मटर की गाडिय़ां आने लगी मंडी,


बढ़ा ट्रैफिक दवाब

जबलपुर: मटर का सीजन आने से शहर की कृषि उपज मंडी में हर जगह पर सिर्फ मटर ही मटर दिखाई पड़ रहा है। जिसको लाने वाली गाडिय़ों की कतारें चुंगी नाका से कृषि उपज मंडी के मुख्य गेट तक लगी रहती हैं। इन दिनों कृषि उपज मंडी में शहपुरा, पाटन , सहजपुर आदि क्षेत्रों का मटर पहुंच रहा है। जिसकी लिए दोपहर 12 बजे के बाद से गाडिय़ां मटर लेकर आने लगती हैं वहीं करीब 2 बजे से चुंगी नाका से लेकर कृषि उपज मंडी तक इन वाहनों की कतारें लग जाती हैं। वहीं दीनदयाल चौराहे पर सबसे ज्यादा ट्रैफिक का दबाव बना रहता है। लेकिन यातायात पुलिस कर्मी व्यवस्था को बनाए रखने के लिए यहां पर तत्पर लगे रहते हुए दिखाई पड़ते हैं।
दीनदयाल में सबसे ज्यादा मुसीबत
मटर की गाडिय़ों को आने से सबसे ज्यादा मुसीबत दीनदयाल चौराहे पर पड़ती है। चुंगी नाका से लेकर दीनदयाल चौराहे पर तो सिंगल लाइन में वाहनों की कतारें लगी रहती हैं। लेकिन जैसे ही चौराहे पर गाडिय़ां पहुंचती है तो चारों तरफ से आने वाले वाहनों के कारण यहां पर ट्रैफिक दबाव कुछ ज्यादा ही बढ़ जाता है। एक ओर आईएसबीटी से निकलने वाली बसें और ऑटो,ई- रिक्शा के कारण भी यहां पर वाहनों की धमाचौकड़ी लगी रहती है। लेकिन मटर की गाडिय़ां जब से यहां पर आना शुरू हुई है, तभी से ट्रैफिक व्यवस्था चौराहे पर कुछ ज्यादा ही बिगड़ी हुई नजर आती है। लेकिन उसके बावजूद भी यातायात पुलिस समय-समय पर ट्रैफिक को संभालने का कार्य यहां करते हुए नजर आते हैं।
मंडी गेट के सामने भी लगता है जाम
दीनदयाल चौराहे से मटर की गाडिय़ां जैसे- तैसे निकल तो जाती हैं। लेकिन मंडी गेट के सामने इनको क्रासिंग करने पर काफी समस्याएं होती हैं। मंडी गेट के सामने जैसे ही गाडिय़ां मंडी के अंदर प्रवेश करती है तो दोनों तरफ के वाहन रुक जाते हैं। जिसके कारण भी यहां पर लंबा जाम लगता है। वही कभी-कभी लोगों की जल्दबाजी और अनदेखी या लापरवाही के कारण कई बार यहां हादसे होने की संभावना कुछ ज्यादा ही बढ़ जाती है। वहीं मंडी के अंदर जब गाडिय़ां प्रवेश करती हैं तो दीनदयाल चौराहे और दमोहनाका से आने वाले वाहनों को भी ट्रैफिक जाम से जूझना पड़ता है।


नव भारत न्यूज

Next Post

सामुदायिक भवन के निर्माण कार्य में गुणवत्ता की अनदेखी

Tue Nov 28 , 2023
चितरंगी ब्लाक के ग्राम फुलकेस में एनसीएल के सीएसआर मद से हो रहा निर्माण कार्य चितरंगी: एनसीएल के सीएसआर मद से लाखों रूपये की लागत से चितरंगी ब्लाक के ग्राम फुलकेस में सामुदायिक भवन का निर्माण कराया जा रहा है।ग्रामीणों का आरोप हैं कि उक्त निर्माण कार्य में संविदाकार गुणवत्ता […]