दसघाट के ताप्ती नदी से अवैध रेत खनन जिम्मेदार नहीं दे रहे ध्यान

बुरहानपुर/डोईफोडिया: क्षेत्र में खनिज माफिया द्वारा ताप्ती नदी से रोजाना दर्जनों ट्राली रेत निकाली जा रही है। खनिज विभाग के उदासीन रवैये के चलते खनिज माफिया सक्रिय हो रहे हैं। नदी में रोजाना अवैध उत्खनन कर ट्रैक्टर ट्राली से रेत ले जाई जा रही है। इससे राजस्व का चूना लग रहा है। इसकी जानकारी प्रशासनिक अधिकारियों को होने के बावजूद वे चुप्पी साधे हुए हैं। शिकायतें होने पर प्रशासन द्वारा गिने चुने कुछ लोगों को पकड़ा जाता है। वहीं नाममात्र के लिए कार्रवाई भी की जाती है, लेकिन अवैध उत्खनन पर अंकुश नहीं लग पा रहा है।

खनिज विभाग द्वारा कार्रवाई न करने से अवैध उत्खनन करने वालों के हौसले बुलंद है और वह लगातार अवैध उत्खनन करने में जुटे हुए हैं।
उत्खनन करने वालों की राजनीतिक व प्रशासनिक पकड़. खनिज माफियाओं की राजनीतिक व प्रशासनिक अच्छी पकड़ है। इस कारण क्षेत्र मे अवैध उत्खनन कर राजस्व को चूना लगा रहे हैं। वहीं अधिकारी भी इसे नजरअंदाज कर अनुचित लाभ ले रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक अवैध उत्खनन करने वालों की अच्छी पकड़ है। कोई जनप्रतिनिधि की बताता हैए तो प्रशासनिक अधिकारियों की आड़ में उत्खनन करने में जुटे हुए हैं। क्षेत्र की दसघाट व मांजरोद से रोजाना दर्जनों ट्रैक्टर ट्राली अवैध रेत खनन कर रहे हैं।

कृषि उपकरणों का उत्खनन में उपयोग. कृषि विभाग से कृषि के नाम पर ट्रैक्टर खरीद कर माफिया खनन कार्य में ट्रैक्टर ट्राली का उपयोग करते नजर आ रहे हैं। माफिया 24 घंटे अपना काम कर रहे हैं। चाहे दिन हो या रात नदियों में नजर आ रहे हैं। लेकिन इस ओर न तो स्थानीय प्रशासन द्वारा ध्यान दिया जा रहा है और न खनिज विभाग द्वारा कोई कार्रवाई की जा रही है।
इनका कहना है…
* मैं चुनाव में व्यस्त हूं संबंधित अधिकारी को अवगत कराने के बाद रेत माफिया पर कार्रवाई की जाएगी ।
सुंदरलाल ठाकुर
तहसीलदार खकनार।

नव भारत न्यूज

Next Post

चुनाव: कई जगहों पर इंडिया-बांग्लादेश जैसा मुकाबला

Thu Jun 23 , 2022
कई बड़े चेहरों की प्रतिष्ठा के साथ राजनीतिक कॅरियर भी दांव पर मंदसौर: भारत और बांग्लादेश के बीच मैच में सबसे ज्यादा दबाव भारत पर होता है। इसका कारण है कमजोर टीम के सामने खेलने वाली मजबूत टीम को मैच जीतना ही होता है। यहां उसकी प्रतिष्ठा दांव पर होती […]