कचरा फेंकने का अड्डा बन गए खुले पड़े प्लाट


वाहनों की पार्किंग के साथ हो रहे अनैतिक गतिविधियां
 
जबलपुर: शहर की कालोनियों में कई जगहों पर खाली प्लाट पड़े हुए हैं। जिसमें लोगों द्वारा इन्वेस्ट करके ऐसे ही छोड़ दिया है। अब उन्हीं खुले और खाली पड़े प्लाटों में कचरा फेंकना और स्थाई रूप से अवैध पार्किंग का अड्डा बना लिया है। इसके अलावा रात के समय यहां अनैतिक गतिविधियों को बढ़ावा भी मिलता है। वही इन खुले हुए प्लाटों में भारी मात्रा में गंदगी इक_ी होने के कारण अनेक प्रकार के जीव- जंतु और मच्छर आदि पैदा होते हैं। जो कॉलोनी में रहने वाले घरों के अंदर घुस जाते हैं,जिससे लोगों को काफी परेशानी भी होती हैं। देखा जाए तो शहर में विभिन्न जगहों पर खाली प्लाट और जगह पड़ी हुई है।

लेकिन विजयनगर क्षेत्र में कॉलोनी के अंदर कुछ ज्यादा ही मात्रा में जगह-जगह खाली प्लाट पड़े हुए हैं। जिनके भू स्वामी इस पर ध्यान नहीं देते हैं जिसके कारण इन खाली प्लाटों में बारिश के समय पानी भर जाने से जंगली घास भी ऊग जाती है । इसके अलावा सडक़ किनारे प्लाटों पर लोगों ने स्थाई रूप से अपने वाहन खड़े करने की जगह बना ली है। यहां तक कि कई सालों से यहां खड़े वाहन भी पड़े- पड़े कबाड़ में तब्दील होते नजर आ रहे हैं।

शहर के अंदर लोगों को खाली जगह अगर लंबे समय से मिल जाए तो वह उस पर अपना दुरुपयोग करने लगते हैं। ऐसे ही हालत हमारे शहर में खाली पड़े हुए प्लाटों के अंदर देखने को मिलती है। जिसमें कॉलोनी में सबसे ज्यादा यहां देखा जाता है कि आजू-बाजू के खाली पड़े प्लाटों में लोग कचरा फेंकना शुरु कर देते हैं। जिसके कारण प्लाटों के अंदर भारी मात्रा में गंदगी इकठ्ठ ी हो जाती है। सफाई कर्मचारी भी इन प्लाटों की सफाई नहीं कर पाते हैं क्योंकि उनका पूरा दिन गली- मोहल्लों और सडक़ों की सफाई करने में ही बीत जाता है


नव भारत न्यूज

Next Post

एनडीपीएस एक्ट के मामलों की ऐसी विवेचना करें जिससे युवा पीड़ी का भविष्य बरबाद न हो: जयदीप प्रसाद

Wed Nov 29 , 2023
विवेचकों एवं पर्यवेक्षण अधिकारियों की भूमिका पर प्रशिक्षण कार्यशाला ग्वालियर:एनडीपीएस एक्ट के अपराधों में गुणात्मक अनुसंधान मेें विवेचकों एवं पर्यवेक्षण अधिकारियों की भूमिका विषय पर प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन मंगलवार को पुलिस कंट्रोल सभागार में किया गया। कार्यशाला का शुभारंभ अति. पुलिस महानिदेशक नारकोटिक्स जयदीप प्रसाद ने किया।कार्यशाला में अति. […]