वालीवुड फिल्मों में चमकता उचेहरा के छोटे से गांव का चेहरा धनीराम


“भोला” के बाद अब श्रीलंका में करेंगे फिल्म की शूटिंग
छोटे से गांव करही कला से मुंबई पहुंच मचा रहे धूम
सतना: दरम्यानी कद काठी, गोलमटोल चेहरे में उगी मोटी नाक और उसके नीचे लगातार लंबी होती घनी दाढ़ी। हां यही पहचान है धनीराम प्रजापति की। यह फेस कोई फिल्मी आइकन बनेगा किसी ने कल्पना तक न की होगी पर आज यह चेहरा भी आज वालीवुड में अपनी एक अलग ही पहचान रखता है। उचेहरा कस्बे से सटे एक छोटे से गांव करही कला का यह कलाकार आज भारतीय फिल्मों और वेब सीरीजों में अपनी एक अलग ही पहचान रखता है। हालांकि अभिनय की ललक ही थी की उसे गांव से सतना लेकर आई। यहां इस युवक को रंगमंच के पारखियों ने निखारा और अब यही धनीराम अपनी अपकमिंग नेटफ्लिक्स की वेब सीरीज “काला पानी” के अगले शेड्यूल को पूरा करने के लिये शनिवार को 25 श्रीलंका के लिए रवाना होंगे।

30 को पर्दे पर आ रही है भोला:-
हाल ही में अजय देवगन अभिनीत 30 मार्च को सिनेमा में आ रही फिल्म “भोला” में धनीराम सुर्खियों में थे ही इसी बीच एक और बहुत अच्छी खबर मिली है। धनीराम प्रजापति बता रहे हैं कि ये सिरीज़ पिछले एक साल से शूट की जा रही है जिसे एक महीने तक पोर्टब्लैर अंडमान निकोबार में भी शूट किया गया है। कुछ हिस्सा मुम्बई में शूट किया गया है। पोसम पा प्रोडक्शन हाउस के बैनर तले बन रही वेब सीरीज़ “काला पानी” का निर्देशन किया है डायरेक्टर /प्रोड्यूसर अमित गुलानी और समीर सक्सेना ने जो जल्द ही नेटफ्लिक्स ओटीटी प्लेटफॉर्म पे लोगों को देखने को मिलेगी। धनीराम वर्तमान में अपने अभिनय और कबिलियत के दम पर आज बॉलीवुड में पांव जमा रहे हैं। शुरू में टीवी सीरियल मेरे साईं, तुझसे है राब्ता, तुम बिन, अहिल्या, परिनिति, टीवी कमर्सियल रैपिड ओला बाइक, कल्ट फिट, ड्रीम 11 आदि सीरियल में बतौर एक्टर नजर आए। हाल ही में अमोज़न मिनी टीवी में आई फ़िल्म “गनचक्कर ” में राजपाल यादव, मनोज जोशी के साथ नज़र आए थे। खबर है आगामी कुछ महीनों में धनीराम की 6 से 7 बड़ी वेब सिरीज़ फिल्में आ रही हैं। इनमें सिनेमा के दिग्गज अभिनेता मनोज बाजपेयी, अजय देवगन, तब्बू, संजय मिश्रा, जैकी श्रॉफ, गुडडू भइया (अलीफ़ज़ल ) आदि के साथ स्क्रीन साझा करना प्रमुख है।

सतना के रंगकर्मियों के बीच बनाई पहचान:-
उचेहरा के समीप छोटे से गांव करही के धनीराम एक मध्यम वर्गीय परिवार से हैं। उनके पिता एक किसान है। फिल्म जगत में जाने से पहले अपने पिता के साथ खेतों में कार्य करते थे। उनका जन्म गांव में हुआ और गांव मे ही वह पले बढ़े। शुरुआती शिक्षा करही और उचेहरा में हुई उसके बाद पढ़ाई-लिखाई के लिये सतना गये और पीजी कॉलेज सतना से मास्टर इन इंग्लिश करने के दौरान सतना की लोक रंग संस्था, क ख ग थियेटर ग्रुप, संखनाद फाउंडेशन, आदि में एक अभिनेता के रूप में नाटकों में काम किया थिएटर/ रंगमंचीय गतिविधियों में पूर्ण रूप से सक्रिय हो रंगमंच और छोटे-बड़े नाटकों के माध्यम से लोगों के सामने अपने हुनर का प्रदर्शन करने लगे।

इस दौरान उन्हें देश के प्रख्यात रंगकर्मी और फिल्मी पटकथा लेखक अशोक मिश्रा का साथ भी मिला। धनीराम को थिएटर ने काफी आकर्षित किया और 2016 में अभिनय की बारीकियों को और तराशने के लिए मध्यप्रदेश स्कूल ऑफ़ ड्रामा में नामांकन लेने का विचार कर भोपाल की तरफ रुख किया और उनका चयन भी हो गया। यहाँ देश विदेश के गुनी / प्रख्यात एक्टर / डायरेक्टर और रंग अनुभवी टीचरों से अभिनय की बारीकियां सीखी अपने हुनर को समझा और रंगमंच के क्षेत्र में अपना कैरियर बनाने मुंबई निकल सिनेमा जगत का रुख लिया। हाल ही में विंध्या गौरव अवार्ड से भी नवाज़ा गया है।


नव भारत न्यूज

Next Post

जीत के लिए पांडवों ने की थी मां बगलामुखी की पूजा

Fri Mar 24 , 2023
नवरात्रि विशेष जीत के लिए पांडवों ने की थी मां बगलामुखी की पूजा आज नेता लगाते हैं यहां हाजिरी, दर्शन मात्र से दूर होते हैं भक्तों के कष्ट निकुंज माहेश्वरी नलखेड़ा:आगर जिले से 35 किलोमीटर दूर नलखेड़ा में विश्व प्रसिद्ध पीतांबरा सिद्ध पीठ मां बगलामुखी का मंदिर तंत्र साधना के […]