विजयवर्गीय को उत्तराखंड की जवाबदारी


सियासत

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय को उत्तराखंड की जवाबदारी दी गई है। उन्होंने वहां का दौरा भी कर लिया है। विजयवर्गीय के पास उत्तराखंड का प्रभार पहले भी रहा है। उत्तराखंड में भाजपा की सरकार बनवाने में विजयवर्गीय का बड़ा रोल था। यह तथ्य बार-बार साबित हुआ है कि चुनावी रणनीति में उनसे माहिर देश में बहुत कम नेता हैं। हरियाणा इसकी मिसाल हैं। हरियाणा में भाजपा कभी सत्तारूढ़ नहीं हो सकी लेकिन श्री विजयवर्गीय ने वहां यह कमाल करके दिखाया। बाबा राम रहीम सच्चा डेरा से उनके संबंध जगजाहिर हैं। सूत्रों का तो यह भी कहना है कि पंजाब चुनाव से पहले बाबा राम रहीम को हरियाणा सरकार ने जो पैरोल दिया उसके पीछे विजयवर्गीय की भूमिका है।

सच्चा डेरा पंजाब की राजनीति में बड़ा प्रभाव है खासकर दलितों में उनका आकर्षण बना हुआ है। पंजाब में करीब 60 विधानसभा क्षेत्र ऐसे हैं जहां दलित मतदाता निर्णायक हैं। यही वजह है कि बाबा राम रहीम को पैरोल पर छोड़ने से कांग्रेस परेशान हो गई है। कांग्रेस ने इसे भाजपा की साजिश करार दिया है। बहरहाल, कैलाश विजयवर्गीय की उपयोगिता भाजपा समझती है। विशेषकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा उनकी क्षमताओं को जानते हैं। कैलाशजी का चुनाव में उतरना इस बात को जाहिर करता है कि पार्टी उन्हें कितनी गंभीरता से लेती है।

बाकलीवाल की योजना पसंद आई

विनय बाकलीवाल का भले ही कांग्रेस के विधायक विरोध करते हों या उन्हें पसंद नहीं करते हों लेकिन उनकी क्षमताओं के बारे में कांग्रेस में अधिकांश लोगों को मालूम है कि वे बेहद सक्रिय नेता हैं। पिछले कुछ दिनों से खबरें चल रही थी कि कमलनाथ कैंप में उनको पसंद नहीं किया जा रहा है। कमलनाथ नगर की टीम को गठित करने के लिए विनय बाकलीवाल को फ्री हैंड नहीं दे रहे हैं लेकिन सदस्यता अभियान में विनय बाकलीवाल ने जिस तरह से इनोवेशन किया और सदस्यता को डिजिटल बनाया उससे कमलनाथ प्रसन्न है। इंदौर शहर में डिजिटल माध्यम से सदस्यता अभियान चलाया जा रहा है।

इस मॉडल को कांग्रेस प्रदेश के सभी जिलों में लागू करेगी। इस संबंध में सदस्यता प्रभारी राकेश सिंह यादव ने एलान कर दिया है। दरअसल, सदस्यता अभियान को लेकर कांग्रेस को दिक्कत थी। बीच में तो यह अभियान एक तरह से ठप पड़ गया था लेकिन इंदौर नगर में विनय बाकलीवाल ने इसे नई पद्धति से प्रारंभ किया जिसका लाभ पार्टी को मिला है। इस मामले में अब विनय बाकलीवाल की प्रशंसा हो रही है। यह देखना होगा कि आने वाले समय में बाकलीवाल अपनी टीम गठित कर पाते हैं या नहीं !


नव भारत न्यूज

Next Post

आकांक्षी विकासखण्डों के विकास के लिए नई रणनीति से प्रयास करें: प्रमुख सचिव

Fri Feb 11 , 2022
रीवा:  कलेक्ट्रेट सभागार में आकांक्षी विकासखण्ड योजना में शामिल सिरमौर तथा जवा विकासखण्ड की समीक्षा बैठक आयोजित की गई. बैठक की अध्यक्षता प्रदेश स्तरीय नोडल अधिकारी एवं प्रमुख सचिव वन अशोक वर्णवाल ने की. प्रमुख सचिव ने कहा कि आकांक्षी विकासखण्डों में शिक्षा, स्वास्थ्य, कृषि, अधोसंरचना विकास, महिलाओं एवं शिशुओं […]