आजादी के 75 वर्षों बाद भी नहीं हुआ ददोलपुर में पुल एवं सड़क का निर्माण

पन्ना:सरकार द्वारा गांव-गांव स्वास्थ्य और शिक्षा की उच्चतम व्यवस्था पहुंचाने का दावा किया जा रहा है पर पन्ना जिले के कई गांव आज भी बदहाली से जूझ रहे हैं कई ग्रामों के बच्चे सड़क और पुल नहीं होने से बारिश के दिनों में जान जोखिम में डालकर स्कूल जाने को मजबूत है किसी के बीमार होने या महिला के डिलीवरी के लिए एंबुलेंस या जननी एक्सप्रेस पहुंचना भी मुश्किल है, ऐसा ही कुछ मामला गुनौर विधानसभा अंतर्गत ददोलपुर का बताया जा रहा है.

जहां महज 2 किलोमीटर की सड़क और नाला में पुल का निर्माण नहीं होने से यहां के लगभग सैकड़ा भर आदिवासी बच्चे जान जोखिम में डालकर स्कूल जाने को मजबूर हैं, अनेकों आवेदन और ज्ञापनों के बाद भी यहां सड़क और पुल का निर्माण नहीं हो सका, बताया जा रहा है कि ग्राम विक्रमपुर तक सड़क बनी हुई है जहां से ददोलपुर महज किलोमीटर की दूरी पर है, इस बीच ना ही सड़क है और ना ही नाला में पुल है यह नाला बारिश के दिनों में विकराल रूप धारण कर लेता है, जिससे लोगों को पानी में उतर कर ही नाला पार करना पड़ता है कई बार यहां हादसे भी हुए हैं पर समस्या आज भी बरकरार है,

नव भारत न्यूज

Next Post

एक वोट से सभापति की कुर्सी भाजपा के खाते में

Sat Aug 6 , 2022
मनोज तोमर संभालेंगे आसन्दी, उन्हें ३४ तो कांग्रेस की लक्ष्मी गुर्जर को मिले ३३ वोट, निर्दलीयों ने एन वक्त पर भाजपा को दिया चकमा ग्वालियर: ग्वालियर निगम के सभापति पद के चुनाव में अंततः जीत की बाजी भाजपा के हाथ लगी है। केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर के नजदीकी पार्षद […]