यूनिसेफ टीम ने किया सखी केन्द्र, बाल आश्रम का निरीक्षण

विभाग के प्रयासों को सराहा
इंदौर: मध्यप्रदेश यूनिसेफ टीम और ममता एचआईएमसी की टीम द्वारा महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा संचालित संस्था वन स्टॉप सेंटर (सखी केंद्र), राजकीय बाल आश्रम और सीएम राइस स्कूल शासकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय मुसाखेड़ी इंदौर का निरीक्षण किया गया. यूनिसेफ की स्थानीय कार्यालय से डिप्टी ऑपरेशन हेड मिस लाना एवं चीफ फील्ड ऑफिसर मिस मार्ग्रेट ग्वाडा भी शामिल थीं.
निरीक्षण के दौरान संयुक्त संचालक महिला एवं बाल विकास विभाग संध्या व्यास, अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त मनीषा पाठक सोनी, जिला कार्यक्रम अधिकारी रामनिवास बुधौलिया, बाल कल्याण समिति अध्यक्ष पल्लवी पोरवाल, स्थानीय शिकायत समिति अध्यक्ष मनीषा पाठक, प्रभारी प्रशासक श्रीमती मीनाक्षी हरवंश आदि उपस्थित थे. टीम के साथ इंदौर जिले में बच्चों, महिलाओं एवं किशोरों के साथ होने वाले कार्यक्रमों, गतिविधियों एवं सरकारी योजनाओं से बच्चों को मिलने वाले लाभ के बारे में चर्चा की गई.

संयुक्त संचालक महिला एवं बाल विकास विभाग श्रीमती संध्या व्यास के द्वारा जिले में यूनिसेफ के सहयोग से विभाग के द्वारा बच्चों, महिलाओं एवं किशोरों के साथ किए जाने वाले कार्यों को सराहा गया. जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री रामनिवास बुधौलिया के द्वारा सरकारी योजनाओं से बच्चों को लाभान्वित किये जाने के बारे में बताया गया. साथ ही विभाग के द्वारा जिले में बाल विवाह को रोकने के प्रयासों, जिला टास्क फोर्स का गठन आदि के बारे में जानकारी दी गई. बाल कल्याण समिति अध्यक्ष पल्लवी पोरवाल द्वारा नाबालिग बच्चों को समिति के द्वारा दी जाने वाली सहायता एवं चाइल्ड अब्यूज के केसेज को हैंडल करने के बारे में जानकारी दी गई.
प्रयास सराहनीय
स्थानीय शिकायत समिति अध्यक्ष सुश्री मनीषा पाठक के द्वारा कार्यस्थल पर महिलाओं के साथ होने वाले लैंगिक शोषण के एक्ट पर बात करते हुए बताया कि सभी सरकारी एवं गैर सरकारी कार्यालयों में समिति के सदस्यों की सूची लगाना एवं नियमित बैठक कर प्राप्त शिकायत पर शीघ्रता से कार्य करने के बारे में विस्तार से बताया गया. प्रभारी प्रशासक मीनाक्षी हरवंश के द्वारा वन स्टॉप सेंटर में पीड़ित महिलाओं को सखी केन्द्र द्वारा प्रदान कि जाने वाली सहायताओं से अवगत कराया गया. पीड़ित महिलाओं को न्याय दिलाने, पीड़ित महिलाओं को सलाह के बाद परिवार से जोड़ने आदि के बारे में बताया गया. काउंसलर अलका एवं केस वर्कर शिवानी के द्वारा वन स्टॉप सेंटर कार्यालय की समस्त जानकारी अतिथियों को दी गई। मिस लाना ने कहा कि बच्चों और महिलाओं को हिंसा से मुक्त कराने के लिए जो प्रयास महिला एवं बाल विकास विभाग और बाल कल्याण समिति द्वारा किए जा रहे हैं वो सराहनीय है।
बच्चों से किए सवाल जवाब
अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त श्रीमती मनीषा पाठक सोनी के द्वारा एसपीसी स्टूडेंट पुलिस कैडेट योजना की जानकारी टीम को दी गई. श्रीमती राशि परिहार के द्वारा बच्चों का नेतृत्व करते हुए बच्चों के लिए विभागीय प्रयासों को और बढ़ाने पर जोर दिया गया एवं ज्यादा से ज्यादा बच्चों को एसपीसी योजना से जोड़ने पर जोर दिया गया. भ्रमण के दौरान मिस लाना एवं मार्ग्रेट ग्वाडा ने बच्चों से सवाल जवाब करते हुए चर्चा की एवं उनके द्वारा किए गए प्रयासों की एवं उनके ज्ञान की प्रशंसा की. कार्यक्रम के अंत में विद्यालय के प्राचार्य, उप प्राचार्या, इंस्पेक्टर राधा जामोद एवं निरीक्षक शिवम ठक्कर के द्वारा आभार व्यक्त किया गया।

नव भारत न्यूज

Next Post

जयराम ठाकुर ने मानी हार, राज्यपाल को देंगे इस्तीफा

Thu Dec 8 , 2022
शिमला, 08 दिसम्बर (वार्ता) हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने विधानसभा चुनावों में हार स्वीकार करते हुये कहा है कि वह जनता का उसके फैसले के लिये धन्यवाद करते हैं। श्री ठाकुर ने राज्य में बनने वाली कांग्रेस की नयी सरकार को शुभकामनाएं देते हुये कहा, “ मैं अब […]