सोशल मीडिया के हथियार से विरोधी की काट


आगाज ऑडियो से तो वायरल वीडियो से होगा खात्मा
जबलपुर: विधानसभा चुनाव की तारीख करीब आने के साथ ही प्रत्याशियों की धडक़ने भी तेज हो गईं हैं। प्रमुख पार्टियों के प्रत्याशियों ने चुनाव जीतने के लिए हर हथकंडा अपनाना शुरू कर दिया है। वहीं विरोधी गुट ने अपने प्रतिद्वंदी को बदनाम करना भी शुरू कर दिया है। मतदाताओं के बीच अपनी मजबूत पैठ बनाने और अपने विरोधी को मात देने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लेते हुए दुष्प्रचार की जंग तेज कर दी है। सोशल मीडिया का फायदा जनप्रतिनिधियों को बदनाम करने के लिए भी उठाया जा रहा है। जिसकी शुरूआत जबलपुर में हो गयी है। वर्तमान में मोबाइल रिकॉर्डिंग जमकर वायरल की जा रही है। कुछ ऐसी ही मोबाइल की रिकॉर्डिंग सोशल मीडिया में सामने आयी है, जिसमें दावा किया जा रहा है कि, यह फलां विधायक या पूर्व विधायक की रिकॉर्डिंग है।

जिसमें कार्यकर्ता को धमकाया जा रहा है। इस वायरल ऑडियो में गाली गलौज से लेकर जान से मरने तक की धमकी दी जा रही है। इसी कडी में शहर के एक विधायक की सोशल मीडिया में रिकॉर्डिंग सामने आई है। जिसमें वह एक कार्यकर्ता को गाली गलौज देते हुए जान से मारने की धमकी दे रहा है। जनप्रतिनिधि द्वारा न केवल कार्यकर्ता को, बल्कि कार्यकर्ता की पत्नी को भी नहीं बक्शा गया और उसे भी गंदी-गंदी गालियां दी। रिकॉर्डिंग कार्यकर्ता द्वारा सोशल मीडिया में डाल दी गई और दावा किया गया कि यह धमकी उन्हें फलां विधायक दे रहा है।

हालांकि जनप्रतिनिधि द्वारा अपना नाम कार्यकर्ता की पत्नी के पूछे जाने पर गलत बताया गया, लेकिन जनप्रतिनिधि की आवाज सुनकर कोई भी बिना समय लिए यह बता देगा कि, रिकॉर्डिंग में सुनाई दे रही आवाज किसकी है। अभी तो यह महज चुनावी बाजार की शुरुआत है, आने वाले समय में आरोप प्रत्यारोप की बानगी बहुत देखने को मिलेगी। राजनीति से जुड़े लोगों को अपने विरोधियों को बदनाम करने के लिए सबसे बड़ा हथियार सोशल मीडिया का मिल गया है। फिलहाल अभी तो जनप्रतिनिधियों की धमकियां सुनाई दे रही है, आगे चलकर हमें वीडियो के साथ भी बहुत कुछ दिखाई दे सकता है।


नव भारत न्यूज

Next Post

भोपाल में 25 करोड़ की लागत से बनेगा एक्वा पार्कः रूपाला

Sat Sep 16 , 2023
मत्स्य संपदा जागृति अभियान शुरू मछली उत्पादन बढ़ाने में मप्र की सराहना इंदौर:केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री परषोत्तम रूपाला ने प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना (पीएमएमएसवाई) के कार्यान्वयन के तीन वर्ष सफलतापूर्वक पूरे होने पर एक अनूठा कार्यक्रम, मत्स्य संपदा जागृति अभियान शुरू किया. सरकार के मत्स्य पालन विभाग […]