ऑटो – ड्रोन उद्योग को 26058 करोड़ रुपए का उत्पादकता आधारित प्रोत्साहन

नई दिल्ली 15 सितंबर (वार्ता) सरकार ने ऑटो और ड्रोन उद्योग को बढ़ावा देने के लिए 26058 करोड़ रुपए की उत्पादन आधारित प्रोत्साहन (पीएलआई) योजना की घोषणा की है जिससे पांच वर्षों में 42500 करोड़ रुपए का निवेश होने तथा तकरीबन 7.6 लाख लोगों को रोजगार के नये अवसर मिलने का अनुमान है।
यह प्रोत्साहन विद्युत वाहनों और बैटरी उद्योग के लिए पहले घोषित पीएलआई के अतिरिक्त है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को यहां हुई मंत्रिमंडल की बैठक में इस आशय के प्रस्ताव का अनुमोदन किया गया। बैठक के बाद सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर और रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि ऑटो और ड्रोन उद्योग को अगले पांच साल में उत्पादन आधारित 26058 करोड़ रुपए की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। इस राशि का इस्तेमाल उत्पादन क्षमता का निर्माण करने में होगा।
उन्होंने कहा कि इस प्रोत्साहन से उत्पादन क्षमता दो लाख 30 हजार करोड़ रूपये की अतिरिक्त वृद्धि होगी तथा रोजगार के सात लाख 60 हजार नये अवसर पैदा होंगे । सरकार का कहना है कि इन कदमों से भारतीय ऑटो और ड्रोन उद्योग विश्व आपूर्ति श्रृंखला का हिस्सा बन सकेगा।
ड्रोन उद्योग की योजना से 5000 करोड रुपए का निवेश आने की उम्मीद है और उत्पादन क्षमता 1500 करोड़ रुपए बढ़ेगी। ड्रोन निर्माण क्षेत्र में इससे अनुमानित 10 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा।
श्री ठाकुर ने कहा कि आज घोषित सहायता केमिस्ट्री बैटरी और इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए पहले घोषित की गई 28100 करोड़ रूपये की पीएलआई के अतिरिक्त होगी।
इन पहलों से देश में पर्यावरण के अनुकूल वाहनों का निर्माण संभव होगा । अंतरराष्ट्रीय बाजार में भारतीय वाहनों की हिस्सेदारी भी बढ़ेगी।

नव भारत न्यूज

Next Post

दूरसंचार कंपनियों को मिली बड़ी राहत

Wed Sep 15 , 2021
नयी दिल्ली 15 सितंबर (वार्ता) भारी वित्तीय दबाव के तले दबी दूरसंचार कंपनियों को बड़ी राहत देते हुए सरकार ने उन पर शुल्क , ब्याज और दंड ब्याज के प्रावधानों में भारी राहत देने तथा कारोबार सुगमता के लिए कई दूरगामी निर्णयों की आज घोषणा की। दूरसंचार कंपनियों के सकल […]