शिवराज निवेशकों से चर्चा के लिए बेंगलुरु में

बेंगलुरु/भोपाल, 24 नवंबर (वार्ता) इंदौर में जनवरी के दूसरे सप्ताह में प्रस्तावित वैश्विक निवेशक सम्मेलन की व्यापक तैयारियों के बीच मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बेंगलुरू में देश के प्रमुख उद्योगपतियों और व्यावसायिक समूहों के पदाधिकारियों से चर्चा कर उन्हें राज्य में निवेश के लिए आमंत्रित करने के कार्य में जुटे हैं।
श्री चौहान के नेतृत्व में राज्य सरकार का एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल बुधवार से बेंगलुरु की यात्रा पर है। श्री चौहान ने बुधवार की रात्रि में ‘नेटवर्किंग डिनर’ आयोजित कर 45 निवेशकों के साथ चर्चा की। इस दौरान मुख्य रूप से वस्त्र एवं परिधान, सूचना प्रौद्योगिकी, सेमीकंडक्टर, इलेक्ट्रानिक्स, ऑटोमोबाइल, इंजीनियरिंग, फूड प्रोसेसिंग आदि क्षेत्रों से जुड़े उद्योगपति और उनके प्रतिनिधि मौजूद रहे।
आधिकारिक सूत्रों के अनुसार श्री चौहान ने उद्योगपतियों से राज्य में निवेश करने के साथ ही जनवरी के दूसरे सप्ताह में इंदौर में आयोजित निवेशक सम्मेलन में शामिल होने के लिए उन्हें न्यौता दिया। इस दौरान उद्योगपतियों को राज्य में निवेश के लिए सरकार की ओर से देने वाली सुविधाओं के बारे में बताया गया। उद्योगपतियों ने भी निवेश करने को लेकर उत्साह प्रदर्शित किया।
सूत्रों ने कहा कि आज भी श्री चौहान सुबह से ही उद्योगपतियों से ‘वन टू वन’ चर्चा करेंगे। निवेशकों को ‘स्टार्टअप (यूनीकॉर्न)’ के क्षेत्र में मध्यप्रदेश में निवेश की संभावनाओं के बारे में भी बताया जा रहा है। राज्य में अभी सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) के क्षेत्र में निवेश की अपार संभावनाएं हैं। वस्त्र और परिधान उद्योगों में भी निवेश की प्रचुर संभावनाएं हैं।
राज्य सरकार इंदौर में 11 और 12 जनवरी को वैश्विक निवेशक सम्मेलन (ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट) 2023 आयोजित कर रही है। इसके लिए पिछले कई माहों से व्यापक तैयारियां की जा रही हैं। खासतौर से राज्य सरकार का उद्योग विभाग का महकमा इस कार्य में लगा हुआ है और श्री चौहान स्वयं इन कार्यों की निगरानी कर रहे हैं।

नव भारत न्यूज

Next Post

मध्यप्रदेश में आठ नवीन आदर्श महाविद्यालय के लिये 536 पद की स्वीकृति आदेश जारी

Thu Nov 24 , 2022
भोपाल, (वार्ता) राज्य शासन द्वारा उच्च शिक्षा विभाग की रूसा परियोजना में 8 नवीन आदर्श स्नातक महाविद्यालय दमोह, राजगढ़, बड़वानी, छतरपुर, गुना, खण्डवा, सिंगरौली, एवं विदिशा के लिये 336 शैक्षणिक और 200 अशैक्षणिक कुल 536 पद के सृजन की स्वीकृति के आदेश जारी किए गए हैं। आधिकारिक जानकारी के अनुसार […]