महाकाल में नागपंचमी के बाद अब रक्षबंधन की तैयारियां

भस्मारती में बंधेंगी पहली राखी
पुजारी परिवार लगाएगा सवा लाख लड्डुओं का महाभोग, 11 को रक्षाबंधन

उज्जैन: महाकाल मंदिर में नागपंचमी पर्व निपटने के बाद अब रक्षाबंधन पर्व की तैयारियां शुरू हो गई है। इस बार 11 अगस्त को रक्षाबंधन पर्व होगा। इस दिन भगवान महाकाल को परंपरा अनुसार सबसे पहले भस्मारती में राखी बांधी जाएगी।इसके बाद शहर में लोग राखी का त्योहार मनायेंगे। भस्मारती का पुजारी परिवार भगवान महाकाल को राखी बांधेगा। श्रावण पूर्णिंमा रक्षाबंधन पर्व के अवसर पर भगवान महाकाल को भस्मारती में सवा लाख लड्डुओं का महाभोग भी लगाया जाएगा। भस्मारती में भोग के बाद लड्डू प्रसाद श्रद्धालुओं में वितरित किया जाएगा। भगवान महाकाल के लिए पुजारी परिवार ही घर से राखी तैयार कर भस्मारती में लेकर जाएगा।

पुजारी परिवार की महिलाएं ही बनाएंगी महाकाल के लिए राखी-पुजारी परिवार की महिलाएं यह राखी विशेष रूप से तैयार करती है। वर्तमान में भस्मारती के महेश पुजारी ने बताया कि रक्षाबंधन पर भगवान महाकाल को पहले राखी बांधने व सवा लाख लड्डू का भोग लगाने की परंपरा प्राचीनकाल से ही चली आ रही है। पहले पुजारी परिवार राखी बांधता है।
2 दिन पहले बनेंगे लड्डू
राखी पर अन्य भक्तों की ओर से भी महाकाल को राखी बांधी जाएगी। भस्मारती में सवा लाख लड्डू का भोग दो दिन पहले से मंदिर में बनना शुरू होगा। परंपरा अनुसार यह भोग जिस भी पुजारी परिवार की होती है। उनके द्वारा ही यजमानों के सहयोग से यह लड्डू तैयार किए जाते हैं। भस्मारती में लड्डुओं के भोग की झांकी सजाई जाएगी व लड्डू प्रसाद वितरण होगा।
अब 21 अगस्त 2023 को खुलेंगे नागचंद्रेश्वर के पट
महाकाल मंदिर के शिखर पर स्थित श्री नागचंद्रेश्वर महादेव के पट नागपंचमी के दौरान 24 घंटे आम दर्शन कराने के बाद एक बार फिर बंद कर दिए गए। अब यह पट अगले वर्ष यानी 2023 में 21 अगस्त को नागपंचमी पर्व पर ही परंपरा अनुसार खोले जायेंगे। महाकाल मंदिर में स्थित श्री पंचायती महानिर्वाणी अखाड़े के महंत विनित गिरि महाराज ने मंदिर में पूजा-आरती करने के पश्चात 2-3 अगस्त की मध्य रात को पट बंद कर मंदिर में ताला लगाया। इस बार दर्शन के सारे रिकॉर्ड टूट गए। 24 घंटे में 4 लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने दर्शन किए। इसके दो कारण रहे। पहला दो वर्ष कोरोना के चलते लोग दर्शन नहीं कर पाए थे। दूसरा मंदिर में जाने के लिए इस वर्ष प्रशासन ने ऐरोब्रिज तैयार किया था जिससे जल्दी दर्शन हुए।

नव भारत न्यूज

Next Post

कांग्रेस से बचाने भाजपा ने पार्षदों को हरियाणा के फ़ाईव स्टार हँस रिजॉर्ट में भेजा

Thu Aug 4 , 2022
अब मतदान के दिन ही लौटेंगे, सभापति बनाने कांग्रेस में आखिरी जोड़तोड़ शुरू ग्वालियर: कांग्रेस द्वारा फेंके जा रहे मोहपाश से बचाने भाजपा हर संभव जतन कर रही है। इसी सिलसिले में भाजपा के रणनीतिकारों ने आज एक बड़ा कदम उठाते हुए ग्वालियर निगम के अपने सभी 34 नवनिर्वाचित पार्षदों […]