जीत के बाद भाजपा कार्यकर्ताओं मनाया जश्न, आतिशबाजी की, डीजे पर नाचे


सुबह से ही नजर आ रहा था उत्साह, कांग्रेसियों के चेहरों पर छाई रही मायूसी

इंदौर: जिले में विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का पत्ता साफ हो गया है. भाजपा ने जिले की सभी नौ सीटों पर कब्जा कर लिया. जबकि पिछले चुनाव में विस-1, राऊ और देपालपुर की सीट कांग्रेस के पास थी. इस प्रचंड जीत का भाजपा कार्यकर्ताओं ने जश्न मनाया. डीजे की धुन पर नाचे भी और जमकर आतिशबाजी की.विधानसभा चुनाव को लेकर रविवार सुबह तक असमंजस की स्थिति थी. सबकी अपनी जीत के कयास थे. जब सुबह मतगणना शुरू हुई और शुरू से ही नौ विधानसभा सीटों पर भाजपा को बढ़त मिली. बढ़त मिलने के साथ ही कार्यकर्ताओं में उत्साह नजर आया. जैसे-जैसे प्रत्याशियों को बढ़त मिलती रही, वैसे-वैसे वहां कार्यकर्ताओं की भीड़ बढ़ती गई. वहीं कांग्रेस कार्यकर्ता मतगणना स्थल के बाहर कोने में मायूस चेहरे के साथ खड़े रहे. कांग्रेस प्रत्याशी दोपहर 12 बजे तो मतगणना स्थल पर रहे.

लेकिन जैसे-जैसे परिणाम आते रहे वे मतगणना स्थल से रवाना हो गए. सभी के चेहरे पर मायूसी नजर आई. पिंटू जोशी, राजा मंधवानी, संजय शुक्ला और जीतू पटवारी मतगणना स्थल पर मौजूद रहे. लेकिन बढ़त न मिलने पर सभी वहां से रवाना हो गए. सभी ने इसे जनता का निर्णय मानकर हार को स्वीकर किया. इधर, भाजपा के कार्यकर्ताओं की भीड़ सड़क के दोनों तरफ नजर आई. वहीं दोपहर 12 बजे से ही मतणगना स्थल के सामने स्थित भाजपा कार्यालय पर भी जीत का जश्न मनना शुरू हो गया था. यहां ढोल पर कार्यकर्ता थिरकते हुए नजर आ रहे थे. चुनाव परिणाम आने के बाद कार्यकर्ताओं का उत्साह और भीड़ दोगुनी हो गई थी. समर्थकों ने डीजे की गाड़ियों बुलवा ली और उसके साथ ही वे सड़कों पर थिरकते हुए नजर आए.

लाड़ली बहना योजना को बताया कारण
जैसे-जैसे परिणाम भाजपा के पक्ष में जा रहे थे स्टेडियम के बाहर खड़े दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं के बीच इसी बात की चर्चा थी कि यह चुनाव भाजपा लाड़ली बहना योजना के कारण जीती है. वहीं कई लोग तो यह भी कहते हुए नजर आए कि घर की महिलाओं ने भी इस बार भाजपा को ही वोट दिया है.

मोबाइल देखते रहे कार्यकर्ता
मतगणना के दौरान बाहर खड़े कार्यकर्ताओं की पूरी निगाह मोबाइल पर टिकी रही. वे पूरे समय वाट्सएप ग्रुप और मीडिया की वेबसाइट को देखते रहे. बार-बार फोन लगाकर जानकारी जुटाते रहे और फिर अन्य को देते रहे. मतगणना स्थल के बाहर बड़ी संख्या में युवा कार्यकर्ताओं की भीड़ ही नजर आई.

पटवारी समर्थक को किया गिरफ्तार
मतगणना के बीच जब भाजपा प्रत्याशी मधु वर्मा करीब 13 हजार मतों से आगे चल रहे थे, तभी वहां कांग्रेस कार्यकर्ता भी एकजुट हो गए. वे जीतू पटवारी के समर्थन में जीत का दावा करते हुए नारे लगाने लगे. इधर नारे सुन भाजपा के कार्यकर्ता भी सामने आ गए और वे भी जमकर नारेबाजी करने लगे. तभी एक कार से भाजपा समर्थक पार्टी का झंडा लहराते हुए मतगणना स्थल के बाहर से निकल रहे थे, तभी कांग्रेस कार्यकर्ता कार के सामने आ गया और जमकर नारेबाजी करने लगे. इसके बाद पुलिस ने विवाद की स्थिति संभालने के लिए हल्का बल प्रयोग किया और कार्यकर्ता को पकड़कर वाहन में बैठाकर ले गए.

