ऊर्जा के क्षेत्र में ऊर्जाधानी में हिण्डालको महान ने रचा नया इतिहास

25 मेगावाट क्षमता का सोलर प्लांट का कंपनी प्रमुख ने किया शुभारंभ,औद्योगिक कंपनी के वरिष्ठ अधिकारी,कर्मचारियों की रही मौजूदगी

सिंगरौली : परंपरागत ऊर्जा के विकल्पों से नवीकरणीय ऊर्जा बेहतर और सस्ता स्रोत है। विश्व के अन्य देशों में जैसे-जैसे इसका प्रचलन बढ़ रहा है, नए रोजगार का निर्माण भी हो रहा है। भारत में भी हाल के वर्षों में नवीकरणीय स्रोतों से प्राप्त होने वाली ऊर्जा में 25 प्रतिशत से अधिक की बढ़ोतरी दर्ज हुई। आम लोग भी ऊर्जा के स्थायी विकल्प के तौर पर सोलर एनर्जी की तरफ रुख कर रहे हैं।उर्जाधानी के नाम से मशहूर सिंगरौली जिले में स्थापित आदित्य बिड़ला समूह की कंपनी हिंडालको इंड्रस्ट्रीज लिमिटेड यूनिट महान में कैप्टिक पवार प्लांट के साथ साथ 25 मेगावाट सोलर प्लांट से भी बिजली उत्पाद शुरू कर दिया गया है।

जिसका उद्घाटन कंपनी प्रमुख सेन्थिलनाथ ने विधिवत पूजा कर किया। इस दौरान उनके साथ मानव संसाधन प्रमुख बिश्वनाथ मुखर्जी, स्मेल्टर हेड एस शशि कुमार एवं पावर प्लांट हेड चन्द्र शेखर सिंह मध्य प्रदेश विद्युत वितरण कंपनी लिमिटेड व मध्य प्रदेश पावर ट्रांसमिशन कंपनी लिमिटेड के विभागीय अधिकारी भी उपस्थिति रहे। इस अवसर पर सेंथिल नाथ ने बताया कि इस सौर ऊर्जा प्लांट का निर्माण आदित्य बिड्ला रिन्यूबल एनर्जी के द्वारा किया गया। इस दौरान बड़ी संख्या में वरिष्ठ अधिकारी व कर्मचारी मौजूद रहे। सोलर प्लांट निर्माण में ई एंड आई हेड, संबित पटनायक, बाबुल प्रसाद, निर्माण कुमार व परविंदर सिंह का सराहनीय योगदान रहा।

प्लांट से 55 करोड़ यूनिट बिजली का होगा उत्पादन
इस प्लांट के संचालन से संस्थान को 55 करोड़ यूनिट बिजली का उत्पादन होगा। जिससे 35000 टन कोयले की खपत भी कम होगी। साथ पर्यावरण की दृष्टि से 52000 टन कार्बन उत्सर्जन भी कम होगा। कंपनी का लक्ष्य सोलर प्लांट की बिजली उत्पादन क्षमता को आगे बढ़ाने के कार्य करती रहेगी। इस बिजली का प्रयोग हिंडालको महान आंतरिक जरूरतों व एल्युमिनियम उत्पादन में करेगा। इस अवसर पर उपस्थित मध्यप्रदेश विद्युत वितरण कंपनी लिमिटेड व मध्य प्रदेश पावर ट्रांसमिशन कंपनी लिमिटेड के विभागीय अधिकारियों ने कहा कि हिंडालको महान द्वारा गैर परम्परागत ऊर्जा स्त्रोतों से नवीकरणीय ऊर्जा उत्पन्न करना प्रशंसनीय कार्य किया है। साथ ही उन्हें इस बात पर बल देना है कि सौर तथा अन्य स्वच्छ ऊर्जा स्रोतों को अपनाये जाने के साथ उसे बढ़ावा भी दे और अन्य संस्थान भी इसका अनुकरण करें। हिंडालको महान द्वारा यह कार्य समुदाय पर्यावरण संरक्षण के महान मूल्यों का मशाल वाहक के रूप में है।

नव भारत न्यूज

Next Post

नीट आईआईटी नि:शुल्क कोचिंग प्रवेश परीक्षा में 643 अभ्यर्थी हुए शामिल

Mon Sep 12 , 2022
सिंगरौली : जिले मे आईआईआई नीट परीक्षा की तैयारी करने वाले एससी, एसटी के छात्र-छात्राओं के लिए आज रविवार को जिले के तीनों विकासखण्डों में नि:शुल्क कोचिंग प्रवेश परीक्षा का आयोजन कराया गया। इस परीक्षा में तीनों विकासखण्डों के कुल 643 अभ्यर्थी शामिल हुए।तत्संबंध में जानकारी देते हुए शिक्षा विभाग […]