औसत बारिश का आंकड़ा 11 इंच दूर


मौसम विभाग ने अभी तीन-चार दिन अच्छी बारिश की जताई संभावना, होती रहेगी तेज और धीमी बारिश

सीहोर. पूरे जिले में एक बार फिर से बारिश ने अपनी रफ्तार पकड़ ली है, लेकिन जिले की औसम बारिश 1148 एमएम करीब 46 इंच बारिश का आंकड़ा अभी भी करीब 11 इंच दूर है. जिले अभी तक 869.7 एमएम करीब 35 इंच बारिश रिकॉर्ड की गई है. आरएके कालेज स्थित मौमस केंद्र की माने तो आने वाले तीन, चार दिनों तक मौसम इसी तरह रहने का अनुमान मिल रहा है. जिले में कही हल्की तो कही तेज बारिश का दौर जारी रहेगा.
आरएके कृषि कॉलेज के वैज्ञानिक डॉ.एसएस तोमर की माने तो आगामी तीन-चार दिन इसी तरह आसमान में बादल छाए रहने के साथ ही हवा के साथ बारिश का दौर जारी रहेगा. इसके साथ ही दिन और रात के तापमान में दो से तीन डिग्री की गिरावट भी दर्ज हो सकती है.
पिछले साल की अपेक्षा 17 इंच बारिश कम हुई
जिले में 01 जून से अभी तक 869.7 मिलीमीटर करीब 35 इंच औसत वर्षा दर्ज की गई. जबकि गत वर्ष इसी अवधि में औसत वर्षा 1312.2 मिलीमीटर साढ़े 52 इंच थी.
ज्ञात रहे कि जिले की वर्षा ऋतु में सामान्य औसत वर्षा 1148.4 मिलीमीटर करीब 46 इंच है. औसत बारिश के आंकड़े को भी देखे तो जिले में अभी करीब 11 इंच बारिश कम हुई है, लेकिन जिस तरह से बारिश की रफ्तार शुरु हुई है। इसके चलते जिले में बारिश का आंकड़ा औसत बारिश तक पहुंचने का अनुमान लगाया जा रहा है.
जिले में बारिश के मामले में बुधनी सबसे आगे
अधीक्षक भू-अभिलेख द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार 01 जून से अब तक जिले के वर्षामापी केन्द्र सीहोर में 845.5 मिलीमीटर, श्यामपुर में 815.9, आष्टा में 746.0 जावर में 729.0, इछावर में 842.3, नसरूल्लागंज में 890.0, बुधनी में 1070.0, रेहटी में 1018.8 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है. जिले में बीते 24 घंटे में प्रात: 08 बजे तक 34.6 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई। वर्षामापी केन्द्र सीहोर में 37.0 मिलीमीटर, श्यामपुर में 52.0, आष्टा में 24.0, जावर में 24.3, इछावर में 17.0, नसरूल्लागंज में 38.0, बुधनी में 57.0, रेहटी में 27.2 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है।
खरीफ सीजन में जिन किसानों द्वारा कम दिनों में पकने वाली बैरायटीकी फसलों की बोबनी की थी, इन दिनों उनके खेतों में सोयाबीन की कम दिनों में पकने वाली बैरायटी की खेतों में खड़ी फसल पककर कटने के लिए तैयार हो चुकी है. कई किसान तो पिछले दिनों मौसम साफ रहने के चलते पकी फसल की कटाई का सिलसिला तो शुरू हुआ, लेकिन अचानक मौसम ने बदलाव होने से अब खेतों मेंं पककर तैयार हो चुकी कम दिनों में पकने वाली बैरायटी की इस फसल को नुकसान की आशंका बन रही है. किसान भी अब जल्द से जल्द बारिश रुकने का इंतजार कर रहे हैं, ताकि जल्दी से जल्दी फसलों की कटाई कर सकें.
झमाझम बारिश से नदी नाले भी पूर जा रहे
आष्टा. गुरुवार को क्षेत्र में सुबह से ही झमाझम बारिश का दौर चल रहा है सुबह से लेकर शाम तक जोरदार बारिश होती रही बुधवार देर रात्रि में भी झमाझम बारिश हुई थी जिसके चलते क्षेत्र के नदी नाले भी पूर जा रहे हैं। इस बार आष्टा क्षेत्र में सब दूर की अपेक्षा कम बारिश हुई है पूरी बारिश में आष्टा क्षेत्र में मात्र रिमझिम बारिश होती रही तेज बारिश का लोग इंतजार ही करते रह गए और बारिश अब निकलने को है सावन माह में भी रिमझिम बारिश हुई थी लेकिन भादो माह में झमाझम बारिश बुधवार रात और गुरुवार को सबसे ज्यादा हुई बुधवार रात से शुरू हुई बारिश गुरुवार को भी दिन भर और रात्रि में बारिश होती रही पूरी बारिश मैं जहां पार्वती नदी में बाढ़ नहीं आई थी और एक बार भी पार्वती नदी पुर नहीं निकली और मात्र धार ही चल रही थी इस कारण 15 सितंबर के बाद पानी रोकने के लिए नगर पालिका ने पार्वती पुल पर सटर लगा दी थी क्योंकि नगर में पार्वती नदी से ही पानी सप्लाई किया जाता है पूरा नगर पार्वती के पानी के भरोसे ही है और सटर लगाने का फायदा या होगा कि अब पार्वती नदी लबालब लबालब भरा गई अब बारिश का पानी ओवर लो होकर निकल रहा है जिसे देखने बड़ी संख्या में लोग पार्वती पुल नदी किनारे पहुंच रहे हैं।

नव भारत न्यूज

Next Post

सतना-मैहर खण्ड की 39 किमी लंबाई की 2 लेन सड़क निमार्ण का शिलान्यास

Fri Sep 17 , 2021
सतना :  ने गुरुवार को इंदौर से मध्यप्रदेश में 9 हजार 577 करोड़ की लागत से कुल 1356 किलोमीटर लंबी 34 सड़क परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास वर्चुअल रूप से किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने की। कार्यक्रम में मध्यप्रदेश की 14 परियोजनाओं का लोकार्पण और 20 […]