इंदौर में खिला कमल, कांग्रेस का पूर्ण सफाया


इंदौर: जिले की सभी नौ विधानसभा सीटों पर भाजपा प्रत्याशियों ने जीत दर्ज की है। इसी के साथ कांग्रेस का जिले में पूर्ण सफाया हो गया है। सांसद जिला पंचायत और महापौर के चुनाव के बाद भाजपा ने इंदौर में विधानसभा चुनाव में भी क्लीन स्वीप हासिल किया.इंदौर 02 से बीजेपी प्रत्याशी रमेश मेंदोला ने तो जीत का रिकॉर्ड बना दिया है. उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के चिंटू चौकसे को 1 लाख 7 हजार वोटों से पराजित किया।प्रदेश में यह सबसे बड़ी जीत है.दूसरी बड़ी जीत इंदौर 04 से बीजेपी प्रत्याशी और वर्तमान विधायक मालिनी गौड़ की हुई. उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी राजा मांधवानी को 69837 मतों से शिकस्त दी.

प्रदेश और देश की चर्चित सीट इंदौर 1 से बीजेपी प्रत्याशी राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय 57 हजार 719 मतों से विजयी हुए. उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी संजय शुक्ला को हराया. इस सीट पर देशभर की निगाहें टिकी हुई थीं. कड़ी टक्कर की उम्मीद की जा रही थी लेकिन विजयवर्गीय ने आसान जीत दर्ज की. उन्होंने शुरू से ही बढ़त बनाए रखी. इंदौर तीन के बीजेपी प्रत्याशी गोलू शुक्ला ने शुरुआती दौर में पिछड़ने के बाद बढ़त बनाई और अंततः 14 हजार 757 मतों से चुनाव जीत गए. इंदौर पांच में बढ़त बनाकर चल रहे बीजेपी प्रत्याशी महेंद्र हार्डिया बीच में पिछड़ गए थे. कांग्रेस प्रत्याशी सत्यनारायण पटेल ने उन पर करीब 8 हजार से अधिक मतों की बढ़त ले ली थी पर बाद में महेंद्र हार्डिया फिर आगे बढ़े और सत्यनारायण पटेल को पीछे छोड़ते हुए 28 हजार 622 मतों की बढ़त बना ली. उन्होंने भी देर शाम 15671 मतों से जीत दर्ज कर ली.

उषा ठाकुर दूसरी बार महू से जीती
महू से बीजेपी प्रत्याशी और वर्तमान विधायक उषा ठाकुर दुबारा चुनाव जीत गई हैं. उन्होंने 34 हजार 392 वोटों से विजय हासिल की. उन्हें कांग्रेस के उम्मीदवार रामकिशोर शुक्ला और कांग्रेस छोड़ निर्दलीय चुनाव लड़ें अंतर सिंह दरबार के बीच वोटों के बंटवारे का फायदा मिला.
सांवेर में सिंधिया समर्थक बीजेपी प्रत्याशी, वर्तमान शिवराज सरकार के मंत्री तुलसी सिलावट ने 68,854 मतों से विजय हासिल की. उन्होंने कांग्रेस की रीना सेतिया को हराया।देपालपुर से भी बीजेपी प्रत्याशी मनोज पटेल ने त्रिकोणीय मुकाबले के बावजूद कांग्रेस प्रत्याशी विशाल पटेल को 13,698 मतों से शिकस्त दी. यहां निर्दलीय चुनाव लड़ें राजेंद्र चौधरी ने करीब 38 हजार मत हासिल किए. राऊ विधानसभा में कांग्रेस प्रत्याशी पूर्व मंत्री जीतू पटवारी को हार का सामना करना पड़ा. उन्हें बीजेपी प्रत्याशी मधु वर्मा ने 35522 मतों से करारी शिकस्त दी. बता दें कि 2018 के विधानसभा चुनाव में मधु वर्मा मामूली अंतर से जीतू पटवारी से हार गए थे. इस बार हिसाब बराबर हो गया. कुल मिलाकर बीजेपी ने इंदौर जिले की सभी सीटों पर बीजेपी ने जीत का परचम लहरा दिया है.

1993 में भी किया था सफाया
2003 की तरह 1993 में भी भाजपा ने कांग्रेस का सफाया किया था. हालांकि की उस दौरान राउ विधानसभा अस्तित्व में नहीं थी. उस दौरान इंदौर विस-1 से लालचंद्र मित्तल, विस-2 कैलाश विजयवर्गीय, विस-3 से गोपालकृष्ण नेमा, विस-4 सें लक्ष्मण सिंह गौड़, विस-5 में भंवरसिंह शेखावत, सांवेर से प्रकाश सोनकर, देपालपुर निर्भयसिंह पटेल और महू से भेरूलाल पाटीदार जीते थे.


नव भारत न्यूज

Next Post

जीत के बाद भाजपा कार्यकर्ताओं मनाया जश्न, आतिशबाजी की, डीजे पर नाचे

Mon Dec 4 , 2023
सुबह से ही नजर आ रहा था उत्साह, कांग्रेसियों के चेहरों पर छाई रही मायूसी इंदौर: जिले में विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का पत्ता साफ हो गया है. भाजपा ने जिले की सभी नौ सीटों पर कब्जा कर लिया. जबकि पिछले चुनाव में विस-1, राऊ और देपालपुर की सीट कांग्रेस […]