नाव की तरह तैरती सौलर पैनल्स तैयार करेगी बिजली

नर्मदा मैया के पानी पर फ्लोटिंग सौर परियोजना करेगी मध्यप्रदेश को रोशन

इंदौर: नर्मदा नदी का मध्यप्रदेश के विकास में अहम योगदान है. इस योगदान में 4 अगस्त से और बढ़ोत्तरी होने जा रही है, जब ओंकारेश्वर के पास नर्मदा के बांध के बैक वाटर में फ्लोटिंग सौर परियोजना के कार्य में गति आएगी. 600 मैगावाट क्षमता की सौर ऊर्जा परियोजना के तहत पहले चरण की 278 मैगावाट की योजना के अनुंबध होंगे. इस परियोजना के तहत बांध के बैक वाटर पर हजारों सोलर पैनल्स लगाई जाएगी. यहां से प्रतिदिन बिजली तैयार होगी. यह बिजली मप्र के कई क्षेत्रों को रोशनी प्रदान करेगी.मप्र के प्रमुख सचिव ऊर्जा संजय दुबे ने बताया कि विश्व में अपनी तरह की सबसे अनूठी, जलीय क्षेत्र के हिसाब से विशालकाय योजना पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर कार्य हाथ में लिया गया है. इसके कई स्थानों पर अध्ययन किया गया, फिर योजना तैयार की गई.

अब इस पर कार्य प्रारंभ होने का समय आ गया है. श्री दुबे ने बताया कि यह पूरी योजना तीन हजार करोड़ की है। जिसमें पावर ग्रिड कार्पोरेशन, वर्ल्ड बैंक और इंटरनेशनल फायनेंस कार्पोरेशन वित्तीय मदद कर रहे हैं. योजना के तहत ओंकारेश्वर बांध के दूसरी ओर नर्मदा नदी के बैक वाटर पर लगभग 2 हजार हेक्टेयर में सोलर पैनल्स लगाई जाएगी. ये पैनल्स इस तरह स्थापित की जाएगी कि वर्षाऋतु में पानी का स्तर काफी ऊंचा होने पर भी भरपूर बिजली तैयार करेगी, वहीं ग्रीष्मकाल में जल स्तर नीचे जाने पर भी सूरज की किरणों से बिजली का जनरेशन सतत होता रहेगा.
आज होंगे अनुबंध
प्रमुख सचिव ने बताया कि परियोजना के तहत गुरूवार दोपहर 12 बजे भोपाल के कुशाभाऊ ठाकरे सभागार में अनुबंध होंगे. इस अवसर पर मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान होंगे। अध्यक्षता प्रदेश के नवकरणीय ऊर्जा मंत्री हरदीप सिंह डंग करेंगे, विशिष्ट अतिथि के रूप में ऊर्जा मंत्री श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, मप्र ऊर्जा विकास निगम के अध्यक्ष श्री गिरिराज दंडोतिया मौजूद रहेंगे।

इसलिए है महत्वपूर्ण
जमीन की कमी के विकल्प के तौर पर ऊर्जा क्षेत्र के कार्यों के लिए पानी की तलाश की गई. ओंकारेश्वर बांध के बैक वाटर पर दो हजार हेक्टेयर क्षेत्र में नर्मदा नदी के पानी पर फ्लोटिंग सोलर पैनल्स परियोजना के तहत सभी चरणों में लगाए जाएंगे. यदि इतनी जमीन बाजार से खरीदी जाती तो अरबों रूपए की तो मात्र जमीन ही मिल पाती, या मुआवजा चुकाना होता.

नव भारत न्यूज

Next Post

कितना भी दबाव डालो, शुक्रवार का आंदोलन नहीं रुकेगा : कांग्रेस

Thu Aug 4 , 2022
नयी दिल्ली  (वार्ता) कांग्रेस ने बुधवार को कहा है कि पार्टी महंगाई, बेरोजगारी और आवश्यक वस्तुओं पर हाल में बढ़ाये गए जीएसटी के खिलाफ पांच अगस्त को प्रधानमंत्री आवास का घेराव करेगी तथा पार्टी के सांसद राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से मिलकर जन समस्याओं को उनके सामने रखेंगे लेकिन उनके आंदोलन […]