आरोन के शहरोक क्षेत्र में शिकारियों ने पुलिसकर्मियों को गोलियों से भूना, एएसआई सहित तीन शहीद


काले हिरण का शिकार कर रहे थे बदमाश, रात तीन बजे हुई मुठभेड़
मुख्यमंत्री, गृहमंत्री, प्रभारी मंत्री और पंचायत मंत्री ने जताया दुख- कहा ऐसा कार्रवाई होगी कि नजीर बनेगी
कांग्रेस का तंज- शवराज का जंगलराज

गुना। जिले के आरोन थाना क्षेत्र में शनिवार रात जघन्य वारदात को अंजाम दिया गया है। यहां के शहरोक जंगलों में काले हिरण का शिकार कर रहे तीन बदमाशों को रोकने के दौरान एएसआई सहित तीन पुलिसकर्मियों की नृशंसा हत्या कर दी गई। घटना की सूचना मिलने पर कई थानों का पुलिस फोर्स मौके पर भेजा गया है, लेकिन तब तक बदमाश फरार हो चुके थे। मुठभेड़ और पुलिसकर्मियों की मौत का पता चलते गुना मुख्यालय से लेकर भोपाल तक हड़कंप मचा हुआ है। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आपात बैठक बुलाई है। वहीं गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने ऐलान किया है कि कार्रवाई कड़ी होगी। क्षेत्र के प्रभारी मंत्री प्रदुम्न सिंह तोमर, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेंद्र सिंह सिसौदिया ट्वीट कर घटना को लेकर दुख जताया। वहीं कांग्रेस ने इस घटनाक्रम को बेहद दुखद बताते हुए इसे शिवराज का जंगलराज बता दिया।

रात 3 बजे हुई वारदात
बताया गया है कि आरोन थाना क्षेत्र के शहरोक स्थित जंगलों में शिकारियों की सूचना मिलने पर पुलिस की टीम सर्चिंग के लिए पहुंची थी। लगभग ढाई-तीन बजे पुलिस टीम को कुछ लोग एक बोरे में जानवर ले जाते हुई दिखाई दिए, जिन्हें पुलिस ने रोकने का प्रयास किया था। बदमाशों के पास बंदूकें थीं, जिन्होंने पकडऩे जाने के डर से पुलिस पर फायर शुुर कर दिए। अंधाधुध गोलीबारी में मौके पर ही तीन जवान शहीद हो गए। जिनमें एसआई राजकुमार जाटव, प्रधान आरक्षक नीरज भार्गव, सिपाही संतराम मीना शामिल हैं। जबकि एक अन्य व्यक्ति लखन गिरी घायल हुआ है। लखन पुलिस की जीप चलाने वाला निजी ड्राइवर बताया जा रहा है।

पुलिसकर्मियों को कई गोलियां लगाईं
जानकारी सामने आ रही है कि पुलिसकर्मी दो गाडिय़ों में सवार होकर पहुंचे थे। पहले पहुंचने वाले वाहन में सवार पुलिसकर्मी पर बदमाशों ने अंधाधुंध फायर किए। शिकारियों ने अपराध को अंजाम देते समय पुलिसकर्मियों को एक नहीं बल्कि कई गोलियां मारीं। एक ही जवान को चार से अधिक गोली लगने की जानकारी सामने आ रही है।

राघौगढ़ क्षेत्र के बताए जा रहे हैं बदमाश
घटना के बाद जिलेभर का पुलिस हमला बदमाशों की तलाश में जुट गया है। शुरुआती जानकारी के अनुसार सभी बदमाश राघौगढ़ थाना क्षेत्र के बिदोरिया गांव निवासी बताए जा रहे हैं, हालांकि पुलिस अधीक्षक ने इसकी पुष्टि नहीं की है।

अस्पताल में पहुंचे परिजनों का बुरा हाल
हादसे के कुछ ही देर बाद पुलिस की टीमें शहीद जवानों के शव लेकर जिला अस्पताल पहुंची। सूचना मिलने पर अधिकारियों के भी अस्पताल आने का सिलसिला शुरु हो गया था। इसके बाद पुलिसकर्मियों के परिजन भी पहुंचने लगे, जिनका रो-रोककर बुरा हाल हो रहा था। अस्पताल में आए घायल लखन गिरी ने मीडियाकर्मियों को प्रारंभिक जानकारी दी। जिसने बताया कि वह घटना स्थल पर पहुंचने वाली दूसरी गाड़ी में था। उसे कुछ दूर पहले से ही गोलियों की आवाज आ रही थी। नजदीक पहुंचने पर उसे भी एक गोली लगी है। जबकि उसके साथ बैठे एक अन्य व्यक्ति को चोट नहीं आई। वारदात के बाद वह गाड़ी नहीं चला पाया तो दूसरे व्यक्ति ने वाहन चलाकर जिला अस्पताल पहुंचाया।


नव भारत न्यूज

Next Post

आईजी ग्वालियर अनिल शर्मा को गुना प्रकरण में तत्काल प्रभाव से हटाने का निर्णय लिया गया

Sat May 14 , 2022
मुख्यमंत्री चौहान के निर्देश आईजी ग्वालियर अनिल शर्मा को गुना प्रकरण में तत्काल प्रभाव से हटाने का निर्णय लिया गया –मुख्यमंत्री चौहान हमारे पुलिस के मित्रों ने शिकारियों का मुकाबला करते हुए शहादत दी हैं। अपराधियों के खिलाफ ऐसी कार्रवाई होगी, जो इतिहास में उदाहरण बनेगी। अपराधियों की लगभग पहचान […]