दबाव वाले 1600 किमी रेल-मार्गों की क्षमता बढ़ाने, ट्रंक ,फीडर लाइनों के विस्तार की तैयारी: गतिशक्ति


नयी दिल्ली, (वार्ता) अवसंचारचनात्मक सुविधाओं के विकास में समन्वय को लेकर बने एक उच्च स्तरीय समूह की बैठक में रेलवे नेटवर्क उच्च दबाव वाले कुल 16,00 किलोमीटर मार्ग पर क्षमता का विस्तार करने की योजना तय की गयी।
इसके अलावा रेलवे के ट्रंक मार्गों को बढ़ाने और फीडर मार्गों को दोगुना किये जाने का भी फैसला किया गया है।

रेल मंत्रालय ने इस कार्यक्रम के तहत लगभग 200 परियोजनाओं की पहचान की है।

वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय की गुरुवार को जारी एक विज्ञप्ति के अनुसार प्रधानमंत्री गतिशक्ति वृहद योजना के अंतर्गत नेटवर्क योजना समूह (एनपीजी) की बुधवार को हुयी बैठक में रेलवे मंत्रालय के संबंधित प्रस्तावों पर विचार किया गया।
बैठक की अध्यक्षता उद्योग संवर्धन विभाग (डीपीआईआईटी) में विशेष सचिव (लॉजिस्टिक्स) सुमिता डावरा ने की।

विज्ञप्ति के अनुसार बैठक में रेलवे के 16,600 किमी की कुल लंबाई वाले उच्च-यातायात घनत्व वाले मार्गों की क्षमता बढ़ाने तथा ट्रंक मार्गों का संवर्द्धन और चार लेन का करने तथा फीडर मार्गों का दोहरीकरण करने के रेल मंत्रालय के प्रस्तावों पर चर्चा हुई।

बयान में कहा गया है कि इन परियोजनाओं से , रेलवे मार्गों पर अतिरिक्त ट्रेनें चलाने की क्षमता पैदा होगी और औसत गति में सुधार होगा।
इसमें क्षेत्र विकास दृष्टिकोण का अनुप्रयोग करने से सामाजिक-आर्थिक विकास को बढ़ावा मिलेगा।

उच्च दबाव वाले मार्गों की परियोजनायें अपने रास्ते में 210 जिलों के 6000 से अधिक गांवों को छुयेंगी।


नव भारत न्यूज

Next Post

एपीएसईजेड के मुनाफे में मामूली वृद्धि

Fri Nov 10 , 2023
मुंबई (वार्ता) अडानी समूह की कंपनी अडानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकॉनोमिक जोन लिमिटेड (एपीएसईजेड) को चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में 1761.63 करोड़ रुपये का सकल शुद्ध लाभ हुआ है जो पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि के 1737.81 करोड़ रुपये के लाभ की तुलना में मात्र 1.37 प्रतिशत […]