लिए कांग्रेस पार्टी को दोषी ठहराते हुए दोबारा सर्वे कराये जाने की मांग की हैं।


नव भारत न्यूज

Next Post

साल 2022 में आम आदमी पार्टी की इन्ट्री एवं गोंगपा का हुआ उदय

Sun Dec 25 , 2022
खट्टी,मिठी यादों के साथ गुजरने जा रहा वर्ष 2022 का साल,भाजपा के लिए खतरे की घण्टी का संकेत, कांग्रेस पार्टी के लिए भी अच्छे संकेत नहीं,भाजपा,कांग्रेस के संगठन में हुआ था फेरबदल सिंगरौली : वर्ष 2022 खट्टी मिठ ी यादों के साथ गुजरने जा रहा है। यह साल आम आदमी […]