स्कूल खुले नहीं फीस को लेकर दबाव बनाना शुरू

कल से 6वीं से 12वीं तक स्कूल खोलने की तैयारी
नवभारत न्यूजभोपाल, प्रदेश में कोरोना संक्रमण कम होने के बाद अब एक सितंबर से 6वीं से 12वीं तक स्कूल खोलने की घोषणा हो चुकी है.स्कूल केवल 50 फीसदी क्षमता के साथ ही खुलेंगे. खास बात यह है कि स्कूल अभी तक खुले नहीं है, लेकिन निजी स्कूल संचालक अभिभावकों को फीस जमा करने का दबाव बनाने लगे हैं. ऐसे में पैरेंटस का कहना है कि अगर बच्चा स्कूल न आकर ऑनलाइन क्लास अटेंड कर रहा है, तो उससे सिर्फ ट्यूशन फ ीस ली जाएगी या स्कूल संचालकों को पूरी फ ीस वसूलने का अधिकार होगा. जबकि मामले में स्कूल संचालकों का कहना है कि मंत्री से मुलाकात के दौरान उन्होंने पूरी फ ीस लेने का आश्वासन दिया था, लेकिन अब तक शासन की तरफ से फ ीस को लेकर निर्देश नहीं दिए गए. इधर, हाईकोर्ट के निर्देश हैं कि जब तक महामारी रहेगी, सरकार यह घोषित नहीं क रती है कि महामारी खत्म हो गई है, तब तक ट्यूशन फ ीस ही ली जाएगी.
आज कोर्ट में लगाएंगे याचिका
इधर एसोसिएशन ऑफ अन एडिड प्राइवेट स्कूल्स मध्य प्रदेश के सचिव बाबू थॉमस का कहना है कि अब तक शासन के निर्देश थे, जब तक स्कूल नहीं खुलते हैं, सिर्फ ट्यूशन फ ीस ले सकते हैं. स्कूल शिक्षा मंत्री ने फ ीस लिए जाने को लेकर मौखिक कहा है, लेकिन लिखित आदेश नहीं हैं. स्कूल खोलने के आदेश आने के बाद अब 1 सितंबर से स्कूल खुलने पर पूरी फ ीस ली जा सकती है. स्पष्ट निर्देश नहीं होने के कारण हम आदेश का इंतजार कर रहे हैं. फ ीस को लेकर निर्देश जारी नहीं किए जाते हैं, तो फि र हम कोर्ट जाएंगे. मंगलवार को इसको लेकर हाईकोर्ट में याचिका लगाएंगे.
पहले लगी है याचिका
पहले से ही फ ीस को लेकर हाईकोर्ट में याचिका लगी है. इसमें अधिक फ ीस लेना, ट्यूशन फ ीस के नाम पर परेशान करना, टीसी नहीं देना, जैसे मौलिक अधिकारों के हनन के मुद्दे हैं. इस पर 6 सितंबर को सुनवाई की जाएगी. अगर किसी पेरेंट्स को परेशान किया जाता है, तो हम इस बात को भी कोर्ट के सामने रखेंगे. जागृत पालक संघ के अध्यक्ष चंचल गुप्ता ने बताया कि हाईकोर्ट के फ ीस को लेकर स्पष्ट निर्देश हैं, चूंकि स्क ूल खुल गए हैं, तो ऑनलाइन और ऑफ लाइन क्लास का ऑप्शन छात्रों के पास है. स्कूल जाना अनिवार्य नहीं है. पेरेंट्स की मर्जी पर ही बच्चे स्कूल आएंगे.

नव भारत न्यूज

Next Post

विश्वास की धारा से देश को ले जा सकते हैं आगे

Tue Aug 31 , 2021
अभ्यास मंडल के मासिक वर्चुअल व्याख्यान में बोले आलोक मेहता इंदौर: यह कहना एकदम सही नहीं है कि देश में कही कुछ नहीं हो रहा है. चारों तरफ निराशा का माहौल है. बेरोजगारी बढ़ रही है. अर्थव्यवस्था पटरी से उतर चुका चुकी है. हर तरफ भ्रष्टाचार है. जबकि सच यह […]