महुआ के ‘माचिस’ वाले बयान पर सीतारमण का जोरदार पलटवार


नई दिल्ली(वार्ता) वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने लोकसभा में तृणमूल कांग्रेस की महुआ मित्रा के माचिस वाले बयान पर कड़ा पलटवार करते कहा है कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) चुनाव में जीत हासिल कर लोगों के जीवन में उजाला लाती है जबकि तृणमूल कांग्रेस ने विधान सभा चुनाव जीत कर लोगों के घर जलाए हैं।
श्रीमती सीतारमण ने लोकसभा में 2022-23 के लिए अनुदान की अनुपूरक मांगों के पहले बैच और 2019-20 के लिए अनुदान की अतिरिक्त मांगों पर दो दिन चली चर्चा का जवाब देते हुए बुधवार को कहा ‘सवाल यह नहीं है कि माचिस किसके हाथ में है बल्कि महत्वपूर्ण यह है कि माचिस का इस्तेमाल कैसे करना है।’ लोकतंत्र में जनता जनादेश देकर सरकार को मौका देती है इसलिए जनता को नजरंदाज करने की जरूरत नहीं है।
उन्होंने कहा “केंद्र सरकार ने ‘माचिस’ का उपयोग उज्ज्वला जैसी योजनाएं लाकर लोगों के जीवन में उजाला लाने के लिये किया है जबकि पश्चिम बंगाल में चुनाव में जीत के बाद आगजनी हुई है।
वित्तमंत्री ने यह टिप्पणी तृणमूल कांग्रेस की महुआ मित्रा के सरकार पर मंगलवार को किए हमले के जवाब में की है। तृणमूल सांसद ने चर्चा में हिस्सा लेते हुए मंगलवार को कहा था ‘‘मैं इस सरकार और वित्त मंत्री से अनुरोध करती हूं कि अर्थव्यवस्था को नियंत्रित करें। देश की जनता से मेरा आग्रह है कि जिन्हें इस देश की कमान सौंपी है, उन पर नियंत्रण करें।’ इस दौरान एक शेयर सुनाते हुए उन्होंने कहा था ‘‘सवाल यह नहीं है कि बस्तियां किसने जलाईं, सवाल यह है कि पागल के हाथ में माचिस किसने दी।’
श्रीमती सीतारमण ने आगे कहा की जीत का जश्न कैसे होता है यह भाजपा से सीखने की ज़रूरत है। उन्होंने कहा ” भाजपा ने हाल में गुजरात विधानसभा चुनाव में शानदार विजय प्राप्त की और चुनाव के बाद नई सरकार ने शांतिपूर्ण तरीके से शपथ ग्रहण किया। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव परिणाम आने के बाद क्या हुआ था यह सबने देखा है।”


नव भारत न्यूज

Next Post

संतों ने वसुधैव कुटुम्बकम की अवधारणा को साकार किया है: मोदी

Thu Dec 15 , 2022
अहमदाबाद, (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को कहा कि हमारे संतों ने पूरे विश्व को जोड़ने में महती भूमिका निभाई है और वसुधैव कुटुम्बकम की अवधारणा को साकार किया है। श्री मोदी ने यहां स्वामिनारायण संस्थान के संत प्रमुख स्वामी महाराज के शताब्दी समारोह में कहा कि संत स्वामी […]