बालिग होने से छह माह पहले की जा रही थी शादी


महिला एवं बाल विकास विभाग ने समझाइश देकर विवाह निरस्त कराया

इंदौर: बालिका के बालिग होने के 6 माह पूर्व ही परिजनों ने विवाह की तैयारी कर ली थी. भोपाल मुख्यालय से मिली सूचना के आधार पर महिला एवं बाल विकास विभाग समझाइश दी और विवाह निरस्त कराया.नार्थ कमाठीपुरा में रहने वाले परिवार ने अपनी 17 वर्ष 6 माह की नाबालिक बेटी का विवाह करने की तैयारी कर ली थी. मामले की शिकायत कंट्रोल रूम भोपाल के माध्यम से इंदौर को भेजी गई. जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास रामनिवास बुधौलिया के निर्देश पर शहरी परियोजना क्रमांक 6 की परियोजना अधिकारी चित्र यादव अपने दल और पुलिस के साथ मौके पर पहुंची.

परिजनों से चर्चा करने पर माता ने बताया कि बालिका के पिता का निधन हो गया है उन्होंने पहले ही अपनी बेटी का विवाह तय कर दिया था कामकाजी महिला होने के नाते वह बालिका का ध्यान नहीं रख पा रही थी. कोई घटना ना हो इसको देखते हुए वह या विवाह करने जा रही थी. दस्तावेजों के परीक्षण करने पर बालिका की उम्र 16 वर्ष 6 माह मिली. बालिका की माता और रिश्तेदारों को समझाइए और बाल विवाह प्रतिशत अधिनियम की जानकारी देकर कानून के तहत की जाने वाली कार्रवाई बताई तब परिजनों ने उक्त विवाह निरस्त करने का फैसला लिया. माता ने इस संबंध में शपथ पत्र भी विभाग को प्रस्तुत किया है कि वह बालिका की उम्र 18 वर्ष पूर्ण होने के बाद ही उसका विवाह करेंगे. कार्रवाई के दौरान पिंकी पारगी, मनीषा, सपना व उपनिरीक्षक यादव भी उपस्थित रहे.


नव भारत न्यूज

Next Post

विधेयकों को अनिश्चितकाल तक लंबित नहीं रख सकते राज्यपाल: सुप्रीम कोर्ट

Fri Nov 24 , 2023
नई दिल्ली, 23 नवंबर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने कहा है कि राज्यपाल बिना किसी कार्रवाई के विधेयक/विधेयकों को अनिश्चितकाल के लिए लंबित नहीं रख सकते। मुख्य न्यायाधीश डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति जे बी पारदीवाला और न्यायमूर्ति मनोज मिश्रा की पीठ ने कहा कि राज्य के एक अनिर्वाचित प्रमुख के […]