बलिहारी गुरु आपकी दिया काबिल मोहे बनाये

। उमाकांत शर्मा ।

बैतूल ।। गरीबी का दंश झेलती जिंदगी में आज दो वक्त की रोटी का जुगाड़ हो जाये वही काफी हैं ,महगाई की की मार झेलते मध्यम वर्गीय परिवार को अपना और अपने परिवार का जीवन चलाने के लिए किस जद्दो जहद का सामना करना पड़ रहा है। ये बताने की यहाँ जरूरत नही है।सबसे बड़ा सवाल खुद के बच्चो को लेकर है । कि महंगाई के इस दौर में आखिर वे बच्चो का भविष्य कैसे तय करे।बच्चो को पढ़ाने में लोगो को पसीना छूट रहा हैं । खास तौर पर गरीबो को अपने बच्चों को पढ़ाने के विषय मे सोचना भी कठिन है किंतु उनमे से भी कुछ बच्चे जो पढ़ना चाहते थे उन्हें न्यू बैतूल स्कूल के शिक्षक संदीप कौशिक सर ने न केवल निःशुल्क शिक्षा दी बल्कि कई बच्चों को शाला शुल्क व गणवेश भी उपलब्ध करवाया। उनके द्वारा पढ़ाये हुए सैकड़ों छात्र आज शासकीय/ निजी अथवा व्यवसाय के क्षेत्र में ,कार्यरत हैं। विगत 27 वर्षों से अध्यापन कार्य कर रहे हैं सन्दीप कौशिक ने गणित, अर्थशास्त्र, समाजशास्त्र व कंप्यूटर में मास्टर डिग्री हासिल की हैं ।लेकिन इसे विडम्बना ही कहेंगे वे खुद शिक्षण कार्य कर रहे है । कौशिक जी को यह प्रेरणा अपने शिक्षक पिता व्याख्यता रहे श्री एम एल कौशिक से मिली एंव इसे उन्होंने साकार किया। बैतूल के जाने माने श्रेष्ठ और वरिष्ठ अधिवक्ता श्री राधकृष्ण गर्ग ने , ही संदीप कौशिक को न्यू बैतूल हायर सेकेंडरी स्कूल के माध्यम से यह मंच सौपा था। गरीब और मध्यम वर्गीय परिवार की इसी दुर्दशा को देखते हुए श्री कौशिक अपना संकल्प आगे बढ़ा रहे है। श्री कौशिक के अनुसार शिक्षा व ज्ञान की कोई सीमा नही होती हैं जितना बाँटोगे उससे कई गुना हासिल भी करोगें । आने वाले समय में यदि बच्चे अशिक्षित रहेंगे तो भविष्य में शोषण का शिकार भी होंगे या आपराधिक गतिविधियों को अंजाम देंगे। बौद्धिक विकास, व्यक्तित्व विकास, नैतिक शिक्षा के साथ रोजगार प्रेरक शिक्षा भी बच्चों को मिलना ही चाहियें । बैतूल के गरीब बच्चों को अपने संदीप कौशिक सर पर गर्व है वही कौशिक सर अपने आप को केवल एक माध्यम बल्कि अपने छात्रों को ही काबिल मानते हैं । आज महंगी शिक्षा का चारो तरफ बोल बाला है। लेकिन ये भी सत्य है । कि सरकारी या फिर सस्ते स्कूल में पढ़ने वाला वो बच्चा जिसे यदि सही मार्ग दर्शन मिल जाये तो वो बच्चा भी इतिहास बना डालता है । धन्य है ऐसे शिक्षक जो अपना सारा जीवन और ज्ञान ऐसे गरीब और मध्यम वर्गीय परिवारों के बच्चो पर बरसा रहे है ।

नव भारत न्यूज

Next Post

कोरोना की जांच करने वाली टीम से दुव्र्यवहार करने का आरोप

Sun Sep 5 , 2021
कोरोना की जांच कर रही टीम काली पट्टी बांध कर किया काम लोगों लगाते है फर्जी सैंपलिंग का आरोप नवभारत न्यूज –भोपाल, . राजधानी भोपाल में कोरोना संक्रमण कम होने के बाद अब लोगों में संक्रमण के प्रति डर भी कम हो गया है. जहां पहले लोग कोरोना सैंपल कलेक्ट […]