बारिश लेकर आई किसानों के ऊपर आफत


मौसम की मार से फसल में पड़ा असर

जबलपुर: जिले में हो रही लगातार 2 दिन से बारिश के कारण किसानों के अंदर मायूसी छा गई है। किसानों द्वारा धान की फसल काट कर जो गल्ले में रखी गई थी, वह बारिश में लगभग भीग गई है। वही जो फसल काटने के लिए तैयार थी, पानी गिरने के कारण वह खराब हो गई है। इसके अलावा अब खेत गीले होने के कारण जो फसल कटने को तैयार थी उनको अब काटा नहीं जा सकता है। जब तक धूप नहीं निकलती है तो रखी हुई धान को सुखाया नहीं जाएगा जा सकता है, जिसके कारण किसानों को भारी नुकसान भी हुआ है। यह बारिश किसानों के लिए बड़ी आफत बनकर आई है, जिससे जिले के सभी किसानों को काफी नुकसान भी हुआ है।
कटने खड़ी फसल हो गई बर्बाद
दीपावली के बाद से धान की फसलों की कटाई शुरू हो जाती है। लेकिन इसके बावजूद भी कुछ किसानों की फसलें जो कि कुछ दिनों पूर्व ही पूरी तरह से तैयार थीं और जिनकी कटाई होनी थी। लेकिन यहां बारिश के कारण फिर से खेत गीले हो गए हैं और अब इन खड़ी हुई फसल भी खराब हो गई है। ऐसे में जब तक कड़ी धूप इन खेतों और फसलों पर नहीं लगेगी इन फसलों को नहीं काटा जा सकता है। जिसके कारण किसानों को दूसरी फसल के लिए फिर लंबा इंतजार करना पड़ेगा।
अच्छी धूप का है इंतजार
इस आफत की बारिश में किसानों को काफी नुकसान से जूझना पड़ा है, चाहे वह फसल कटी रखी हुई हो या फिर कटने को तैयार हो। दोनों ही तरफ़ से बारिश के कारण किसानों को बहुत नुकसान हुआ है। अब जब तक मौसम बदल नहीं जाता है, तब तक किसान कुछ भी नहीं कर सकता है। जब बादल छटेंगे और अच्छी धूप निकलेगी तब खेतों में लगी फसल को सूखने मिलेगा। इसी तरह जो धान कट कर रखी हुई है, उस पर भी दोबारा धूप दिखाने की जरूरत है, नहीं तो वह माल भी खऱाब हो जाएगा। जिसके कारण व्यापारी और समर्थन मूल्य में भी यह धान नहीं खरीदी जा सकती है, जिससे किसानों को लाखों का नुकसान होने की संभावना है।
दूसरी फ़सल की बुआई में देरी
बारिश होने के कारण धान की फसल अब जल्दी नहीं काटी जा सकती है। जिससे गेहूं और मटर की फसल बुवाई भी विलंब से हो रह है। इसके अलावा समर्थन मूल्य में खरीदी शुरू नहीं होने के कारण भी लोगों के खेतों में रखी धान के कारण जगह नहीं होने के से भी दूसरी फसल की बोनी में बहुत देर हो रही है जिससे किसानों को अब यह डर लगा हुआ है कि यह फसल तो लगभग खराब होने को है इसके कारण दूसरी फसल पर भी इसकी मारना पड़े और होने वाले नुकसान को फिर दोबारा न झेलना पड़े।


नव भारत न्यूज

Next Post

बहरी में कोयला का चल रहा बेखौफ काला कारोबार

Wed Nov 29 , 2023
सालों से चल रहे काले कारोबार पर नहीं हो रही कोई जांच कार्रवाई, खनिज व पुलिस का मिल रहा संरक्षण सीधी/बहरी :जिले के तहसील मुख्यालय बहरी में कोयला का काला कारोबार सालों से चल रहा है। जिस पर न तो खनिज विभाग की ओर से कोई कार्रवाई की जा रही […]