महापौर अजय बाबा न कहा पांच वर्ष में शहर को महानगर बना देगें

बजट में कटौती की तो जनता के साथ करेगें सडक़ में आन्दोलन: महापौर

रीवा:रीवा के नवनिर्वाचित महापौर अजय मिश्रा बाबा शनिवार को शपथ लेने के बाद पहली बार पत्रकारों से परिषद कक्ष में चर्चा की. जहां पर उन्होने बताया कि शहर में बहुत काम करने की आवश्यकता है. सबको मिलकर काम करने की जरूरत है. पांच वर्ष में शहर को एक महानगर बना देगें. उन्होने बताया कि सीवर लाइन के चलते जो सडक़े टूटी हैं, उन सडक़ो को बेहतर बनाने के साथ शुद्ध पानी लोगो को मिले. इस पर तेजी से काम किया जायेगा. एक सवाल के जवाब में महापौर ने कहा कि पहले विकास फिर भ्रष्टाचार की जांच करायेगें.
महापौर श्री मिश्र ने मीडिया कर्मियों का हृदय से आभार व्यक्त करते हुए कहा कि शहर में बहुत काम करना है तभी महानगर बना पायेगें. उन्होने बगैर नाम लिये भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि विकास के नाम पर सरकारी जमीनों को बेच दिया गया.

फर्जी विकास शहर में हुआ है, कंक्रीट का शहर बनकर रह गया. 214 करोड़ की सीवर लाइन प्रोजेक्ट भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गई. जनता ने झूठे विकास को नकारते हुए कांग्रेस पर विश्वास जताया है. उन्होने कहा कि संकल्प पत्र में हमने जो कहा है उसे पूरा करेगें. मेयर हेल्पलाइन शुरू की जायेगी ताकि लोगो को काम के लिये भटकना न पड़े. पत्रकारों के लिये जो संकल्प पत्र में कहा गया है उसे भी पूरा किया जायेगा. इसके साथ ही पेपर बांटने वाले हाकर गर्मी, ठंडी और बरसात में घर-घर अखबार पहुंचाते हैं उनके लिये भी व्यवस्था बनाई जायेगी. आर्थिक स्थिति को लेकर किये गये सवाल पर महापौर श्री मिश्र ने बताया कि टैक्स की जो राशि बकाया है उसकी वसूली करायेगें और शासन स्तर से जो बजट निगम को मिलता है अगर उसमें राजनीतिक षडय़ंत्र कर कटौती की जायेगी तो जनता को लेकर सडक़ पर आन्दोलन करेगें.
सरकारी वाहन महापौर ने लौटाया
शपथ लेने के साथ ही महापौर अजय मिश्रा बाबा ने जनहित में एक बड़ा निर्णय लिया. उन्होने सरकारी वाहन को लौटा दिया और कहा कि उनके पास खुद का वाहन है उसका ही उपयोग करेगें. नगर निगम का वाहन लेने से 40-50 हजार का खर्चा आयेगा और यही पैसा बचेगा तो विकास कार्य में लगेगा. पहली बार ऐसा हो रहा है जब कोई महापौर सरकारी वाहन नही ले रहा. अधिकारी मंहगे वाहन में चल रहे हैं इस सवाल पर उन्होने कहा कि इसे देखा जायेगा कि किस अधिकारी को किस तरह के वाहन लेने की पात्रता है. अध्यक्ष को वाहन मिलेगा कि नही, इस पर महापौर श्री मिश्र ने कहा कि इसे भी देखा जायेगा कि किसे क्या पात्रता है. उन्होने बताया कि सरकारी आवास लेगें, जिसे महापौर कार्यालय बनायेगें. महापौर ने बताया कि उनका घर दूर है ऐसे में हर कोई उनके घर तक नही पहुंच पायेगा. सरकारी आवास में कार्यालय में किसी को पहुंचने में दिक्कत नही होगी.

नव भारत न्यूज

Next Post

अंतिम छोर तक बैठे व्यक्ति तक बिजली पहुंचाने का कार्य मोदी सरकार ने किया है:

Sun Jul 31 , 2022
रीती एनटीपीसी विन्ध्याचल के उमंग भवन में उज्जवल भारत, उज्जवल भविष्य बिजली महोत्सव का हुआ आयोजन,प्रधानमंत्री के उद्बोधन को लाइव टेलीकास्ट के माध्यम से सुना व देखा गया विन्ध्यनगर :एनटीपीसी विंध्याचल में आज 30 जुलाई को उज्जवल भारत उज्जवल भविष्य कार्यक्रम का आयोजन जिला प्रशासन, सिंगरौली के नेतृत्व में एवं […]