बल्‍लेबाज़ों की टी20 रैंकिंग में सूर्यकुमार यादव दूसरे स्थान पर

दुबई, (वार्ता) टी20 अंतर्राष्ट्रीय करियर की पहली 20 पारियों में धूम मचाते हुए बल्लेबाज़ सूर्यकुमार यादव अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की टी20 रैंकिंग में दूसरे नंबर पर जा पहुंचे हैं।
मंगलवार को वेस्टइंडीज़ के विरुद्ध तीसरे टी20 मैच में 76 रन बनाते हुए अब वह सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज़ों की सूची में पाकिस्‍तान के बाबर आज़म (818) से केवल दो अंक पीछे हैं।

कप्तान रोहित शर्मा के साथ पारी की शुरुआत करते हुए सीरीज़ के पहले दो मैच सूर्यकुमार के लिए इतने अच्छे नहीं रहे थे।
हालांकि तीसरे मैच में निर्णायक भूमिका निभाते हुए उन्होंने भारत को 165 के कठिन लक्ष्य के काफ़ी पास पहुंचा दिया।
इस पारी के चलते वह दो स्थान आगे बढ़ते हुए चौथे से दूसरे नंबर पर चले गए हैं।
इससे मोहम्मद रिज़वान और एडन मारक्रम को एक-एक स्थान का नुक़सान हुआ है।
वेस्टइंडीज़ के विरुद्ध भारत को इस सीरीज़ में दो और मैच खेलने है और सूर्यकुमार के पास बाबर को पछाड़ने का बढ़िया मौक़ा है।

पिछले साल टी20 अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण करने वाले सूर्यकुमार ने 38.11 की औसत और 175.60 के स्ट्राइक रेट से अब तक 648 रन बनाए हैं।
पिछले महीने इंग्लैंड के विरुद्ध ट्रेंट ब्रिज पर 117 रनों की पारी खेलकर उन्होंने रैंकिंग में 44 स्थानों की बड़ी छलांग लगाई।

पाकिस्तानी कप्तान बाबर इस समय तीनों अंतर्राष्ट्रीय प्रारूप के टॉप तीन में शामिल होने वाले इकलौते बल्लेबाज़ हैं।
वनडे और टी20 अंतर्राष्ट्रीय रैंकिंग के शीर्ष पर विराजमान बाबर टेस्ट मैचों में तीसरे स्थान पर हैं।
पाकिस्तान का अगला टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैच अगस्त के अंत में एशिया कप के दौरान आएगा और इस बीच वह टी20 अंतर्राष्ट्रीय रैंकिंग में नीचे खिसक सकते हैं।

वहीं भारत के विरुद्ध टी20 सीरीज़ में किफ़ायती गेंदबाज़ी कर रहे अकील हुसैन तीन स्थान आगे बढ़ते हुए गेंदबाज़ों की सूची में छठे स्थान पर पहुंच गए हैं।

नव भारत न्यूज

Next Post

सुप्रसिद्ध चरखा लोगो और खादी मार्क पर केवीआईसी का अधिकार: दिल्ली उच्च न्यायालय

Thu Aug 4 , 2022
नयी दिल्ली,  (वार्ता) दिल्ली उच्च न्यायालय ने एक आदेश में कहा कि खादी ट्रेडमार्क और चरखा लोगो सुप्रसिद्ध हैं और इसपर खादी विकास और ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) का अधिकार है। केवीआईसी बीते माह दिल्ली उच्च न्यायालय गयी थी जिसमें ‘खादी बाय हेरिटेज’ नामक एक निजी संस्था के खिलाफ स्थायी निषेधाज्ञा, […]