स्वास्थ्य मंत्री अस्पताल के इन मुद्दों को भी टटोलें,बिना पैसे न इलाज होता न ही कोई काम सरकारी अस्पताल: गरीबों के आपरेशन व जाँचों में भी एजेंटी?


खंडवा: लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी खण्डवा आएंगे तथा 30 मई को राज्यपाल मंगुभाई पटेल के साथ स्थानीय कार्यक्रमों में शामिल होंगे। जिला चिकित्सालय खण्डवा का नाम परिवर्तित कर श्री दादाजी धूनीवाले चिकित्सालय खण्डवा किया गया है। खंडवा में स्वास्थ्य व्यवस्था के हालात खराब हैं। यहां मेडिकल कालेज खुल गया है। 200 करोड़ खर्चा भी हुआ।
करीब सवा सौ एक्सपर्ट डाक्टर व अत्याधुनिक महंगी मशीनें आईं। पूर्व सांसद नंदकुमार चौहान ने अथक प्रयास किए थे। इसके बावजूद खंडवा जिले के लोगों को उपचार के नाम पर क्या मिला? रोज जरा से मामले में इंदौर रेफर का खेल चल रहा है।
मुखिया ही पैसे लेते धराए थे
जिले के स्वास्थ्य प्रमुख सीएमएचओ दो सप्ताह पहले ही लोकायुक्त में ट्रेप हो गए। इससे स्वास्थ्यमंंंंत्री व राज्यपाल खुद अंदाज लगा सकते हैं कि हालात क्या होंगे? सिविल सर्जन डा. जुगतावत तो वर्षों से खंडवा में जमे हैं। प्रमोशन भी यहीं ले लिया। आखिर इस अस्पताल में ऐसा क्या अनुकूल है, जो डाक्टर गोंच की तरह जमे रहना चाहते हैं। मरीजों को ब्लड की सुविधा, जांचें समय पर नहीं मिल पा रही हैं।
धूल खा रहीं करोड़ों की मशीनें
महंगी करोड़ों की मशीनें बंद पड़ी हैं या निजी चिकित्सकों को फायदा दिलाने के लिए इन्हें चालू नही किया जा रहा है। स्वास्थ्यमंत्री को इस पर सीधे खुद ही संज्ञान लेना होगा। उन्हें जनता ने चुना। सौभाग्य से चिकित्सा जैसी महत्वपूर्ण समाजसेवा का मौका मिला। खंडवा के हालात सुधारे जाना चाहिए।
हर जगह भ्रष्टाचार हावी
भ्रष्टाचार इतना हावी है कि बिना पैसों के फाइल ही आगे नहीं बढ़तीं। मरीजों को मिलने वाली गोली दवा से लेकर छोटे कामों में भी लेन-देन हो रहा है। मरीजों के उपचार सरकारी डाक्टर करने में आनाकानी करते हैं। गरीब मरीज का आपरेशन या बड़ी जांच हो तो उससे भी पैसे मांगे जाते हैं। डाक्टर आपरेशन करते ही नहीं। उनके एजेंट मरीजों के परिजनों से खुलेआम पैसे मांग रहे हैं। रोगी कल्याण समिति में पट के लोग रखे जाते हैं। कुछ सदस्य तो ऐसे हैं, जो खुद अस्पताल चला रहे हैं।
राज्यपाल भी आएंगे
बहरहाल, 30 मई को जिला अस्पताल के ए-ब्लॉक में प्रस्तावित सिकल सेल एनीमिया स्क्रीनिंग शिविर का शुभारंभ होगा। राज्यपाल मंगुभाई पटेल शुभारंभ करेंगे। कार्यक्रम की पूर्व तैयारियों के संबंध में कलेक्टर अनूप कुमार सिंह एवं पुलिस अधीक्षक विवेक सिंह ने शनिवार को जिला अस्पताल के ए-ब्लॉक और बी-ब्लॉक का निरीक्षण किया। इस दौरान कलेक्टर ने शिशु वार्ड में बने एकीकृत उपचार केन्द्र का भी निरीक्षण किया गया। सिकल सेल एनीमिया व अन्य रक्त विकारों से संबंधी स्वास्थ्य विभाग एवं आयुष विभाग द्वारा प्रदर्शनी भी लगाई जाएगी।


नव भारत न्यूज

Next Post

कविता को टिकट देकर भाजपा ने ओबीसी को साधा

Mon May 30 , 2022
मिलिंद मुजुमदार इंदौर:हिलाओं के लिए चित्रकूट में आयोजित कार्यशाला में दो बार कविता पाटीदार को वक्ता के रूप में बुलाया है। कविता पाटीदार महू विधानसभा क्षेत्र से दो बार जिला पंचायत के लिए निर्वाचित हो चुकी हैं। 2014 से 2020 तक वे इंदौर जिला पंचायत की अध्यक्ष भी रही हैं। […]