आरटीआई अधिनियम में निजी विश्वविद्यालयों को जानकारी देने बाध्य न किया जाए

हाईकोर्ट ने मुख्य सूचना आयुक्त के आदेश पर लगाई मुहर
जबलपुर: हाई कोर्ट ने अपने एक महत्वपूर्ण अंतरिम आदेश में व्यवस्था दी है कि निजी विश्व विद्यालयों को आरटीआई अधिनियम अंतर्गत जानकारी देने बाध्य न किया जाए। न्यायमूर्ति संजय द्विवेदी की एकल पीठ ने मुख्य सूचना आयुक्त के आदेश पर अंतरिम रोक लगा दी। याचिकाकर्ता निजी विश्व विद्यालयों की ओर से अधिवक्ता सिद्धार्थ राधेलाल गुप्ता व आशीष मिश्रा ने पक्ष रखा। उन्होंने दलील दी कि निजी विश्वविद्यालय केंद्र या राज्य सरकार से किसी भी तरह का वित्तीय सहायता या शासकीय अनुदान प्राप्त नहीं करते हैं।

लिहाजा उन्हें सूचना के अधिकार में लोक सूचना अधिकारी को नियुक्त करने बाध्य करना किसी भी व्यक्ति द्वारा दाखिल आवेदन को स्वीकार कर सूचना प्रदान करने के लिए बाध्य करना अनुचित है। राज्य के मुख्य सूचना आयुक्त द्वारा आदेश पारित कर के यह कहा था कि प्रदेश भर के निजी विश्वविद्यालय न केवल लोक सूचना अधिकारी नियुक्त करने अपितु सूचना के अधिकार में मांगी जाने वाली सभी जानकारियों को सार्वजनिक करने हेतु बाध्य हैं। इसी रवैये के खिलाफ हाई कोर्ट में याचिका दायर की गई है। राज्य सूचना आयोग की ओर से अधिवक्ता जय शुक्ला ने पैरवी की।

नव भारत न्यूज

Next Post

मांडू में दफना दिया गया था जबलपुर निवासी किशोर का शव

Thu Jun 23 , 2022
दोबारा पोस्टमार्टम हुआ, हत्या की आशंका जबलपुर:मांडू के काकड़ा खोह में 13 जून को मिले शव की शिनाख्त हो गई है। मृतक की पहचान अतुल मिश्रा 16 वर्ष निवासी जबलपुर गढ़ा के रूप में की गई है। सूचना पर पहुंचे परिजनों ने शिनाख्त करते हुए हत्या की आशंका जाहिर की […]