भाजपा से 42 महिलाओं, 37 पुरूषों को मिली टिकट

कांग्रेस में फँसा पेंच, पार्षद प्रत्याशियों की सूची नहीं हुई जारी, देर रात तक होता रहा इंतजार
जबलपुर: भारतीय जनता पार्टी ने लंबी माथापच्ची और कई दौर की बैठकों समेत चयन समिति के अनुमोदन के पश्चात आखिरकार 79 वार्डों के पार्षद प्रत्याशियों की शुक्रवार सुबह सूची जारी कर दी गई। प्रत्येक वार्ड में 3 से अधिक उम्मीदवारों ने अपने नाम भाजपा प्रत्याशी बनने के लिए भेजे थे। जिसको लेकर पार्षद प्रत्याशी दावेदारी कर रहे थे। भाजपा की कमेटी ने सभी नामों पर मंथन करने के बाद अब इन नामों पर अंतिम मुहर लगा दी हैं।

भाजपा से 42 महिलाओं और 37 पुरूषों को टिकट मिली है। वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस की सूची अटकी हुई है जिसके चलते कांग्र्रेस के पार्षद पद के दावेदारों को इंतजार करना पड़ रहा है। देर रात तक कांग्रेस की सूची जारी होने का इंतजार होता रहा लेकिन समाचार लिखे जाने तक लिस्ट जारी नहीं हुई। सूत्र बताते है कि कांग्रेस के पार्षदों की सूची तैयार हो गई है लेकिन कुछ वार्डों को लेकर यहां वर्चस्व को लेकर पेंच फँसा हुआ है। यहीं कारण है कि सूची जारी होने में देरी हो रही है।
कहीं जश्न तो कहीं रोष
सूूत्रों की माने तो भाजपा द्वारा सूची जारी होते ही अनेक कार्यकर्ताओं में रोष देखा जा रहा है, वहीं जिन्हें टिकट मिला है वे जश्न मनाने में जुट गए हैं। भाजपा द्वारा जारी सूची में पूर्व विधायकों, नेताओं, बड़े पदाधिकारियों के परिजनों के नामों को फाइनल किया गया है। इनमें बेटे, पत्नी व रिश्तेदार समेत बड़े नेताओं के खास कार्यकर्ताओं को तवज्जो दी गई है। वहीं सूची से जिन नामों को बाहर किया गया है वे खुद को ठगा महसूस कर रहे है।
उठ सकते है विरोध के सुर
सूत्र बताते है कि भाजपा ने पहले तो बहुत देरी से सूची जारी की है। वहीं इसमें कुछ नामों को लेकर कार्यकर्ता विरोध कर सकते हैं। इसके लिए बड़े पदाधिकारियों को तैयार रहना चाहिए। क्योंकि जो पार्टी के समर्पित कार्यकर्ता हैं उनकी अपनी भीड़ है वे नाम सूची से गायब हैं। इन्हें वोट के लिए समर्थन जुटाने में बहुत मशक्कत करनी पड़ेगी।
कांग्रेस में विवाद गहराया, सूची अटकी
उल्लेखनीय है कि 9 जून को भोपाल से महापौर उम्मीदवार घोषित हुई थी। 11 जून को चियन समिति ने सिंगल तय करने का दावा किया गया। 14 जून को सूची पर फिर विवाद गहराया जिसके चलते घोषणा टली। 15 जून को तय उम्मीदवारों को तैयारी करने कहा गया। 16 जून की रात सूची पर मंथन के लिए भोपाल में बैठक हुई। उसके बाद भी शुक्रवार को देर रात तक सूची जारी नहीं हो पाई।
रात में फर्जी सूची हुई लीक
उल्लेखनीय है कि 11 जून को भाजपा द्वारा जिला चयन समिति घोषित की गई थी। 12 जून को जिला चयन समिति की बैठक हुई। 13 जून को सम्म्म्भागीय चयन समिति की बैठक हुई। 14 जून को भोपाल से महापौर के नाम की घोषणा हुई थी। 16 जून को टिकट घोषित नहीं लेकिन फर्जी सूची लीक होने से हल्ला मच गया। शुक्रवार को भाजपा द्वारा सूची जारी हुई है। जिसमें वायरल सूची के नाम अपनी जगह नहीं बना पाए।
कईयों के नाम काटे, बगावत की दी चेतावनी
सूत्र बताते हैं कि पश्चिम विधानसभा व मध्य विधानसभा से कई दिग्गजों के नाम काट दिए गए हैं। इसकी भनक उन्हें लग गई है और वे अपने भोपाल-दिल्ली के राजनीतिक आकाओं के माध्यम से जोर लगा रहे हैं। कुछ उम्मीदवारों ने बगावत की चेतावनी दी है। पश्चिम विधानसभा के तीन दिग्गज उम्मीदवारों के टिकट कट गए हैं।
समर्थ की जगह कमलेश प्रत्याशी घोषित
सुबह जारी हुई भाजपा की सूची में देर शाम संशोधन हो गया। भाजपा प्रदेश अपील समिति ने निर्णय अनुसार नगर निगम वार्ड क्रमांक 35 से पूर्व घोषित प्रत्याशी समर्थ तिवारी के स्थान पर कमलेश अग्रवाल को पार्टी का प्रत्याशी घोषित किया गया है।

नव भारत न्यूज

Next Post

पार्टी ने जिस विश्वास के साथ आपको चुनाव मैदान में उतारा है उसे साकार करके दिखायें: राजेश

Sat Jun 18 , 2022
भाजपा कार्यालय में चुनाव तैयारी को लेकर बैठक आयोजित,भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष, जिलाध्यक्ष एवं द्वय विधायक भी रहे मौजूद सिंगरौली : नगरीय निकाय चुनावों की पूर्ववर्ती तैयारियों के परिप्रेक्ष्य में आज भारतीय जनता पार्टी सिंगरौली की अति महत्वपूर्ण बैठक जिला कार्यालय कुशाभाऊ ठाकरे स्मृति भवन के सभाकक्ष में सम्पन्न हुई। आगामी […]