मदरसा से भाग कर दो नाबालिग पहुंच गए स्टेशन

आरपीएफ ने चाइल्ड लाइन को किया सुपुर्द
जबलपुर: दमोह स्थित मदरसा दालारूम नूरी नगर मोहल्ला में पढ़ रहे दो नाबालिग बच्चे डाट फटकार से नाराज होकर भाग निकले और रेलवे स्टेशन दमोह पहुंच गए। आरपीएफ ने ऑपरेशन नन्हे फरिश्ते अभियान के तहत नाबालिग बालकों को चाइल्ड लाइन के सुपुर्द कर दिया है।जानकारी के मुताबिक जबलपुर मण्डल के पोस्ट सागर के अंतर्गत उपनिरीक्षक जे.डी. मिश्रा एवं आरक्षक राजेन्द्र प्रसाद गोटिया के साथ दमोह स्टेशन पर ड्यूटी में गश्त के दौरान दो नाबालिक बालक प्लेटफार्म नंबर 01 पर लावारिस एवं सहमी हालत में घुमते हुये पाये जाने पर उपनिरीक्षक द्वारा दोनों नाबालिक बच्चों से पूछताछ किया गया तो दोनों ने बताया कि वह ग्राम बसई चितरंगी जिला सिगरौली म.प्र. के रहने वाले है और दोनों दमोह स्थित मदरसा दालारूम नूरी नगर मोहल्ला में पढ़ते है।

जहॉ उनके हजरत द्वारा डाट फटकार के कारण मदरसा से भागकर रेलवे स्टेशन दमोह आ गए। उपनिरीक्षक के द्वारा उक्त दोनों नाबालिक बालको का आरपीएफ आउट पोस्ट दमोह लाया गया और उक्त बालक के संबंध में चाइल्ड हेल्प लाइन दमोह को सुचित किया गया। चाइल्ड हेल्प लाइन दमोह के प्रतिनिधियो के आरपीएफ आउट पोस्ट दमोह मे उपस्थित होने पर उक्त दोनों नाबालिक बालकों को समक्ष गवाह की उपस्थिति उपनिरीक्षक जे.डी. मिश्रा द्वारा सुपुर्द किया गया।
परिजनों ने डांटा तो बालिका ने छोड़ दिया घर
इसी प्रकार जबलपुर मण्डल के पोस्ट कटनी पर उपनिरीक्षक शिशिर कुमार मय स्टाफ अब्दुल रज्जाक के साथ ड्यूटी में गश्त के दौरान कटनी स्टेशन प्लेटफॉर्म नंबर 3 पर एक बच्ची लावारिस हालत में मिली जिससे पूछताछ करने पर बताया कि वह लालमाटी घमापुर, जिला जबलपुर मध्य प्रदेश की रहने वाली है और परिवार डांटने के कारण घर से बिना बताए चली आई थी। तत्पश्चात् चाइल्ड लाइन कटनी को सूचित कर बुलवाया गया। चाइल्ड लाईन कटनी के मेम्बर नितिन सिंह एवं डॉ. करुणा सिंह के रेल सुरक्षा बल पोस्ट कटनी उपस्थित होने पर उक्त बच्ची को सुपुर्द किया गया।

नव भारत न्यूज

Next Post

मम्मी-पापा की याद आई तो हॉस्टल से भाग 4 बच्चे पहुंचे घर

Thu Nov 24 , 2022
पुलिस से लेकर अभिभावक घंटों हुए परेशान जबलपुर: ग्वारीघाट थाना अंतर्गत ग्वारीघाट साईधाम के पास स्थित वर्षा हास्टल हॉस्टल से सुबह-सुबह चार बच्चे अचानक गायब हो गए। इसकी सूचना तत्काल अभिभावकों को दी गई। परिजनों ने पहले तो अपने स्तर पर उनकी खोजबीन शुरू की लेकिन बच्चों का कहीं कोई […]