व्यापार समझौता संतुलित एवं परस्पर हित में होना चाहिए: भारत

नयी दिल्ली, 14 सितंबर (वार्ता) भारत ने आसियान देशों के साथ प्रस्तावित व्यापारिक समझौते में संतुलन एवं परस्पर हितों के सरंक्षण पर जाेर देतेे हुए कहा है कि कोविड महामारी के प्रभाव से उबरने में संगठन से संबद्ध देशों की हर संभव मदद की जाएगी।
केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल ने मंगलवार को 18 वीं आसियान-भारत आर्थिक मंत्री बैठक की सह अध्यक्षता करते हुए कहा कि काेविड महामारी के बाद की स्थिति से निकलने में आसियान देशों की भारत पूरी मदद करेगा। उन्होंने आसियान देशों को स्वास्थ्य और दवा क्षेत्र जैसे क्षेत्रों में भारत में निवेश करने के लिए आमंत्रित करते हुए कहा कि प्रस्तावित आसियन- भारत वस्तु व्यापार समझौता संतुलित एवं परस्पर हितों का संरक्षण करने वाला होना चाहिए। इसमें दोनों पक्षों की आकांक्षाओं का समावेश होना चाहिए।
उन्होंने कहा कि इस पर दोनों पक्षों काे जल्द से जल्द बातचीत शुरू करनी चाहिए। ऑनलाइन आयोजित की गयी इस बैठक में आसियान भारत कारोबार परिषद ने आसियान-भारत आर्थिक साझेदारी को बढ़ाने की सिफारिश की है।
ब्रुनेई के वित्त और अर्थव्यवस्था मंत्री डा. अमीन ल्यू अब्दुल्ला ने बैठक की सह अध्यक्षता की। बैठक में आसियान के सभी 10 देशों ब्रुनेई, कंबोडिया, इंडोनेशिया, लाओस, मलेशिया, म्यांमार, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड और वियतनाम के आर्थिक मंत्रियों ने भाग लिया।

नव भारत न्यूज

Next Post

राजनेताओं का ‘दर्द’

Wed Sep 15 , 2021
केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी नरेंद्र मोदी मंत्रिमंडल के ना केवल सबसे कुशल मंत्रियों में से एक हैं बल्कि अपनी बेलाग बातचीत और बेबाक टिप्पणियों के लिए भी जाने जाते हैं. श्री गडकरी कभी भी सही बात कहने में हिचकते नहीं हैं. हाल ही में वे कांग्रेस के नेता गुलाम नबी […]