हमीदिया में अब बोनमैरो ट्रांसप्लांट करने की कवाद


चार साल पहले शुरू हुई थी तैयारी अब पूरी होने की संभावना
नवभारत न्यूज
भोपाल, 13 सितंबर. राजधानी के सबसे बड़े अस्पताल हमीदिया में बोनमैरो ट्रांसप्लांट की सुविधा फि र शुरू करने की तैयारी शुरू कर दी गई

है. बतांदे कि इसके लिए पैथोलाजी विभाग को प्रस्ताव बनाने के निर्देश चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने मंत्रालय में हुई जीएमसी की साधारण सभा की बैठक में दिए थे. गौरतलब है कि करीब चार साल पहले जीएमसी की तरफ से कमला नेहरू अस्पताल में बोनमैरो ट्रांसप्लांट की सुविधा शुरू करने की तैयारी थी. इसी बीच इंदौर के महात्मा गांधी मेडिकल कालेज में यह सुविधा शुरू होने के बाद जीएमसी में शुरू नहीं की गई. इसके पीछे तत्कालीन प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा राधेश्याम जुलानिया का मानना था कि ट्रांसप्लांट के इतने मरीज नहीं होते कि दो जगह सुविधा शुरू की जाए.
खून नहीं बनेने की होती है बीमारी
गौरतलब है कि जिन लोगों को खून नहीं बनने की बीमारी होती है, उनका बोनमैरो ट्रांसप्लांट किया जाता है. हालांकि इस करह के केस ज्यादानहीं आते हैं. अभी प्रदेश किसी सरकारी अस्पताल इंदौर के महात्मा गांधी मेडिकल कालेज में यह सुविधा शुरू हो पाई है. अब हमीदियामें यह सुविधा शुरू करने की तैयारी शुरू हो गई है. इसके साथ-साथ जीएमसी को देश का उत्कृष्ट शोध संस्थान बनाने के लिए भी कहा गया है. इसका फ ायदा सीधे या परोक्ष तौर पर मरीजों को ही मिलेगा.
30 सितंबर तक नहीं पूरा होगा नए भवन का काम
हमीदिया अस्पताल के दो हजार बिस्तर के नए अस्पताल भवन का काम 30 सितंबर तक पूरा होने की समय सीमा थी, लेकिन कांच लगानेसमेत फि निशिंग का काम बाकी है. इस कारण ब्लाक-दो काम 15 अक्टूबर तक और ब्लाक-1 का काम नवंबर में पूरा होने की उम्मीद है. इसका निर्माण पीआइयू कर रही है. इधर मंत्री सारंग हाल ही में हुई साधारण सभा की बैठक में मौजूद पीआइयू के अधिकारियों से काम में देरी को लेकर नाराजगी जाहिर की थी.
किडनीट्रासंप्लांट करने वाले मरीज स्वस्थ्य
हमीदिया अस्पताल में पिछले हफ्ते किया गया किडनी ट्रासंप्लांट सफ ल रहा. किडनी ट्रासंप्लांट कराने वाले मरीज और किडनी दान करने वालीउनकी पत्नी की हालात बेहतर है. पत्नी की एक,दो दिन के भीतर अस्पताल से छुट्टी कर दी जाएगी, जबकि पति को अभी करीब 10 दिनआइसीयू में रखा जाएगा. डॉक्टरों के मुताबिक दोनों की जांच रिपोर्ट सामान्य आ रही हैं. किडनी ठीक से काम कर रही है. गौरतलब है कि सातसितंबर को हमीदिया अस्पताल में किडनी ट्रांसप्लांट किया गया था. हमीदिया प्रदेश का पहला सरकारी अस्पताल है जहां पर किडनीट्रासप्लांट की सुविधा शुरू की है.

नव भारत न्यूज

Next Post

पूंजीगत व्यय लक्ष्य पूरा करने वाले राज्यों को अतिरिक्त पूंजी जुटाने की अनुमति

Tue Sep 14 , 2021
नयी दिल्ललललली 14 सितंबर (वार्ता) चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में वित्त मंत्रालय द्वारा निर्धारित पूंजीगत व्यय के लक्ष्य को पूरा करने वाले राज्य आंध्र प्रदेश, बिहार, छत्तीसगढ़, हरियाणा, केरल, मध्य प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, नगालैंड, राजस्थान और उत्तराखंड को 15721 करोड़ रुपये की अतिरिक्त पूंजी जुटाने की अनुमति दी […]