दिव्यांग महिला कुसुम का मिला पक्का मकान, कलेक्टर ने त्वरित कार्रवाई कर दिलवाया

इंदौर: प्रति मंगलवार की तरह इस मंगलवार भी कलेक्टर कार्यालय में जनसुनवाई संपन्न हुई. कलेक्टर डॉ. इलैयाराजा टी सहित अन्य अधिकारियों ने सैकड़ों नागरिकों की समस्या को पूरी तल्लीनता और गंभीरता के साथ सुना तथा उनका मानवीय संवेदनाओं के साथ निराकरण किया. ऐसी समस्याएं जिनका निराकरण मौके पर नहीं हो पाया उनके निराकरण के लिए समय-सीमा का निर्धारण किया गया और अधिकारियों को निर्देश दिए गए कि इनका सकारात्मक निराकरण निर्धारित समय-सीमा में सुनिश्चित किया जाए.इस जनसुनवाई में अनेक ऐसे लोग थे जिनकी समस्याओं का मौके पर ही निराकरण कलेक्टर डॉ. इलैयाराजा ने किया. इन्हीं में से एक दिव्यांग, बेसहारा तथा विधवा महिला कुसुम भी थी. यह जनसुनवाई उसके जीवन में नई बहार लेकर आयी।

उसके स्वयं के पक्के मकान का सपना कलेक्टर डॉ. इलैयाराजा ने पूरा किया. जनसुनवाई में आज नंदबाग कॉलोनी में रहने वाली कुसुम सूर्यवंशी भी कलेक्टर के समक्ष पहुंची और अपनी दास्तां सुनाई। उसने बताया कि उसके पति पप्पु सूर्यवंशी का लगभग 10 साल पूर्व निधन हो गया. मैं स्वयं दोनों पैर से दिव्यांग हूं, चलने में असमर्थ हूं, मेरे दो छोटे बच्चे हैं. कमाई का कोई स्थायी और बड़ा साधन भी नहीं है. जैसे-तैसे छोटा काम करके मैं अपने तथा बच्चों का गुजारा करती हूं. दो हजार रूपये मकान के किराये में चले जाते हैं. ऐसे में अनेक दिक्कतों का सामना करना पड़ता है

आज ही मिल गया फ्लेट
कलेक्टर ने संवेदनशीलता के साथ इस महिला की समस्या का निराकरण करते हुए इंदौर विकास प्राधिकरण के सम्पदा अधिकारी मनीष श्रीवास्तव को इंदौर विकास प्राधिकरण की आवासीय इकाई में फ्लेट देने के निर्देश दिए. कलेक्टर ने फ्लेट के लिए प्रारंभिक राशि जमा करने हेतु पांच हजार रूपये रेडक्रास सोसाइटी से स्वीकृत किए. साथ ही औपचारिकताएं पूर्ण करने हेतु उसे नायब तहसीलदार लोकेश आहूजा के साथ शासकीय वाहन में इंदौर विकास प्राधिकरण भेजा, और निर्देश दिए कि आज ही इस महिला को आवास की चाबी सौप कर कब्जा दिया जाए. मनीष श्रीवास्तव ने बताया कि इस महिला को स्कीम नम्बर 134 स्टार चौराहा के पास आयडीए की आवासीय इकाई में फ्लेट डी 125 आंवटित कर कब्जा भी सौप दिया गया है। कलेक्टर ने आयडीए के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे यह सुनिश्चित करे कि उसे ऋण स्वीकृत कर ईएमआई न्यूनतम से न्यूनतम ली जाए, जिसे वह वहन कर सके. यह आवास पाकर कुसुम सूर्यवंशी बेहद खुश है। उसे यकीन ही नहीं हो रहा है कि मेरी समस्या का इतनी जल्दी समाधान हो जाएगा। उसने इसके लिए कलेक्टर डॉ. इलैयाराजा टी का आभार व्यक्त किया। उसका कहना है कि मेरे जीवन की एक नई शुरूआत होगी.
कई लोगों की समस्या का हुआ निराकरण
इसी तरह जनसुनवाई में अनेक लोगों की समस्याओं का निराकरण किया गया. इनमें से पाटनी नगर में रहने वाली एक महिला भी शामिल है. इसने बताया कि मेरे तीन बच्चे हैं. पति को मिर्गी की बीमारी है. सास, जेठ तथा देवर परेशान कर रहे हैं और घर से जब चाहे जब निकाल देते हैं. कलेक्टर ने महिला बाल विकास विभाग के अधिकारी को निर्देश दिए कि इस महिला को आज ही पुलिस के साथ उसके घर भेजा जाए और यह सुनिश्चित किया जाए कि इसे उसके परिजन घर से कभी नहीं निकाले. इसी तरह एक सेवानिवृत्त कर्मचारी दिनेश त्रिपाठी की समस्या की निराकरण करते हुए उसके नियुक्तिकर्ता संस्थान वैष्णव पॉलिटेक्निक संस्थान के अधिकारियों को निर्देश दिए कि इसे शीघ्र ही समयमान वेतन का लाभ दिया जाए. ऐसे ही अनेक उदाहरण और भी जनसुनवाई में देखने को मिले.

नव भारत न्यूज

Next Post

कलेक्टर डॉ. इलैयाराजा टी

Wed Dec 7 , 2022
पुलिस ने होटल द पार्क में किया जीवंत अभ्यास इन्दौर: किसी आतंकवादी गतिविधि या आपातकालीन परिस्थिति में सुरक्षा के उपाय कैसे हो इसको लेकर पुलिस की टीमों ने होटल द पार्क में मॉक ड्रिल की. पुलिस ने काउंटर टेररिस्ट ग्रुप सहित होटल के निजी सुरक्षाकर्मियों को भी साथ लेकर, आपातकालीन […]