लोकसभा चुनाव तक रहेंगे रणदिवे और सोनकर !

सियासत

भाजपा में चर्चा है कि पार्टी जेपी नड्डा का कार्यकाल दो टर्म का करने वाली है। अभी भाजपा के संविधान के अनुसार कोई अध्यक्ष एक कार्यकाल तक ही रह सकता है। सूत्रों का कहना है कि जेपी नड्डा का कार्यकाल 2023 में समाप्त हो जाएगा। जबकि लोकसभा चुनाव में 7 महीने शेष रहेंगे। ऐसे में भाजपा नेतृत्व नहीं चाहता कि चुनाव के ठीक पहले कार्यकर्ता संगठन चुनाव के कारण असमंजस में रहें और इससे पार्टी की चुनावी तैयारियां प्रभावित हों। इस कारण से माना जा रहा है कि जेपी नड्डा के नेतृत्व में ही 2024 का चुनाव संगठन लड़ेगा। इसके लिए आवश्यक तैयारियां की जा रही हैं। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ भाजपा अध्यक्ष निर्वाचन में निर्णायक भूमिका निभाता है।

सूत्रों का कहना है कि संघ का नेतृत्व जेपी नड्डा के कार्यकाल से संतुष्ट है। भाजपा के सर्वोच्च नेता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से भी जेपी नड्डा की ट्यूवनिंग बेहद अच्छी है इस कारण से मोदी और शाह की जोड़ी भी जेपी नड्डा को बरकरार रखने के पक्ष में हैं। यदि ऐसा हुआ तो पार्टी के मंडल और जिला अध्यक्षों के कार्यकाल भी अपने आप ही बढ़ जाएंगे। इसका लाभ इंदौर नगर अध्यक्ष गौरव रणदिवे और जिला अध्यक्ष डॉ राजेश सोनकर को मिलेगा। यह दोनों 2024 के लोकसभा चुनाव तक अपने पदों पर रह सकेंगे। मंडल अध्यक्ष भी लोकसभा चुनाव तक बरकरार रहेंगे। वैसे रणनीति की दृष्टि से भाजपा का यह कदम सही है। यदि ऐसा होता तो कार्यकर्ताओं को भी इससे राहत मिलेगी।

देपालपुर और महू में दावेदार बढ़े

विधानसभा चुनाव को अब केवल 13 माह बचे हैं। ऐसे में दावेदारों ने अपनी सक्रियता बढ़ा दी है। इंदौर जिले के ग्रामीण क्षेत्र में सांवेर, देपालपुर, महू के अलावा राऊ सीट का कुछ हिस्सा आता है। राऊ की सीट की चर्चा इस कॉलम में हो चुकी है। इसलिए इस बार देपालपुर और महू की विधानसभा सीटों को लेकर चर्चा होगी। इंदौर ग्रामीण जिले की सांवेर सीट पर भाजपा की ओर से तुलसी सिलावट का दावा मजबूत है। यह लगभग तय है कि तुलसी सिलावट ही 2023 में भाजपा के उम्मीदवार होंगे। देपालपुर सीट पर भाजपा की ओर से मनोज पटेल सबसे ज्यादा सक्रिय हैं लेकिन वे पिछला और इसके पहले एक और चुनाव हार चुके हैं। इस कारण से उनकी दावेदारी कमजोर पड़ गई है। इस कारण से देपालपुर में भाजपा की ओर से कुछ नए दावेदार सामने आए हैं।

इनमें इंदौर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष जयपाल सिंह चावड़ा का नाम भी है। जयपाल सिंह चावड़ा ने देपालपुर के अलावा इंदौर क्षेत्र क्रमांक 5 और राऊ सीट पर भी फोकस किया है। हाल ही में संपन्न नगरीय और पंचायत चुनाव में भाजपा को देपालपुर में जबरदस्त सफलता मिली। जनपद में परचम फहराने के अलावा जिला पंचायत की सभी सीटें भाजपा ने यहां से जीती। सरपंचों में भी भाजपा का वर्चस्व रहा। नगरीय निकाय चुनाव में भी भाजपा को देपालपुर तहसील में अच्छी सफलता मिली है। इससे ऐसा लग रहा है कि देपालपुर तहसील में कांग्रेस कमजोर हो रही है। यही वजह है कि भाजपा के दावेदारों की निगाहें देपालपुर पर लगी हैं। कहा तो यह भी जा रहा है कि पार्टी यहां से पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर को लड़ा सकती है। उषा ठाकुर की पहली वरीयता इंदौर क्षेत्र क्रमांक 1 है, जहां की वे मूल निवासी हैं।

इसके बाद उनकी पसंद राऊ विधानसभा क्षेत्र रहेगा। उषा ठाकुर के बारे में कहा जाता है कि पार्टी उन्हें एक स्थान से एक बार ही टिकट देती है। उषा ठाकुर की यही विशेषता है कि वे नई सीट पर भी जीत का परचम लहराती हैं।वे प्रदेश के एकमात्र ऐसी महिला विधायक हैं जिन्होंने जिले की तीन अलग-अलग विधानसभा क्षेत्रों से जीत दर्ज की है। 2003 में उन्होंने विधानसभा क्षेत्र क्रमांक एक से पहली बार विधानसभा चुनाव जीता था। 2008 में उन्हें टिकट नहीं मिला। 2013 में उन्हें विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 3 में अश्विन जोशी के खिलाफ उतारा गया है जहां उन्होंने जीत दर्ज की। 2018 के चुनाव में उन्हें महू जैसी कठिन सीट दी गई जहां उन्होंने केवल 14 दिनों में जीत का परचम लहरा दिया। अब कहा जा रहा है कि वे अगली बार महू से नहीं लड़ेंगी। जाहिर है कि यदि ऐसा हुआ तो महू के लिए भाजपा को नए उम्मीदवार की तलाश करना पड़ेगी। यहां से कविता पाटीदार का दावा रहा है लेकिन अब वे राज्यसभा के सदस्य हैं। इस कारण उनकी रूचि विधानसभा चुनाव में नहीं रहेगी।

नव भारत न्यूज

Next Post

भारत ने अपने नागरिकों की सुरक्षा चिंताओं से ब्रिटेन को कराया अवगत

Thu Sep 22 , 2022
न्यूयार्क 22 सितम्बर (वार्ता) भारत ने, ब्रिटेन में भारतीय समुदाय की सुरक्षा को लेकर अपनी चिंता जाहिर की है और इस संबंध में ब्रिटेन सरकार से मिले आवश्वसनों का स्वागत किया है। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बुधवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक से इतर ब्रिटेन के विदेश सचिव […]