एनडीपीएस एक्ट के मामलों की ऐसी विवेचना करें जिससे युवा पीड़ी का भविष्य बरबाद न हो: जयदीप प्रसाद


विवेचकों एवं पर्यवेक्षण अधिकारियों की भूमिका पर प्रशिक्षण कार्यशाला
ग्वालियर:एनडीपीएस एक्ट के अपराधों में गुणात्मक अनुसंधान मेें विवेचकों एवं पर्यवेक्षण अधिकारियों की भूमिका विषय पर प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन मंगलवार को पुलिस कंट्रोल सभागार में किया गया। कार्यशाला का शुभारंभ अति. पुलिस महानिदेशक नारकोटिक्स जयदीप प्रसाद ने किया।कार्यशाला में अति. पुलिस महानिदेशक नारकोटिक्स जयदीप प्रसाद ने कहा कि वर्तमान समय में ड्रग्स के उपयोग से युवा पीढ़ी का भविष्य बर्बाद हो रहा है और इसका प्रभाव परिवार के साथ ही समाज पर भी व्यापक रूप से पड़ रहा है। इसलिए एनडीपीएस के प्रकरणों में विवेचना अधिकारी द्वारा माननीय न्यायालय के निर्देशानुसार प्रक्रिया का पालन किया जाना चाहिए। जिससे आरोपी को न्यायालय से सख्त सजा दिलाई जा सके। उन्होंने कहा पुलिस अधिकारियों को एनडीपीएस संबंधी प्रकरणों की विवेचना काफी गंभीरता से करनी चाहिए क्योंकि कभी-कभी विवेचक द्वारा की गई एक छोटी सी चूक के कारण आरोपी न्यायालय से बरी हो जाता है। इसका प्रमुख कारण अनुसंधान के दौरान विवेचना का स्तर कमजोर होना होता है।

कार्यशाला में अति. पुलिस महानिदेशक डी. श्रीनिवास वर्मा ने कहा कि एनडीपीएस संबंधी प्रकरणों की विवेचना के दौरान पूरी कड़ी को उजागर करना होगा तथा उसके स्रोत तक पहुंचना आवश्यक है। कार्यशाला में एसपी राजेश सिंह चंदेल ने कहा कि विवेचना पुलिस प्रणाली का एक महत्वपूर्ण अंग है इसलिए विवेचक को एनडीपीएस जैसे गंभीर अपराधों का अनुसंधान करते समय एक टीम की तरह कार्य कार्य करना चाहिए और एनडीपीएस प्रकरण के अनुसंधान के दौरान उसकी जड़ तक जाना चाहिए। क्योंकि उसके स्रोत तक पहुंचकर आप उसकी चेन को तोड़ सकते हैं। आप सभी को विवेचना का स्तर उच्चकोटि का रखना चाहिए साथ ही नियम प्रक्रिया का पूर्ण रूप से पालन किया जाना चाहिए, विवेचना का स्तर उच्च कोटि का होन चाहिये।

नवीन कानूनी प्रावधानों की जानकारी जरूरी
कार्यशाला में अति. पुलिस अधीक्षक ऋषीकेश मीणा ने उपस्थित अतिथियों एवं पुलिस अधिकारियो से कहा कि यह एक गंभीर विषय है और वर्तमान समय में पुलिस को तकनीकी रूप से दक्ष होने के साथ ही नवीन कानूनी प्रावधानों की भी जानकारी होना जरूरी है, इसके लिये ही यह प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित की गई है।कार्यक्रम में पुलिस महानिरीक्षक चम्बल जोन सुशांत सक्सेना, डीआईजी चम्बल रेंज कुमार सौरभ, डीआईजी नारकोटिक्स अमित सिंह, पुलिस अधीक्षक नारकोटिक्स डीएस सिंह, एएसपी गजेन्द्र सिंह वर्धमान, निरंजन शर्मा, अखिलेष रैनवाल सहित पुलिस अधिकारी उपस्थित थे।


नव भारत न्यूज

Next Post

30 को कैबिनेट की बैठक

Wed Nov 29 , 2023
भोपाल मतगणना के परिणाम आने से पहले सीएम शिवराज सिंह चौहान ने 30 नवंबर के दिन कैबिनेट की बैठक बुलाई है। सीएम ने यह बैठक चीफ सेक्रेटरी इकबाल सिंह बैस की विदाई के लिए चलते रखी है.