ग्वालियर में वायरल और डेंगू का डंक जिले में डेंगू के 64 मरीज मिले

ग्वालियर:  ग्वालियर में वायरल और डेंगू का डंक अपने पांव लगातार पसारता जा रहा है। इसी का नतीजा है कि अब तक ग्वालियर में करीब 64 डेंगू के मरीज पाये जा चुके हैं। इसलिए 3 दिन में ही 30 नए डेंगू के मरीज मिले हैं जिनमें से 17 बच्चे भी शामिल हैं लेकिन जिला प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग और जनप्रतिनिधियों के तमाम दावों और वादों के बीच डेंगू का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है।

ग्वालियर अंचल में वायरल और डेंगू इन दिनों स्वास्थ्य विभाग के लिए एक चुनौती के रूप में साबित हो रहा है। स्वास्थ्य विभाग की टीमें जगह-जगह जाकर कीटनाशक छिड़कने, पानी के गड्ढों को सुखाने और लोगों की जांच के सैंपल लेने का दावा कर रही है। लेकिन डेंगू के हालात ये हैं कि ग्वालियर के सबसे बड़े जयारोग्य अस्पताल समूह सहित जिला अस्पताल और अलग-अलग डिस्पेंसरी में डेंगू के मरीज लगातार बढ़ रहे हैं। निजी अस्पतालों में भी डेंगू का इलाज हो रहा है। जिले के प्रभारी मंत्री तुलसीराम सिलावट भी अपने 1 दिनी ग्वालियर दौरे के दौरान अफसरों को डेंगू पर लगाम लगाने के निर्देश दे चुके हैं।

ग्वालियर में वायरल व ड़ेंगू के डेंजर जोन के रूप में तीन क्षेत्र चयनित किए गए हैं जिसमें दीनदयाल नगर, आदित्यपुरम और सिकंदर कंपू के क्षेत्र भी शामिल हैं। लेकिन इन क्षेत्रों में दवा छिड़कने ,सैंपल लेने की बात तो दूर जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीमें मरीजों का हालचाल लेने तक नहीं पहुंची है। लेकिन भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता लोकेंद्र पाराशर इन बिगड़े हुए हालातों पर भी सब कुछ ठीक-ठाक होने का दावा कर रहे हैं और उल्टे डेंगू के आंकड़े प्रस्तुत करते हुए कह रहे हैं कि कांग्रेस शासनकाल की तुलना में डेंगू के मरीज अब कम है।

नव भारत न्यूज

Next Post

मूल कार्यों में हिंदी का उपयोग करने का संकल्प लें देशवासी: शाह

Tue Sep 14 , 2021
नयी दिल्ली 14 सितंबर (वार्ता) केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने देशवासियों से मूल कार्यों में अपनी मातृभाषा के साथ-साथ हिंदी का प्रयोग करने का संकल्प लेने का आह्वान किया है। श्री शाह ने हिंदी दिवस के मौके पर मंगलवार को देशवासियों को शुभकामनाएं देते हुए एक ट्वीट संदेश में कहा, […]