बड़े टूर्नामेंट की तैयारी के लिये ज्यादा समय देना जरूरी:रोहित


मेलबर्न,  (वार्ता) भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान रोहित शर्मा ने आईसीसी टी20 विश्व कप 2022 में अपने अभियान की शुरुआत से पहले शनिवार को कहा कि जब टीम किसी बड़े टूर्नामेंट के लिए बाहर जाती है तो तैयारी में अधिक समय देना आवश्यक होता है।

उल्लेखनीय है कि भारत को अपना पहला मैच 23 अक्टूबर को पाकिस्तान के खिलाफ खेलना है लेकिन रोहित की टीम तैयारी के लिए छह अक्टूबर को ही आस्ट्रेलिया आ गयी थी।

रोहित ने माहौल में ढलने के महत्व पर ज़ोर देते हुए कहा, “ यह कुछ ऐसा है जिसके बारे में हम कुछ समय से बात कर रहे हैं।
जब आप बड़े दौरों पर जाते हैं, तो आपको अच्छी तैयारी करने की ज़रूरत होती है, खासकर जब आप भारत से बाहर यात्रा करते हैं।
जिस तरह से आप तैयारी करना चाहते हैं उसे तैयार करने के लिए आपके पास समय होना चाहिए, क्योंकि इसमें समय लगता है।”
भारतीय टीम पिछले साल संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में आयोजित टी20 विश्व कप में भारतीय टीम सेमीफाइनल में जगह बनाने में असफल रही थी।इसका एक मुख्य कारण यह था कि खिलाड़ी यूएई की परिस्थितियों से परिचित नहीं थे और तैयारी के लिये पर्याप्त समय न मिल पाने के कारण पिच की गति को नहीं समझ सके।

रोहित ने कहा, “ बहुत से लोग विदेशी परिस्थितियों में खेलने के अभ्यस्त नहीं हैं, चाहे वह ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ्रीका, इंग्लैंड या न्यूजीलैंड हो।हाथ में समय होना हमेशा अच्छा होता है।
टीम प्रबंधन और बीसीसीआई ने सचेत प्रयास किया कि बड़े टूर्नामेंट में हमारे पास खुद को तैयार करने के लिए समय हो।
पिछले विश्व कप के ठीक बाद ही हाथ में समय रखने की बात शुरू हुई थी।”
भारत ने ऑस्ट्रेलिया आने से पहले घरेलू सरज़मीन पर दक्षिण अफ्रीका के साथ टी20 शृंखला खेली थी और छह अक्टूबर से दोनों देशों के बीच एकदिवसीय शृंखला भी खेली जानी थी।
बीसीसीआई ने निर्णय लिया कि विश्व कप खेलने वाली 15-सदस्यीय स्क्वाड ऑस्ट्रेलिया रवाना होगी जबकि शिखर धवन की अगुवाई में दूसरी टीम दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ एकदिवसीय मैचों में भारत का प्रतिनिधित्व करेगी।

रोहित ने कहा, “ हम जानते थे कि विश्व कप कहाँ हो रहा है।हमने उम्मीद से थोड़ा पहले ऑस्ट्रेलिया जाने का एक बहुत ही सचेत निर्णय लिया क्योंकि हम दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ शृंखला खेलने वाले थे, दुर्भाग्य से हम सभी को तैयारी के लिए चूकना पड़ा।
यह सब कुछ टी20 विश्व कप 2021 के ठीक बाद से हमारे दिमाग में चल रहा था।हम जानते हैं कि तैयारी कितनी महत्वपूर्ण है।
इस टीम के बहुत सारे खिलाड़ी पहले कभी ऑस्ट्रेलिया नहीं आए हैं, इसलिए यह भी एक कारण था कि हम यहां जल्दी आना चाहते थे।”
रोहित ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया आने के बाद पर्थ में खेले गये अभ्यास मैचों ने टीम को परिस्थितियों से परिचित होने में सहायता की।

उन्होंने कहा, “ जाहिर है कि आप पूरे ऑस्ट्रेलिया की यात्रा नहीं कर सकते, लेकिन हमें जो कुछ भी अनुभव मिल सका वह हमने लिया।मुझे लगा कि पर्थ हमारे लिए शुरू करने का सही समय है।हम इन दिनों बहुत सारे आंकड़ों से गुजर रहे हैं कि ऑस्ट्रेलिया में लोग कैसे सफल रहे हैं।
यह हालांकि साल का एक अलग समय है।
ऑस्ट्रेलिया में इस महीने के दौरान बहुत अधिक क्रिकेट नहीं खेला गया है, लेकिन हमारे लिए महत्वपूर्ण था कि ऑस्ट्रेलिया में अक्टूबर-नवंबर से जुड़े कुछ आंकड़े प्राप्त करें।”
रोहित ने यह भी स्वीकार किया कि नौ साल से भारत का कोई आईसीसी टूर्नामेंट न जीतना निराशाजनक रहा है, लेकिन टीम पर किसी तरह का दबाव नहीं है।

उन्होंने कहा, “मैं दबाव नहीं कहना चाहता, लेकिन हमारे लिए आईसीसी टूर्नामेंट में शीर्ष पर आना निश्चित रूप से एक चुनौती है।हमारा प्रदर्शन वैसा नहीं रहा है जैसा हम आईसीसी टूर्नामेंट में दिखाना चाहते हैं, लेकिन मेरा मानना ​​है कि अवसर हमेशा आता है और अब हमारे पास यहां आने और अच्छा प्रदर्शन करने का अवसर है, इसलिए मुझे लगता है कि इसे सही करने के लिए हमें कुछ चीजों पर ध्यान देना होगा।”
उन्होंने कहा, “ हां, अगर मैं गलत नहीं हूं तो नौ साल तक आईसीसी ट्रॉफी नहीं जीतना एक चुनौती है।हमने आखिरी बार 2013 (चैंपियंस ट्रॉफी) में जीत हासिल की थी।यह हमारे जैसी टीम के साथ एक चुनौती रही है।हमसे बहुत सारी उम्मीदें और हम निश्चित रूप से इससे थोड़ा निराश हैं।यह टूर्नामेंट हमें इसे बदलने और अच्छा प्रदर्शन करने का मौका देता है।
हम जानते हैं कि हमें यहां अच्छा प्रदर्शन करने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ क्रिकेट खेलना होगा।”


नव भारत न्यूज

Next Post

इंडेन एलपीजी के 57 वर्ष पूरे

Sun Oct 23 , 2022
नयी दिल्ली (वार्ता) देश की सबसे बड़ी तेल वितरण कंपनी इंडियन ऑयल की अनुषंगी इंडेन एलपीजी ने शनिवार को अपने संचालन के 57 वर्ष पूरे कर लिए हैं इस दिन को हर वर्ष रसोई गैस के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए इंडेन दिवस के रूप में मनाया जाता है। […]