हिन्दी-विज्ञान पेपर के साथ 5वीं-8वीं की परीक्षा शुरू


299 परीक्षा केन्द्रों में हुई परीक्षाएं, अधिकांश केन्द्रों में अव्यवस्थाएं, छात्र-छात्राएं के साथ अभिभावक हुए परेशान
जबलपुर: माध्यमिक शिक्षा मंडल की पांचवीं और आठवीं की बोर्ड परीक्षाएं शनिवार से प्रारंभ हो गई। पहले ही दिन शिक्षा विभाग की तैयारियां की पोल खुल गई। परीक्षाओं में कोई परेशानी हो इसके लिए तमाम तैयारियां का दावा करने वाले शिक्षा विभाग की लापरवाही उजागर हुई है। 5 वीं और 8 वीं की परीक्षा को लेकर जिले में 299 परीक्षा केन्द्र बने। जिनमें से अधिकांश जगह अव्यवस्थाएं रही। जिसके चलतेे छात्र-छात्राओं के साथ अभिभावकों को भी परेशानियों का सामना करना पड़ा। हिन्दी और विज्ञान के पपेर के साथ शुरू हुई परीक्षाओं में जिले के सरकारी और निजी स्कूलों में पढऩे वाले करीब 66 हजार से अधिक छात्र एवं छात्राएं शामिल हुई। पांचवीं कक्षा के छात्रों ने जहां हिंदी भाषा का पेपर दिया तो आठवीं कक्षा के छात्रों ने विज्ञान की परीक्षा दी।
150 परीक्षार्थियों के रोल नंबर गायब
सूत्रों के मुताबिक मालवीय चौक स्थित अंजुमन इस्लामिया परीक्षा केन्द्र में जब परीक्षार्थि परीक्षा देने पहुंचे तो गुरूनानक स्कूल के करीब 150 छात्र एवं छात्राओं के प्रवेश पत्र में पंजीयन नंबर तो दर्ज थे लेकिन रोल नंबर गायब रहे। जिसकी वजह से परीक्षा केन्द्र प्रभारी द्वारा उन्हें प्रवेश नहीं दिया गया जब इसकी जानकारी अभिभावकों को लगी तो वह भी पहुंच गए और हंगामा खड़ा हो गया। हालांकि बाद में बच्चों को एक अलग कक्ष में बैठाया गया और परीक्षार्थियों के पंजीयन स्कूल गुरूनानक के प्राचार्य को यथा स्थिति से अवगत कराया गया। जिसके बाद समस्या का समाधान निकाला गया और करीब डेढ़ घंटे बाद इन परीक्षार्थियों को परीक्षा देने दिया गया।
पेपर लिफाफे में 29 तारीख अंकित करके भेजा
परीक्षा केन्द्रों में उस वक्त असमंजस की स्थिति निर्मित हो गई जब राज्य शिक्षा केन्द्र ने पांचवीं कक्षा के पेपप का लिफाफा में 29 मार्च अंकित करके भेज दिया। लिफाफा खोलकर पेपर बांटने के लिए जब परीक्षा केन्द्रों के पर्यवेक्षक तैयार हुए तो 29 मार्च का लिफाफा देखकर हैरान रह गए। जिसके बाद शिक्षा विभाग के कार्यालायों में फोन घनघनाते रहे। जिसके बाद राज्य शिक्षा केन्द्र अधिकारियों ने तत्काल एक आदेश जारी कर शिक्षा विभाग को जानकारी देते हुए बताया कि भूलवश 25 मार्च के पेपर के लिफाफे मेें 29 मार्च अंकित हो गया है। स्थिति स्पष्ट होने के बाद परीक्षा केन्द्रों में परीक्षा आयोजत हुई।
उडऩ दस्ते ने रखी नजर
पांचवीं, आठवीं की परीक्षा के लिए उडऩ दस्तों का गठन किया गया जिन्होंने परीक्षा केन्द्रों पर पैनी नजरें रखी। नकल प्रकरण बनने और पेपर निरस्त होने की स्थिति में छात्रों की उत्तर पुस्तिकाओं को जांचने के लिए मूल्यांकन केंद्र नहीं भेजा जाएगा। इसके साथ ही परीक्षार्थी उन विषयों की परीक्षा दोबारा देंगे। इसके लिए विद्यार्थियों को दो महीने का इंतजार करना होगा


नव भारत न्यूज

Next Post

ग्वालियर, दतिया, शिवपुरी व अशोकनगर के पुलिस अधीक्षक बदले

Sun Mar 26 , 2023
ग्वालियर: 75 आईपीएस और एक राज्य पुलिस सेवा के अफसरों की तबादला सूची देर रात जारी हुई है। ग्वालियर पुलिस अधीक्षक अमित सांघी का स्थानांतरण छतरपुर कर दिया गया है। शिवपुरी एसपी राजेश सिंह ग्वालियर के नए एसपी होंगे जबकि अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मोतिउर रहमान सेनानी बालाघाट होंगे। दतिया, शिवपुरी […]