रातभर सुलगती रही ट्रांसफॉर्मर फैक्ट्री में लगी आग

धमाकों से गूंजा औद्योगिक क्षेत्र रिछाई, सुबह लौटी दमकल की गाडिय़ां
जबलपुर: औद्योगिक क्षेत्र रिछाई में ट्रांसफॉर्मर बनाने की फैक्ट्री में रविवार रात्रि 7:50 बजे लगी भीषण पूरी रात सुलगती रही। नगर निगम दमकल का अमला पूरी रात आग बुझाने में जुटा रहा। दरअसल आग की चपेट में आकर 2 सिलेंडरों में जोरदार ब्लास्ट हुआ था इस ब्लास्ट से अचानक फैली आग ने फैक्ट्री में रखे 12 हजार लीटर ऑयल को भी चपेट में ले लिया था इसके बाद पूरी फैक्ट्री में चंद मिनटों के भीतर ही आग ने रोद्र रूप धारण कर लिया। आग इतनी भीषण थी की घंटों तक फैक्ट्री से धुंआ बाहर निकलता रहा। फायर बिग्रेड की 12 गाडिय़ां आग पर काबूू पाने में लगी रही। सुबह आग पूरी तरह बुझ पाई जिसके बाद दमकल वाहन लौटे। इस अग्नि कांड में लाखों की क्षति होने का अनुमान है।
रात्रि 7:50 बजे लगी आग, सुबह 7:30 बजे बुझी
रिछाई में राजीव अग्रवाल की ट्रांसफार्मर बनाने की फैक्ट्री है। फैक्ट्री करीब 20 हजार वर्गफीट में फैली थी, गोदाम और उसके सामने आफिस भी बना हुआ था। फैक्ट्री में ट्रांसफार्मर की रिपेयरिंग व नए ट्रांसफार्मर बनाने का काम किया जाता है। करीब 100-125 ट्रांसफार्मर फैक्ट्री में रखे हुए थे। इसके अलावा करीब 12 हजार लीटर आयल भी रखा था। ट्रांसफार्मर में आयल का उपयोग किया जाता है। रविवार रात्रि 7:50 बजे अचानक भीषण आग लग गई थी। फैक्ट्री में ज्वलनशील सामग्री रखी होने से आग तेजी से फैली और कुछ घंटे में ही सबकुछ जलकर राख हो गया। सुबह करीब 7:30 बजे आग पूरी तरह बुझ पाई थी।

सायरन से गूंजा औद्योगिक क्षेत्र, बंद की क्षेत्र की बिजली-
अग्निहादसे की सूचना मिलने के बाद दमकल वाहनों के अलावा पुलिस, नगर निगम और जिला प्रशासन, बिजली विभाग के अधिकारी भी पहुंच गए। पूरा औद्योगिक क्षेत्र दमकल व पुलिस के वाहनों के सायरन से गूंज उठा। हरकत में आए बिजली विभाग ने भी तत्काल क्षेत्र की बिजली बंद कर दी। ताकि शार्ट सर्किट से कहीं और आग न लगे। बिजली बंद होने से दमकल कर्मियों को भी वाहन लाने-ले जाने व आग बुझाने में परेशानी हुई।
फायर सब स्टेशन की नहीं हो पाई स्थापना
औद्योगिक क्षेत्र रिछाई में पूरी में भी कई बड़े हादसे हो चुके है। अग्निहादसों से निपटने के लिए उद्यमियों द्वारा यहां फायर सब स्टेशन स्थापित करने की लगातार मांग की जा रही है। उसकी स्वीकृत भी मिल गई है। लेकिन जिला प्रशासन और नगर निगम की उदासीनता के चलते यहां सब स्टेशन स्थापित नहीं हो पाया।
हो सकती थी जनहानि
जानकारी के अनुसार जिस ट्रांसफार्मर फैक्ट्री में आग लगी, उसके परिसर में ही फैक्ट्री में कार्यरत गार्ड का परिवार भी रहता था। जैसे ही आग फैली वहां मौजूद लोगों ने समय रहते गार्ड के परिवार को फैक्ट्री परिसर से बाहर निकाल लिया, वरना जनहानि भी हो सकती थी।

नव भारत न्यूज

Next Post

युवती के गले में हुई बॉल बराबर थायराइड ग्रंथि

Tue Jun 14 , 2022
क्टोरिया ने मेजर सर्जरी का नया कीर्तिमान हासिल कर महिला को दिया जीवन जबलपुर:सेठ गोविंददास विक्टोरिया अस्पताल की वरिष्ठ सर्जन ने एक 21 वर्षीय युवती के गले में हुई क्रिकेट बॉल के बराबर की थाइरोइड ग्रोथ की मेजर सर्जरी कर नया कीर्तिमान हासिल किया हैं। महिला का ऑपरेशन आयुष्मान योजना […]