विश्वास की धारा से देश को ले जा सकते हैं आगे

अभ्यास मंडल के मासिक वर्चुअल व्याख्यान में बोले आलोक मेहता

इंदौर: यह कहना एकदम सही नहीं है कि देश में कही कुछ नहीं हो रहा है. चारों तरफ निराशा का माहौल है. बेरोजगारी बढ़ रही है. अर्थव्यवस्था पटरी से उतर चुका चुकी है. हर तरफ भ्रष्टाचार है. जबकि सच यह है कि बीते वर्षो में देश में बड़े बदलाव आए हैं. पंचायत राजव्यवस्था में बहुत अधिक सुधार हुआ है. गांवो से लेकर शहरों तक में सड़कों का जाल बिछा है. साक्षरता बढ़ने से सामाजिक जागरूकता बढ़ी. स्वास्थ्य, चिकित्सा, शिक्षा, खेल, पत्रकारिता, कृषि, वित्त आदि क्षेत्रों में विकास के नए प्रतिमान भी स्थापित हुए हैं.

ये विचार वरिष्ठ पत्रकार, लेखक एवं विचारक आलोक मेहता के हैं, जो उन्होंने अभ्यास मंडल के मासिक व्याख्यान वेबीनार में मुख्य वक्ता बतौर व्यक्त किए. विषय था सामाजिक सरोकार सत्ता और मीडिया की भूमिका. श्री मेहता ने अपने एक घंटे के धाराप्रवाह संबोधन में राजनीति, पत्रकारिता, सामाजिक सरोकार जैसे विषयों को एक साथ रेखांकित करते हुए अपनी बात को छोटे-छोटे प्रसंग और संस्मरण के माध्यम से बताते हुए कहा कि हम देश में आशा और विश्वास की धारा पैदा करके ही हम उसे आगे ले जा सकते हैं और यह जरूरी इसलिए है कि सकारात्मक भाव से सोचेंगे तभी आशावाद का भाव बंधेगा और तमाम अवरोधों के बीच में हमें कुछ अच्छाइयां देखने को मिलेगी.

आबादी के साथ चुनौतियां भी बढ़ी
उन्होंने कहा कि हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि जब देश आजाद हुआ था उस समय हमारे यहां की आबादी मात्र 33 करोड़ थी जबकि आज उसकी 4 गुना अधिक हो गई है, अतः केवल आबादी ही नहीं बढ़ी सामाजिक चुनौतियां भी बड़ी लोगों की सरकार से अपेक्षाएं बढ़ी. गांव से लेकर शहरों तक नई-नई समस्याएं बढ़ी. लेकिन इनको दूर करने के लिए नए-नए तरीके भी इजाद हुए. वेबिनार में श्री मेहता ने श्रोताओं द्वारा पूछे गए प्रश्नों के संतोषजनक जवाब दिए. अतिथि परिचय पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग अध्यक्ष डॉ सोनाली नरगूंदे ने दिया. संचालन डॉ. पल्लवी आढ़व ने किया. आभार माना अध्यक्ष रामेश्वर गुप्ता ने. वेबीनार में देअविवि के पूर्व कुलपति डॉ. भरत छापरवाल, श्यामसुंदर यादव, अशोक बड़जात्या, शिवाजी मोहिते, राजेंद्र जैन, अशोक कोठारी, शफी मोहम्मद शेख, मदन राणे, प्रवीण जोशी, सहित 74 से अधिक प्रबुद्ध जन उपस्थित थे.

नव भारत न्यूज

Next Post

पीईबी की सभी परीक्षाएं भी निरस्त करने की मांग

Tue Aug 31 , 2021
एनएसइआईटी पर परिक्षाओं में गड़बडी की लगेगी पैनाल्टी नवभारत न्यूज भोपाल,  पीईबी की परीक्षाओं में शामिल होने उम्मीदवारों की मांग है, कि शासन को पीईबी की सभी परीक्षाओं को निरस्त करना चाहिए, क्योंकि जब एनएसइआईटी से हैक कर पेपर लीक कर परीक्षाएं करा सकते है, तो और भर्ती परीक्षाओं में गड़बड़ी […]