सम्राट मिहिरभोज की प्रतिमा को लेकर विवाद गहराया, सोशल मीडिया पर प्रशासन की नजर

शहर में देर रात धारा 144 लागू, माहौल बिगाड़ा तो होगी कड़ी कार्रवाई

ग्वालियर:  चिरवाई नाका पर सम्राट मिहिरभोज की प्रतिमा की स्थापना के बाद शुरू हुआ गुर्जर और क्षत्रिय समुदाय में विवाद गहरा गया है। दोनों पक्षों की ओर से सोशल मीडिया पर एक दूसरे के खिलाफ की गई छींटाकशी से माहौल खराब हो गया है। अब जिला प्रशासन और पुलिस दोनों समुदाय के नेताओं के फेसबुक, व्हाट्सएप अकाउंट पर नजर रखे है। फेसबुक, वॉटसएप व ट्वीटर पर किसी भी तरह की वर्ग, धर्म या सम्प्रदाय संबंधित टिप्पणी करने पर पुलिस सीधे एक्शन ले सकती है। एसपी की अनुशंसा पर कलेक्टर ग्वालियर ने धारा 144 लागू करने की घोषणा कर दी है। इसके बाद किसी भी तरह के प्रदर्शन, पोस्टर, बैनर छपवाने पर कार्रवाई की जाएगी।

8 सितंबर को नगर निगम ग्वालियर ने शीतला माता मंदिर रोड चिरवाई नाका पर सम्राट मिहिरभोज की प्रतिमा का वर्चुअल अनावरण किया था। अपने अनावरण के साथ ही सम्राट मिहिर भोज पर विवाद तेज हो गया है। नगर निगम ने प्रतिमा स्थापना के ठहराव प्रस्ताव लाते समय साफ उल्लेख किया था कि सम्राट मिहिरभोज नाम से प्रतिमा लगाई जाएगी, लेकिन जब प्रतिमा का अनावरण किया गया तो सम्राट मिहिर भोज के आगे गुर्जर सम्राट मिहिरभोज महान लिखा गया था। उनको गुर्जर सम्राट लिखने के साथ ही विवाद शुरू हो गया है। अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा का तर्क है कि सम्राट मिहिरभोज राजपूत क्षत्रिय हैं। इसके संबंध में उन्होंने इतिहासकारों के लेख, शिलालेख व परिहार वंश के सबूत भी रखे हैं तो इसके जवाब में अखिर भारतीय वीर गुर्जर महासभा ने भी तर्क रखा है। उन्होंने भी सबूत रखे हैं।

इस मामले में बीते तीन दिन से लगातार माहौल बिगड़ रहा है। गुर्जर समुदाय और क्षत्रिय समुदाय के बीच लगातार एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप का दौर जारी है। उस समय हद हो गई जब दोनों पक्ष सोशल मीडिया के विभिन्न माध्यमों पर एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप करने लगे। इसके बाद पुलिस अफसरों ने इस मामले को गंभीरता से लिया। एसपी अमित सांघी ने इस मामले में कलेक्टर ग्वालियर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह को धारा 144 लागू करने की अनुशंसा की थी। जिस पर शुक्रवार को कलेक्टर ने आदेश जारी कर दिए हैं।

आज से यह रहेगा प्रतिबंध
– जिले की सीमा में धरना प्रदर्शन, जुलूस व भीड़ जुटाने पर रहेगा प्रतिबंध
– जिले की सीमा में कोई भी विस्फोटक सामग्री, साथ ही ऐसा हथियार जिससे किसी की जान को खतरा हो नहीं ला सकेगा
– किसी भी वर्ग, जाति, धर्म या सम्प्रदाय से संबंधित ऐसे पोस्टर, बैनर व अन्य लेखन सामग्री जो भडकाऊ हो वह प्रतिबंधित रहेगी
– किसी भी भवन, मूर्ति, स्थल पर टिप्पणी, तोड़ना या भीड़ जुटाना प्रतिबंधित रहेगा
-जिले की सीमा में ध्वनि विस्तार यंत्र का उपयोग प्रतिबंधित रहेगा
– ग्वालियर में फेसबुक, ट्वीटर व वॉटसएप पर किसी वर्ग, जाति, धर्म या सम्प्रदाय के खिलाफ भाषा या अभद्र भाषा पर कड़ी कार्रवाई होगी

नव भारत न्यूज

Next Post

इंदौर दूसरे डोज में भी शत-प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त करेगाः डॉ मिश्रा

Sat Sep 18 , 2021
इंदौर में शुरू हुआ वैक्सीनेशन महा अभियान 3.0 इंदौर:  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्म दिवस के अवसर पर आज से प्रदेश भर में वैक्सीनेशन महाअभियान 3.0 की शुरुआत की गई है. इसी क्रम में इंदौर जिले में भी शुक्रवार से वैक्सीनेशन महाअभियान का तीसरा चरण […]