कुछ देर के लिए रूकी मतगणना
इंदौर विधानसभा पांच में मतगणना कुछ देर के लिए रूक गई. कांग्रेस ने फार्म 17सी में गड़बड़ी पकड़ी. 10वें दौर के बाद अभिमत पत्र पर सील और अधिकारी और लिखावट में मूल और फोटो कॉपी में अंतर होने पर आपत्ती जताई. कुछ देर बाद पुनः मतगणना शुरू की गई.

स्थिति को समझेंगेऔर फिर लड़ेंगे- जीतू पटवारी
जीतू पटवारी परिणाम पर बोले यह लोकतंत्र हैं, चुनाव में हार जीत चलती रहती है. जनता सिर्फ़ पांच साल के लिए ही चुनती हैं। स्थिति को समझेंगे, काम करेंगे और फिर लड़ेंगे. कांग्रेस नेता संजय शुक्ला बोले जनता का निर्णय मान्य है. आगे समझेंगे.

कांग्रेस खेमे में दिखी निराशा
विधानसभा निर्वाचन 2023 में इंदौर की करीब सभी नौ सीटों पर भाजपा के एकतरफा बढ़त रूझान के बाद कांग्रेस के खेमे में निराशा है. इस निराशा के बीच कांग्रेस के शीर्ष नेता संजय शुक्ला और जीतू पटवारी घर लौट गए.
चिंटू चौकसे अपने ही बूथ से 284 मतों से हारे.

अधिकांशी सीटों पर शुरू से रही बढ़त
इंदौर एक नंबर सीट पर कांटे की टक्कर बताई जा रही थी, लेकिन पहले राउंड से भाजपा उम्मीदवार कैलाश विजयवर्गीय ने 5 हजार से ज्यादा वोटों की बढ़त बनाई. किसी भी राउंड में उनकी लीड कम नहीं हुई.दो नंबर विधानसभा सीट पर भाजपा उम्मीदवार रमेश मेंदौला ने भी पहले राउंड से 4 हजार वोटों की बढ़त ली. राउंड दर राउंड उनकी लीड बढ़ती गई और 18 वें राउंड तक उनकी लीड 1 लाख वोटों को पार कर चुकी थी.तीन नंबर विधानसभा सीट पर शुरूआती दौर में कांग्रेस के पिंटू जोशी आगे रहे, लेकिन तीसरे राउंड में उनकी लीड खपने लगी और वे भाजपा उम्मीदवार गोलू शुक्ला से पिछड़ते नजर आए.

चार नंबर विधानसभा पर भाजपा उम्मीदवार मालिनी गौड़ ने लगातार जीत की तरफ बढ़ने का सिलसिला कायम रखा. पांच नंबर विधनासभा सीट कर कांटे की टक्कर रही. शुरुआती 6 राउंड में भाजपा के महेंद्र हार्डिया ने 10 हजार से ज्यादा वोटों की बढ़त ली, लेकिन छठे राउंड के बाद उनकी बढ़त कम हो गई. लेकिन 11 वे राउंड में हार्डिया ने बढ़त बनाई और जीत गए. राऊ विधानसभा में भाजपा उम्मीदवार मधु वर्मा पहले राउंड से आगे रहे. इस विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस प्रत्याशी जीतू पटवारी गृह वार्ड बिजलपुर भी नहीं जीत पाए. देपालपुर सीट पर भी दोनो उम्मीदवारों के बीच वोटों की रेस चलती रही. पहले कांग्रेस उम्मीदवार विशाल पटेल आगे रहे, लेकिन बाद में भाजपा उम्मीदवार मनोज पटेल ने बढ़त बना ली. महू विधनासभा सीट पर त्रिकोणीय मुकाबला रहा. यहां भाजपा उम्मीदवार उषा ठाकुर ने 20 वें राउंड में 34, 720 वोटों से आगे थी.


नव भारत न्यूज

Next Post

सिलावट ने लगाई सांवेर में जीत की हेट्रिक , अपना ही रिकार्ड तोड़ रचा इतिहास

Mon Dec 4 , 2023
भाजपा में जश्न का माहौल , करारी हार से कांग्रेस में पसरा मातम सांवेर: सांवेर विधानसभा क्षेत्र से मंत्री तुलसी सिलावट ने पिछले उपचुनाव में हुई अपनी ही बंपर जीत का रिकार्ड तोड़ते हुए सांवेर में अपनी जीत की हेट्रिक बनाई है. सिलावट पिछली बार तीन साल पहले हुए उपचुनाव […]