खेत के कुएं में गिरा पेंच पार्क का बाघ, वन विभाग की टीम रेस्क्यू में जुटी



चौरई के ग्राम हरदुआ का मामला –वन अमले की टीम मौके पर मौजूद
छिंदवाड़ा, पूर्व वनमंडल के चौरई क्षेत्र जो कि पेंच पार्क की सीमा से लगा हुआ है वहां पर जंगली जानवरों की चहलकदमी हमेशा देखी जाती है। चौरई क्षेत्र के जंगलों में बाघ की लोकेशन हमेशा मिलती है, जो पार्क सीमा से बाहर आते है। इस बार चौरई क्षेत्र के ग्राम हरदुआ में, जो कि पेंच पार्क के बफर जोन से लगा हुआ गांव है वहां पर गुरुवार की सुबह खेत में बने कुएं में बाघ देखा गया। रात के समय बाघ इस क्षेत्र में आया और कुएं में गिर गया। सुबह ग्रामीणों ने कुएं से बाघ के दहाडऩे की आवाज सुनी तो वे दहशत में आ गए। तुरंत वन अमले को सूचना दी गई।
बताया जा रहा है कि पूर्व जिला पंचायत उपाध्यक्ष बबलू पटेल के खेत में बने कुएं में यह बाघ गिरा है। चौरई रेंज के रेंजर तुलसीराम सनोडिय़ा सूचना के बाद अपने दलबल के साथ ग्राम हरदुआ पहुंचे तथा बाघ को कुएं से निकालने का अभियान शुरू किया। ग्रामीणों को कुएं में बाघ के गिरने की सूचना लगी तो लोगों का पहुंचना वहां शुरु हो गया। वन अमले की सूचना के बाद चौरई पुलिस भी मौके पर पहुंची थी।
चौरई टीआइ शशि विश्वकर्मा ने बताया कि कुएं में बाघ को देखने लोगों का हुजूम लगने लगा था जिसके चलते पुलिस को मौके पर पहुंचकर स्थिति को संभालना पड़ा था। वहीं चौरई वन अमले ने बाघ के कुएं में गिरने की सूचना अपने वरिष्ट अधिकारियों के साथ ही पेंच पार्क प्रबंधन को दे दी थी।
बताया जा रहा है कि पेंच पार्क की टीम बाघ को ट्रेंकुलाइज करके बाहर निकालने की कोशिश में जुटी है। कुएं में मोटर रखने के लिए बने स्टैंड पर यह बाघ बैठा हुआ है। वन अमले के अनुसार यह वयस्क बाघ पेंच पार्क क्षेत्र का है, जो पार्क क्षेत्र से बाहर चौरई के ग्रामों में नजर आता है। मौके पर पहुंचे लोग जब कुएं में झांक रहे है तो बाघ गुस्से से दहाड़ रहा है जिसकी आवास आसपास क्षेत्र तक पहुंच रही है जिसके कारण ग्रामीणों में भी दहशत का माहौल है।


नव भारत न्यूज

Next Post

चंबल में बाढ़ के पानी से घिरे 982 लोगों को सुरक्षित निकाला गया

Fri Aug 26 , 2022
भोपाल,  (वार्ता) मध्यप्रदेश के चंबल अंचल के मुरैना जिले में विगत 24 घण्टों में 982 व्यक्तियों को बचाव दलों द्वारा बाढ़ से सुरक्षित निकाला गया। राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने आज रात यहां बताया कि इसके अलावा 2800 ग्रामीणजनों को सुरक्षित स्थानों पर सुरक्षित तरीके से पहुंचाया गया। मुरैना […]