सीधी विधानसभा की रुटीन गणना में नही शामिल होंगी तीन पोलिंग


संबंधित अधिकारियों को लापरवाही पर शो काज नोटिस

सीधी :जिले के विधानसभा क्षेत्र सीधी के लिए विगत 17 नवंबर को हुए मतदान के दौरान 3 मतदान केंद्रों में सुबह माकपोल को बिना क्लियर कराए ही मतदान अधिकारियों की लापरवाही से मतदान करा दिया गया। पडऱा में दो मतदान केंद्रों एवं बढ़ौरा में एक मतदान केंद्र में यह मामला सामने आने के बाद प्रशासन ने इस पर त्वरित संज्ञान लिया। राज्य निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों के अनुसार तीनों मतदान केंद्रों की मतगणना रूटीन में होने वाली गणना के साथ न करानें का निर्णय लिया है। बल्कि इन मतदान केंद्रों के मशीनों की गणना तभी की जाएगी जब चुनाव में जीत-हार रहे अभ्यर्थियों को इन मशीनों में पड़े वोटों से कम जीत-हार का सामना करना पड़ रहा हो। दरअसल उक्त लापरवाही के संंबंध में देर से जानकारी सामने आई। मालूम पड़ा कि पड़रा में बनाए गए दो पोलिंग बूथों के साथ ही बढ़ौरा के एक पोलिंग बूथ में सुबह मतदान अधिकारी द्वारा माकपोल की प्रक्रिया पूर्ण कराई गई।

माकपोल में कितने वोट पड़े इसकी काउंटिंग अपने प्रपत्र में स्पष्ट रूप से दर्ज किए बिना ही मतदान की प्रक्रिया पूर्ण करा दी गई। बाद में जब उक्त पोलिंग बूथों में पड़े मतों के संबंध में पत्रक जमा कराया गया तो उसकी बारीकी के साथ संबंधित अधिकारियों द्वारा जांच-पड़ताल की गई। जिसमें मालूम पड़ा कि माकपोल को बिना क्लियर कराए ही तीनों मतदान केंद्रों में मतगणना का कार्य पूर्ण कराया गया है। बड़े राजनैतिक दलों के पास भी उक्त लापरवाही की जानकारी सामने आई। जिस पर कांग्रेस प्रत्याशी ज्ञान सिंह द्वारा लिखित रूप से शिकायत दी गई है। उन्हें निर्वाचन अधिकारी की ओर से लिखित में ही आश्वस्त किया गया है कि संबंधित मतदान केंद्रों की मशीनों को रूटीन गणना में शामिल नहीं किया जाएगा। यदि सभी राउंड की गणना के बाद प्रत्याशियों के बीच जीत-हार का अंतर कम सामने आता है तो उस दौरान उक्त तीनों पोलिंग बूथों की मशीनों में पड़े वोटों की गणना का कार्य व्हीव्हीपैट के माध्यम से पूर्ण कराते हुए रिजल्ट घोषित किया जाएगा। इस मामले के बाद संंबंधित अधिकारियों को शो काज नोटिस जारी करते हुए जवाब तलब किया गया है।

तीन पोलिंगों की शिकायत की गई है : ज्ञान
सीधी विधानसभा से कांग्रेस प्रत्याशी ज्ञान सिंह का कहना था कि पड़रा की दो पोलिंग एवं बढ़ौरा की एक पोलिंग में उक्त लापरवाही सामने आने पर उनके द्वारा लिखित शिकायत की गई थी। वहीं दो पोलिंग ऐसी हैं जो मतपत्र पड़े हैं और जो पत्रक बने हैं उनमें अंतर है। उक्त बूथों के मशीनों की गणना की जरूरत तभी सामने आएगी जब जीत एवं हार का अंतर कम होगा। यदि ज्यादा मतों से जीत-हार होती है तो संबंधित बूथों की मशीनों में पड़े मतों की गणना की जरूरत नहीं होगी। श्री सिंह ने कहा कि उन्हें लिखित रूप से आश्वस्त किया गया है कि कम मतों से जीत-हार की परिस्थितियों में ही उक्त बूथों के मशीनों में पड़े मतों की गणना की जाएगी।

निर्वाचन आयोग के नियमानुसार होगी गणना: विश्वबंधुधर

सीधी विधानसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी श्रीमती रीती पाठक के निर्वाचन अभिकर्ता विश्वबंधुधर द्विवेदी का कहना था कि यदि मतगणना के दौरान जीत-हार का अंतर ज्यादा रहता है तो संबंधित पोलिंग बूथ की मशीनों में पड़े मतों की गणना नहीं होगी। यदि अंतर कम होगा तो निर्वाचन आयोग के नियमानुसार व्हीव्हीपैट में पड़े मतों की गणना का कार्य पूर्ण करने के बाद ही रिजल्ट घोषित किया जाएगा। श्री द्विवेदी ने कहा कि दरअसल प्रसायडिंग आफीसरों द्वारा मतदान पत्रक में स्पष्ट रूप से नहीं लिखा गया है। इस वजह से संशय की स्थिति निर्मित है।

मशीनों को रूटीन गणना में शामिल नहीं किया जायेगा : शाही

उप जिला निर्वाचन अधिकारी राजेश शाही का इस मामले में कहना था कि चुनाव से पूर्व भारत निर्वाचन आयोग के नियमों के संबंध में चुनावी प्रशिक्षण में अधिकारियों को अवगत कराया जाता है। जिसमें ईव्हीएम मशीन, व्हीव्हीपैट मशीन आदि के संबंध में पूरी जानकारी दी जाती है। फिर भी मतदान अधिकारियों से कुछ गलतियां हो जाती हैं। इस तरह के मामलों को लेकर भारत निर्वाचन आयोग को स्पष्ट निर्देश हैं। ऐसे मामलों में संबंधित मशीनों को रूटीन गणना में शामिल नहीं किया जाता। सारे राउंड की गणना के बाद जीत-हार का अंतर कम होने पर व्हीव्हीपैट के माध्यम से मतों की गणना होगी।


नव भारत न्यूज

Next Post

हेलमेट, सीट बेल्ट लगाने वाले को दी चॉकलेट और पौधे

Wed Nov 29 , 2023
यातायात पुलिस का सड़क सुरक्षा जागरूकता अभियान यातायात नियमों का पालन करने के लिए कर रहे प्रेरित इंदौर:सड़क सुरक्षा जागरूकता अभियान के तहत इंदौर यातायात प्रबंधन पुलिस द्वारा विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से लोगों को यातायात नियमों का पालन करने के लिए प्रेरित करने के प्रयास किया जा रहा है. […]