इंदौर नगर निगम बना देश का पहला ईपीआर क्रेडिट अर्जन करने वाला नगरीय निकाय


स्वच्छता के पर्याय बन चुके इंदौर के नाम एक और उपलब्धि

इंदौर:देश में स्वच्छता के पर्याय बन चुके इंदौर के नाम एक और उपलब्धि जुड़ गई हैं. इंदौर नगर निगम देश का पहला ईपीआर क्रेडिट अर्जन करने वाला नगरीय निकाय बन गया है. मुख्यमंत्री ने समस्त इंदौरवासियों, प्रशासनिक अधिकारी एवं निकाय के समस्त कर्मचारियों को इस उपलब्धि पर बधाई दी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जन-भागीदारी के इस प्रयास की सफलता पूरे प्रदेश के लिए गौरव का विषय है।इस उपलब्धि पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मार्गदर्शन में आज भारत नई सोच और नई अप्रोच के साथ आगे बढ़ रहा है. आर्थिक विकास के साथ-साथ पारिस्थितिक संतुलन को भी मजबूत कर रहा है. प्रधानमंत्री श्री मोदी की मंशानुसार मध्यप्रदेश में भी सर्कुलर इकॉनॉमी को बढ़ावा देने के प्रयास किए जा रहे हैं। सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट और सिंगल यूज़ प्लास्टिक से मुक्ति के इंदौर नगर निगम के अभियान से पूरे प्रदेश में इस दिशा में प्रयास करने की प्रेरणा मिलेगी.

कार्बन क्रेडिट अर्जित करने के बाद, इंदौर नगर निगम ने केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के ईपीआर पोर्टल पर पंजीकृत होने वाला भारत का पहला यूएलबी बनकर वेस्ट टू वेल्थ की अवधारणा को आगे बढ़ाया है. आज आईएमसी ईपीआर क्रेडिट अर्जित करने वाला भारत का पहला यूएलबी बन गया है. ईपीआर क्रेडिट अर्जित करने की उपलब्धि आईएमसी द्वारा प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन नियम 2016 (पीडब्लूएम) और ईपीआर नीति के सफल कार्यान्वयन को दर्शाती है. ईपीआर क्रेडिट अर्जित करने का यह नवाचार लीनियर इकॉनमी से सर्कुलर इकॉनामी और संवहनीय विकास की दिशा में एक और सशक्त कदम है.

जन-भागीदारी के इंदौर मॉडल ने रचा कीर्तिमान
जन-भागीदारी इंदौर शहर मॉडल की यूएसपी है. इंदौर नगर निगम ने एकल उपयोग प्लास्टिक प्रतिबंध के संबंध में नागरिकों की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए मैं हूँ झोलाधारी इंदौरी, प्लास्टिक हाइस्ट गैंग, प्लास्टिक प्रीमियर लीग और हल्ला बोल ड्राइव आदि जैसे गहन जागरूकता अभियान चलाये हैं. इंदौर शहर प्रतिदिन 1162 मीट्रिक टन से अधिक ठोस कचरा उत्पन्न करता है. आईएमसी और उसके हितधारकों के व्यापक जागरूकता अभियान और ठोस प्रयासों से घरेलू, वाणिज्यिक, औद्योगिक संस्थानों आदि में 6 प्रकार के कचरे प्लास्टिक अपशिष्ट, गैर-प्लास्टिक अपशिष्ट, ई-अपशिष्ट, सेने-अपशिष्ट, घरेलू खतरनाक अपशिष्ट और गीले अपशिष्ट में स्रोत पृथक्करण के सफल कार्यान्वयन को सफलता मिली है।


नव भारत न्यूज

Next Post

विक्की आत्महत्या मामले में न्याय दिलाने को लेकर किया गया धरना प्रदर्शन, सौंपा ज्ञापन

Wed Jul 5 , 2023
दमोह: विक्की उर्फ विक्रम रोहित बड़ापुरा आत्महत्या मामले में मंगलवार दोपहर शहर के अस्पताल चौराहा पर धरना देकर प्रदर्शन किया गया. इस प्रदर्शन में भाजपा नेता सिद्धार्थ मलैया, कांग्रेस अध्यक्ष रतन चंद्र जैन, भगवानदास चौधरी, कोमल अहिरवार, दृगपाल सिंह,डीके रोहित, संतोष रोहित, तेजी राम रोहित, नवीन बौद्ध, मनीष तिवारी, प्रवेंद्र […]