अव्यवस्थाएं:  डुमना नेचर पार्क अनदेखी की चढ़ा भेंट


 बैठने की चेयर टूटी, छायादार सेड क्षतिग्रस्त, डस्टबिन बिखरे, सीढियां टूटी
अनैतिक गतिविधियां भी हो रही है संचालित

जबलपुर: शहर के नेचर पार्क के नाम से फेमस डुमना नेचर पार्क में इन दिनों काफी अवस्थाएं देखने को मिल रही हैं। इसके अलावा कुछ अनैतिक गतिविधियों को भी डुमना नेचर पार्क के अंदर बढ़ावा मिल रहा है। जिसके कारण यहां टूरिज्म के साथ-साथ शहर में रहने वाली फैमिली ने भी आना कम कर दिया है। वहीं नेचर पार्क के अंदर सफाई व्यवस्था को बनाए रखने के लिए डस्टबिन भी टूट और बिखरे पड़े हुए हैं और कुछ जगह की सीढियां और सडक़ों पर पड़ी मोटी मोटी गिट्टी के कारण यहां पर चलने में लोगों को दिक्कत हो रही है। नेचर पार्क के अंदर अब जानवर भी दिखना बंद हो गए हैं।   नेचर पार्क के अंदर बैठने के लिए सीमेंट की जगह-जगह कुर्सियों का निर्माण किया गया था।

जिसमें पत्थर की चेयर भी बनाई गई थी। लेकिन अनैतिक गतिविधियों और असामाजिक तत्वों के कारण यहां पर पत्थर की बनी कुर्सियां टूटी हुई नजर आ रही है। इसके अलावा इसकी देखरेख ठीक तरह से नहीं होने के कारण और सुरक्षा व्यवस्था में ढील के कारण इसकी यह हालत है। वहीं छायादार के लिए बनाए गए टीन के सेट भी उड़ चुके हैं।  स्वच्छता व्यवस्था पूरी तरह से लडख़ड़ा गई है। जिससे नेचर पार्क के अंदर गंदगी भी धीरे-धीरे फैलती जा रही है और यह गंदगी जानवरों के लिए काफी नुकसान भी साबित हो सकती है।  इन दिनों पूरे नेचर पार्क में सिर्फ सूखी हुई घास ही नजर आ रही है। जिम्मेदारों की अनदेखी के चलते  यहां अव्यवस्थाओं का आलम है।
वृक्षों की जानकारी देने वाली प्लेट उखड़ी
नेचर पार्क के अंदर लोगों को वृक्षों की जानकारी देने के लिए सभी वृक्षों के नीचे एक प्लेट लगाई गई थी। जिसमें उस वृक्ष की पूरी जानकारी लोगों को देखने मिलती थी। लेकिन अब गिने-चुने ही वृक्ष के नीचे इन प्लेटों को देखा जाता है, लेकिन वह प्लेट भी उखड़ी और टूटी हुई नजर आती है । वही इस प्रकार की घोर लापरवाही के कारण परिवार के सदस्य डुमना नेचर पार्क में अपने बच्चों को किसी भी प्रकार की कोई जानकारी नहीं दे पाते हैं और वह सिर्फ घूम कर यहां से चले जाते हैं।
प्रतिबंधित क्षेत्र में पहुंच रहे लोग
डुमना में कई जगहों पर प्रतिबंधित क्षेत्र के बोर्ड लगाकर जानकारी दी जाती है। वही तालाब किनारे भी बोर्ड लगाकर यह जानकारी दी गई है कि पानी में मगरमच्छ भी हो सकते हैं। बावजूद उसके यहां पर लोग प्रतिबंधित क्षेत्र में बिना अनुमति प्रवेश कर रहे हैं और नेचर पार्क की व्यवस्था को बिगडऩे में पूरा योगदान भी दे रहे हैं । कई जगहों पर तालाब किनारे वन्य प्राणी मगरमच्छ होने की संभावना भी रहती है, लेकिन वहां पर भी घूमने वाले लोग पहुंच जाते हैं। किसी दिन कोई बड़ी दुर्घटना पार्क के अंदर हो सकती है।
युवा पीढ़ी कर रही अनैतिक कृत्य
डुमना में आमदिनोंं पर लोगों की ज्यादा भीड़ नहीं देखी जाती है। वही परिवार और पर्यटक भी छुट्टियों के दिनों पर ही डुमना नेचर पार्क में पहुंचते हैं। लेकिन इसके बावजूद रोजाना यहां पर युवा पीढ़ी सुबह से ही आने लगती है और दिन भर नेचर पार्क के अंदर बैठकर यहां अनैतिक कृत्य और अश्लीलता को बढ़ावा देने वाले कृत्य परोस रही है । जिसके कारण नेचर पार्क के अंदर काफी गंदा माहौल देखने को मिलता है, जिसके कारण बच्चों के साथ परिवारों ने आना पूरी तरह से बंद कर दिया है।
सिर्फ बंदर, बिल्लियां दिख रही
डुमना नेचर पार्क में कई जगह विभिन्न प्रकार के जानवर, पशु ,पक्षी आदि देखने को मिलते थे। लेकिन इन दिनों यहां पर किसी भी प्रकार की कोई पक्षी पशु या जानवर नजर ही नहीं आते हैं। मुख्य तौर पर यहां गेट के पास बंदर और बिल्लियां आदि दिख जाती हैं। लेकिन उसके बाद पूरे नेचर पार्क में अंदर कोई भी जानवर देखने को नहीं मिलते हैं। बारिश के समय यहां कुछ हरियाली रहती थी,जिसमें कुछ पक्षी नजर भी आ जाते थे।


नव भारत न्यूज

Next Post

कुछ की सांस अटकी तो कुछ जीत-हार के आकड़ो में उलझे

Mon Nov 20 , 2023
विंध्य की डायरी डा0 रवि तिवारी  जनता ने लोकतंत्र के महापर्व में अपना जनादेश दे दिया है, बस अब इंतजार उस घड़ी का है जब जनता जनार्दन का जनादेश ईव्हीएम से बाहर निकले. मतदान के दूसरे दिन प्रत्याशी घरो से बाहर निकल कर क्षेत्र में मतदाताओं से मिलकर उनका आभार […]