मौसमी बिमारियों से अस्पताल में बढ़ रही मरीजों की संख्या

अतिरिक्त कक्ष में बेड लगाकर मरीजों को कर रहे भर्ती, उल्टी, दस्त, मलेरिया,टायफाइड, डायरिया,बुखार,निमोनिया सहित अन्य बिमारियों से पीडि़त मरीजपहुंच रहे अस्पताल

सिंगरौली : मौसमी बीमारियों से पीडि़त मरीज इन दिनों ओपीडी के दौरान भारी संख्या में जिला चिकित्सालय सह ट्रामा सेंटर पहुंच रहे हैं। जहां अस्पताल प्रबंधन मरीजों को भर्ती करने के लिए अतिरिक्त कक्ष खोलकर उसमें अतिरिक्त बेड लगाते हुए मरीजों को भर्ती कर ईलाज कर रहे हैं। इन दिनों ओपीडी के दौरान रोजाना करीब 4 सौ से अधिक अलग-अलग बीमारियों से पीडि़त मरीज जिला चिकित्सालय सह ट्रामा सेंटर पहुंच रहे हैं।

दरअसल जिला चिकित्सालय सह ट्रामा सेंटर में ओपीडी के दौरान इन दिनों चार सैकड़ा से अधिक मरीज मौसमी बीमारियों से पीडि़त होकर पहुंच रहे हैं। इन दिनों उल्टी, दस्त, मलेरिया, टायफाइड, डायरिया, सामान्य बुखार, सर्दी, जुकाम, खासी, निमोनिया सहित कई अन्य बीमािरयों से लोग पीडि़त हो रहे हैं। जिसमें सबसे ज्यादा ग्रामीण अंचल में रहने वाले लोग तरह-तरह की बीमारियों से पीडि़त होकर अस्पताल पहुंच रहे हैं। आलम यह है कि अस्पताल में वार्ड व बेड पूरी तरह फुल हो चुके हैं। अब अस्पताल प्रबंधन को अस्पताल में खाली पड़े अन्य कमरों को खुलवाकर अतिरिक्त बेड लगवाते हुए मरीजों को भर्ती कर उनका ईलाज किया जा रहा है।

एक हफ्ते से बंद पड़ी है लिफ्ट मशीन
जिला चिकित्सालय सह ट्रामा सेंटर में गंभीर मरीजों के लाने व ले जाने के लिए लगायी गयी लिफ्ट मशीन एक सप्ताह से बंद पड़ी हुई है। सूत्रों की मानें तो जिला चिकित्सालय में दो लिफ्ट लगायी गयी है। जिसमें से एक लिफ्ट मशीन मेंटीनेंस न होने से एक सप्ताह से बंद है। मेंटीनेंस न होने के पीछे का कारण संविदाकार के साथ अस्पताल प्रबंधन का निविदा समाप्त हो चुकी है और नई निविदा को लेकर अभी तक अस्पताल प्रबंधन ने कोई कदम नहीं उठाया है। यही कारण है कि एक सप्ताह से बंद पड़े लिफ्ट मशीन के मेंटीनेंस का कार्य नहीं हो पाया है।

पीआईसीयू वार्ड की चार दिनों से बंद हैं एसी
कोविड-19 के तहत गंभीर रूप से बीमार बच्चों के लिए सर्वसुविधायुक्त पीआईसीयू वार्ड का निर्माण करीब सालभर पहले किया गया था। जिसमें लगीं एसी पिछले 4 दिनों से बंद पड़ी हुई हैं। जिसको लेकर अस्पताल प्रबंधन सजग दिखाई नहीं पड़ रहा है। इतना ही नहीं पीआईसीयू वार्ड में लगा दरवाजा भी टूट चुका है। जिसको दीवार के सहारे से टिकाकर रखा गया है। मेंटीनेंस कराये जाने को लेकर अस्पताल प्रबंधन ने चुप्पी साध रखी है। वहां भर्ती मरीज के परिजन इस बात को लेकर चिंतित हैं कि कहीं किसी दिन यह भारी भरकम दरवाजा किसी के ऊपर न गिर पड़े नहीं तो लोग गंभीर रूप से घायल हो सकते हैं।

नव भारत न्यूज

Next Post

नगर निगम मुख्यालय में तीसरी मंजिल पर लगी आग

Fri Aug 19 , 2022
ग्वालियर: नगरनिगम के सिटी सेंटर स्थित मुख्याल की तीसरी मंजिल में आग लग गई। फायरब्रिगेड अमले को आग को बुझाने व भवन में भरे धुएं को निकालने मैं खासी करना पडी। अभी तक आग लगने की वजहों का पता नहीं चला है। साथ ही आग से क्या नुकसान हुआ है […]