समाज को जोड़ने का काम करता है संगीत


अंतरराष्ट्रीय सितार वादक पं. गोपाल पुजारी की स्मृति में आयोजित की गई संगीत निशा
ग्वालियर: नगर के प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर के सितारवादक पं. गोपाल लाल पुजारी की स्मृति में नया बाजार स्थित प्राचीन श्रीलक्ष्मी नारायण मंदिर में 28वीं संगीत निशा का आयोजन किया गया.कार्यक्रम में वरिष्ठ पत्रकार डॉ. केशव पाण्डेय एवं यशवंत इंद्रापुरकर अतिथि थे।आयोजक डॉ. भारती पुजारी ने पं. गोपाल लाल के कृतित्व और व्यक्तित्व से अवगत कराते हुए उनके संगीत के प्रति लगाव के साथ ही देश की आजादी में दिए गए योगदान के बारे में में बताया। मुंबई के युवा कलाकारों अर्पित दीक्षित, विपिन पाल, अजय सोनी,पंडित अंकित शर्मा, पीयूष तांबे व सुधाकर चतुर्वेदी ने मधुर गीत-ंसंगीत और बॉंसुरी वादन से लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

अतिथि डॉ. पाण्डेय ने कहा कि संगीत में सबको जोड़ने की ताकत है। कर्ण प्रिय संगीत मन को सुकुन तो देता ही लेकिन यह जाति-धर्म से परे होकर सरहदों के पार भी अपना प्रभाव छोड़ता है और समाज को जोड़ने का काम करता है। पंडित गोपाल जी का सितार वादन देश ही नहीं दुनिया में उन्हें अलग पहचान दिलाता था।महेश गेंडास्वामी ने अपने व्याख्यान से संगीत निशा के 28वें आयोजन और आयोजकों सहित स्वतंत्रता सेनानी गोपाल लाल के जीवन का बेहतर प्रदर्शन किया।इससे पूर्व अतिथियों ने दीप प्रज्ज्वलित कर पंडितजी का पुण्य स्मरण किया।संचालन भारती पुजारी ने तथा आभार आध्या शर्मा ने किया। इस मौके पर राजेंद्र मुदगल व अरविंद जैमिनी विशेष रूप से मौजूद थे।


नव भारत न्यूज

Next Post

तिरुवनंतपुरम में श्री अरबिंदो पर राष्ट्रीय संगोष्ठी 9 मार्च को

Tue Mar 7 , 2023
तिरुवनंतपुरम, 07 मार्च (वार्ता) भारतीय दार्शनिक अनुसंधान परिषद (आईसीपीआर) के सदस्य सचिव प्रोफेसर सच्चिदानंद मिश्रा केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम में नौ मार्च को ‘हमारे समय में श्री अरबिंदो की प्रासंगिकता’ पर राष्ट्रीय संगोष्ठी का उद्घाटन करेंगे। श्री अरबिंदो की 150 वीं जयंती के उपलक्ष में आयोजित होने वाली दो दिवसीय […]